TitBut


शानू मेरा पहला सेक्...
 
Notifications
Clear all

शानू मेरा पहला सेक्स अनुभव

 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

दोस्तों मेरा नाम जीतू है और मैं भोपाल में रहता हूं। ये कहानी उस समय की है जब हमारे घर में किराये पर नये किरायेदार आये।

हमारे किरायेदार की बीबी बहुत ही सुन्दर थी, वो पंजाब की रहने वाली थी और जब पंजाब की है तो सुन्दर तो होगी ही। उसका नाम शानू था। उमर होगी करीब २६-२७ साल, रंग एकदम दूध की तरह सफ़ेद। एकदम गोल-२ स्तन थे उसके। उन दिनो मैं बहुत सी व्यस्क पुस्तकें पढ़ता था। इसी वजह से मुझे छोटी सी उमर में की सेक्स का काफ़ी ज्ञान हो गया था। बस हर समय चूत मारने का दिल करता रहता था। और जब शानू आंटी को देख लेता था तो मेरा लंड पैंट फाड़कर बाहर आने को हो जाता था। शानू को कहने में भी डर लगता था क्योंकि वो तो मुझे कम उम्र समझती थी। इसलिये मुट्ठी मार कर ही काम चलाना पढ़ता था।

मैं तो शानू के स्तन देखने के लिये बेचैन रहता था। जब वो अपने कमरे में झुककर झाड़ू लगाती थी तो मुझे उसके सेक्सी स्तनों के दर्शन हो जाते थे। दोस्तो अभी तक तो मैं उसके चूचे ही देखता था लेकिन एक दिन मेरी किस्मत खुली और मैंने शानू को बिल्कुल नंगा देखा।

हुआ क्या कि मैं अक्सर उसके कमरे में जाता था ताकि मैं उसको देख सकूँ।

एक दिन मम्मी ने मुझे शानू को कुछ देने के लिये भेजा, मैं दरवाजे को बिना खटखटाये ही शानू के कमरे में घुस गया, उस समय शानू अपने कपड़े बदल रही थी और वो बिल्कुल नंगी थी। मैंने जैसे ही उसको देखा तो मेरे सारे शरीर में एक करेंट सा दौड़ गया, वो घबराकर किचन में चली गई और मैं भी कमरे से बाहर आ गया। मेरा दिल जोर-२ से धड़क रहा था क्योंकि ऐसा हसीन नजारा मैंने पहली बार जो देखा था। मुझे थोड़ा खुद पर शरम भी आई कि मैं बिना खटखटाये कमरे में चला गया, लेकिन दिल में एक खुशी भी थी कि चलो इसी बहाने मैंने शानू को नंगा तो देख लिया।

जिस दिन से मैंने शानू आंटी को नंगा देखा, तब से तो उसको चोदने की तम्मना और ज्यादा बढ़ गई। रात को बस वो ही सपनों में आती थी। शानू के पति प्रेस में थे। उनकी एक सप्ताह दिन की ड्यूटी होती थी और एक सप्ताह रात की। जब उनकी रात की ड्यूटी होती थी तो वो मुझे अपने कमरे में सोने के लिये बुला लेती थी, उन्हें अकेले सोने में डर लगता था। वो तो मुझे बच्चा समझकर सोने के लिये बुलाती थी लेकिन उन्हें क्या पता कि मैं रोज़ उनको ही सपनों में देखकर मुट्ठी मारता हूँ। रात को जब वो गहरी नींद में होती थी तो मैं धीरे-२ उनके स्तनों और कूल्हों पे हाथ फेर लेता था। दिल तो करता था कि अभी के अभी चोद दूं लेकिन डरता था कि कहीं ये मेरे घर में न बता दे।

एक दिन मैं उनके साथ कमरे में सो रहा था, शानू साड़ी पहन कर सो रही थी। ब्लाउज़ में से उनके सेक्सी स्तन बाहर आने को हो रहे थे। बूब्स को देखकर मेरे लंड का बुरा हाल हो रहा था, जब मेरे से कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने अपना लण्ड बाहर निकाला और मुट्ठी मारने लगा तो शानू आंटी नींद खुल गई और बोली- क्या कर रहा है?

मैं डर गया और बोला- मैं तो कुछ नहीं कर रहा !

फिर मैं चुपचाप सो गया। सुबह मेरे से आंटी से नजर नहीं मिलाई जा रही थी, मुझे डर था कि कहीं ये किसी को बता न दे।

अगले दिन वो मेरे से बोली- रात को क्या कर रहा था?

मैं कुछ नही बोला, शानू बोली- मुट्ठी मार रहे थे न?

मैंने कहा- हां !

वो बोली- किसके बारे में सोच रहे थे?

मैंने कहा- आपके बारे में !

शानू ने कहा- अच्छा चल ठीक है, तुझे मुट्ठी मारने की जरूरत नहीं है, तुम मेरे साथ कर लो जो करना है। आज रात को जब तू मेरे साथ सोयेगा तो हम मज़े करेंगे।

मैं मन ही मन बहुत खुश हो रहा था कि चलो चूत का जुगाड़ तो हुआ। इन्तजार के पल तो वैसे भी बहुत मुश्किल से कटते हैं, तो सारा दिन मैं रात होने की प्रतीक्षा करता रहा। रात को सोने के लिये उनके कमरे पे गया तो वो भी तैयार बैठी थी। मेरे मन में थोड़ी हिचकिचाहट भी थी क्योंकि एक तो मैंने कभी सेक्स नहीं किया था और दूसरे वो मेरे से उमर में काफ़ी बड़ी थी।

वो बोली- इतना क्यों शरमा रहा है?

फिर मैं बिल्कुल शानू के पास बैठ गया। उनको छूते ही मेरी नस-२ में आग सी लग गई। मेरा लंड एकदम तनकर पैंट फाड़ने को हो गया, आंटी बोली कि तेरे लंड को बहुत जल्दी लगी हुई है चूत में घुसने की?

मैं बोला- हां बेचारे ने कभी चूत का मजा नहीं लिया है ना !

अब मेरी शरम भी खत्म हो गई थी, मैंने शानू के ब्लाउज़ में हाथ डाल दिया और उनके स्तनों को दबाने लगा, साथ ही उनके रसीले होंठों को अपने होंठों में ले कर चूसने लगा। वो भी बहुत बुरी तरह से मेरे होंठों को चूस रही थी। मुझे बहुत मजा आ रहा था। काफ़ी देर तक हम एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे।

मैंने उनके ब्लाउज़ के हुक खोल कर उनके बूब्स को आज़ाद कर दिया, शानू के मोटे-२ बूब्स ऐसे लग रहे थे जैसे कश्मीर के सेब हों, उसके एक बूब को मैंने अपने मुँह में लिया और दूसरे को हाथ से दबाने लगा, वो सिसकियां ले रही थी। दिल तो कर रहा था कि इसके बूब्स को खा जाऊँ। शानू बोली- अकेले ही चूसते रहोगे कुछ मुझे भी चूस लेने दो !

मैं उनका इशारा समझ गया कि वो मेरे लंड को चूसना चाहती है, मैंने अपनी पैंट खोल दी। पैंट खोलते ही मेरा लंड एक झटके से बाहर आकर ऐसे खड़ा हो गया जैसे कुतुब मीनार।

उसने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और बोली- मैं तुझे बच्चा समझती थी पर तुम्हारा लंड तो तगड़ा है !

वो मेरे लंड को मुँह में लेकर ऐसे चूस रही थी जैसे कि आइस-क्रीम चूस रही हो। मैं अपना लंड उसके मुँह में अंदर बाहर करने लगा, मुझे भी लंड चुसवाने में बहुत मजा आ रहा था।

लंड चुसवाने के बाद मैंने उसे बेड पे लेटा लिया और फ़िर से उसके बूब्स को चूसने लगा। बूब्स चूसते-२ मैंने बूब्स पे जोर से काट लिया वो चिल्ला पड़ी, बोली- क्या कर रहे हो इन्हें?

मैंने कहा- तुम्हारे बूब्स हैं ही एकदम कश्मीरी सेब की तरह, दिल तो यही कर रहा है कि इन्हें खा ही जाऊँ !

शानू को मैंने अब सीधा लेटा लिया, उसने अपनी टांगे फ़ैला ली, मैं अपना लंड उसकी चूत पे रगड़ने लगा वो बोली- अब क्यों तड़पा रहे हो लंड को, अब मेरी चूत में डाल भी दो !

मैंने अपना लंड उसकी चूत पे लगा कर एक झटका मारा, मेरा पूरा लंड अब शानू की चूत में घुस गया। मैं धीरे-२ झटके मारने लगा, वो भी नीचे से गांड उठा-२ कर झटके मार रही थी। उसके मुँह से आह्हह्ह ऊह्हह्हह्हह्हह्हह की आवाजें आ रही थी। मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और जोर-२ से झटके मारने लगा। पूरे कमरे में फ़च-२ की आवाज आ रही थी, थोड़ी देर के बाद हम दोनो डिस्चार्ज हो गये और १5 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे। फिर हम दोनो अलग हो गये और दोनों ने अपने कपड़े पहन लिये।

वो बोली- क्यों ! चूत का मजा आया या नहीं?

मैं बोला- हां सच में बहुत मजा आया ! ऐसे लग रहा था जैसे कि मैं स्वर्ग में आ गया हूं।

Quote
Posted : 07/11/2010 1:47 am
CONTACT US | TAGS | SITEMAP | RECENT POSTS | celebrity pics