TitBut


दिल्ली का मालिश बॉय
 
Notifications
Clear all

दिल्ली का मालिश बॉय

 Anonymous
(@Anonymous)
Guest

सबसे पहले मैं हिमांशु, हेल्लो कहूँगा लड़कियों, आंटियों, भाभियों को जो अपना समय निकाल कर अनल्पाई.नेट पर कहानियाँ पढ़ती हैं !

अब मैं शुरू करूँगा अपनी कहानी जिसने मुझे दिल्ली का एक मशहूर मालिश बॉय बना दिया।

बात पिछले साल की है जब मैं अपने मित्र सुरेश के यहाँ उसकी माँ से पढ़ने जाया करता था। सुरेश( नाम बदला हुआ है) ग्रेटर कैलाश में एक पोश सोसाइटी में रहता है! मैं और मेरा परिवार कालका जी में रहते हैं। सुरेश और मेरी दोस्ती स्कूल में हुई और अब हम कॉलेज में एक साथ पढ़ते हैं। सुरेश की माँ सुदेशना( नाम बदला हुआ है) की उम्र लगभग 40 साल की होगी। वह बहुत सुन्दर है और उसकी काया सिक्खनी औरत की तरह है भरी हुई ! जब भी मैं उनसे पढ़ने जाता था तो अपने आप को कभी उनकी तरफ ललचाई नज़रों से देखने को रोक नहीं पाता था। मैं अपने दोस्त की वजह से कुछ भी नहीं कह पाता था। पर मुझे ऐसा लगता था कि जैसे आंटी ने मुझे उन्हें देखते हुए देख लिया था।

बात उस दिन की है जब मैं घर में किसी काम के कारण कॉलेज नहीं जा पाया और उस दिन मैंने आंटी को उनके मोबाइल पर फ़ोन करके पूछा कि आज मैं छुट्टी पर हूँ, क्या मैं अभी पढ़ने आ सकता हूँ ?

आंटी ने मुझे बताया की वो बाज़ार में हैं और अभी शॉपिंग कर रही हैं। मैंने फ़ोन रख दिया। पाँच मिनट बाद मुझे मेरे मोबाइल पर फ़ोन आया कि मैं 30 मिनट में उनके घर पहुंचूँ ! मुझे कुछ अजीब लगा, आंटी ने कहा कि वो अभी अभी मार्केट पहुँची हैं और शॉपिंग कर रही हैं, और उन्होंने अपनी खरीदारी रद्द करके मुझे पढ़ना जरूरी समझा।

यह सब कुछ सोचता हुआ मैं उनके घर पहुंचा तो देखा कि आंटी दरवाज़े पर खड़ी हैं।

हेल्लो आंटी !

हेल्लो बेटा ! क्या बात है आज कॉलेज नहीं गए क्या ? सुरेश तो गया हुआ है।

आज घर पर कुछ काम था। क्या आप अभी मुझे पढ़ा पाएंगी?

हाँ हाँ ! अन्दर आओ !

आंटी ने पीले रंग की पारभासक साड़ी पहन रखी थी और उनका बदन चमक रहा था। यह सब देख कर मेरा मन कह उठा कि किसी तरह आज आंटी को छूने का मौका मिल जाए ! लेकिन मुझे क्या पता था कि छूना तो एक शुरुआत होगी एक बड़े काम की !

मुझे अन्दर बैठा कर आंटी रसोई में चाय और खाने का सामान लाने गई ! थोड़ी देर में रसोई से किसी के ज़मीन पर गिरने की आवाज़ आई तो मैं रसोई में पहुंचा तो देखा कि आंटी फर्श पर गिरी हुई हैं। आंटी दर्द से कराह रही थी और कह रही थी- कुछ करो बेटा ! मुझे दर्द हो रहा है !

मैं भाग कर डॉक्टर को फ़ोन करने लगा तो आंटी ने आवाज़ लगाई- मुझे उठा तो लो ज़मीन से !

फिर मैं आंटी को उठा कर उनके बेडरूम में ले गया और फिर डॉक्टर को फोन करने जाने लगा तो आंटी बोली- डॉक्टर की ज़रूरत नहीं है ! मैं दवाई ले लूंगी, तुम स्टोर से ला दो !

मैं स्टोर से दवाई ले कर आया तो आंटी दर्द से कराह रही थी और कह रही थी- बेटा मेरे पैर दबा दो ! दर्द हो रहा है !

मैंने पैर दबाने शुरू किये तो कहने लगी- दर्द इससे नहीं जायेगा, तुम एक काम करो, तेल ले आओ और लगा दो !

मैं स्टोर से तेल ले कर आया तो देखा कि आंटी ने अपना पेटीकाट और साड़ी ऊपर कर रखी है और दर्द से आ ऽऽऽ ह !!!! कराह रही हैं।

वो बोली- ले आए हो तो लगा भी दो अब तेल !

मैंने पैर पर तेल लगाना शुरू किया तो आंटी अहाहहा करने लगी। धीरे धीरे मैंने देखा कि आंटी गरम हो रही हैं मैंने अपना हाथ पैरों से उनकी जांघ पर लगा दिया तो वो एक दम से कराही- आआह्ह्ह्ह!!

उनकी इस कराहट में दर्द नहीं ख़ुशी थी। मैं अपना काम करता रहा। धीरे-धीरे मैं मौका देख कर उनकी पैंटी को छू लेता। उनकी तरफ से कुछ आपत्ति न होने पर मैंने लगातार उनकी पैन्टी पर हाथ फेरना शुरू कर दिया। उनका चेहरा लाल हो गया, उनकी आंखें बंद और मेरा लण्ड मेरी पैंट फाड़ कर बाहर आना चाहता था। मैं जानता था कि बस थोड़ा और इंतज़ार करना होगा मुझे और मंजिल करीब है !

अब मैंने उनकी पैन्टी के अन्दर हाथ डालना शुरू ही किया कि वो पलट गई और बोली- उतार दे इसे ! फ़ाड़ डाल ! बहुत दिनों की प्यासी हूँ मैं ! मसल डाल मुझे !

यह सुन कर मैं पहले तो थोड़ा घबरा गया फिर अपने आप तो सँभालते हुआ उनकी पैन्टी उतार कर उनकी योनि की मालिश करने लगा ! वो कराह रही थी- आआह्ह्ह्ह!!! उंहऽऽ आ !

उनका ब्लाऊज़ निकाल कर उनके वक्ष पर मालिश करना शुरू किया तो वो पागल हो गई कहने लगी- तेरी उँगलियों में तो जादू है रे !

मेरा एक हाथ उनका चुचूक मसल रहा था और दूसरा उनकी चूत में !

अब मैंने अपना लण्ड उनके हाथ में दिया और उससे देख वो पागल सी हो गई, बार-बार उसे जोर जोर से आगे पीछे करने लगी। उसका आकार देखकर कहने लगी- ऐसा तो मैंने फिल्मों में या पत्रिका में ही देखा है !

और यह कह कर लण्ड को अपने मुँह में ले लिया !

मेरे लण्ड की मालिश कर वो बोली- अब इस लौड़े से मेरी चूत फ़ाड़ दो !

मैं लण्ड डालने लगा तो चिल्लाई- रुको, पहले कण्डोम पहन लो !

मुझे कण्डोम पहनकर डालने के लिए जोर देने लगी !

अब मैं कंडोम पहन कर खड़ा हो गया और वो कुतिया की अवस्था में हो गई और बोली- डालो ! फ़ाड़ डालो आज इसे !

मैंने जैसे ही पहली बार अन्दर डाला तो वो चिल्ला पड़ी और बोली- थोड़ी धीरे धीरे ! इतना बड़ा और भारी लण्ड मैंने कभी अन्दर नहीं लिया !

आगे पीछे और ऊपर-नीचे होकर मैंने उन्हें मैंने दो बार चोदा। फिर सुरेश के आने का समय हो गया और मैं कपड़े पहन कर जाने की तैयारी करने ही लगा था कि वोह मेरे हाथ में दो हज़ार रुपए पकड़ा कर बोली- ये लो ! आज तुमने मुझे खुश कर दिया !

तो मैंने कहा- आंटी, नहीं ! ये पैसे में नहीं ले सकता क्योंकि मैंने भी उतना ही आनन्द लिया जितना आपने !

उनके बहुत जोर देने पर मुझे पैसे रखने पड़ गए। आंटी ने मुझे होटों पर चूमा, मेरे लण्ड को बाहर से चूमते हुए मुझे गुड-बाय कहा !

एक वह दिन था और आज का दिन है। उस दिन के बाद मैंने आंटी तो कई बार चोदा, और यही नहीं उन्होंने मुझे अपनी कई सहेलियों से मिलवाया किटी पार्टी में और कभी होटल में !

और आज उस एक मालिश ने मुझे दिल्ली का एक मशहूर मालिश वाला बना दिया है। सबका यही कहना है कि तुम्हारी उँगलियों में तो जादू है, हाथ लगते ही ये किसी और दुनिया में ले जाती हैं !

Quote
Posted : 21/11/2010 4:20 pm
CONTACT US | TAGS | SITEMAP | RECENT POSTS | celebrity pics