Katrina Kaif Bondage rape
"You called me?"

The massive man swallowed the last bit of a tambaccoo and cleaned his beard with dirty fingers. He then smiled at the other man.

"Yeah."

"What's so funny? Why are you smiling?"

The massive man came around the counter, passed the other man and locked the door.
"What?"

"C'mon, I have to show you something."

"Hey, Kampu, please tell me."

Kampu was all smiles and cleaned his dirty fingers at his blue shirt.

"I have to show you our new item. We got a new toy to play with."

The other man couldn't hold himself together. He felt his cock rising.

"A girl or a guy..."

"C'mon," Kampu opened a wooden door that would lead them down into his cellar.



The stairs were creaking under the weight of the two men. An odour of old cloth and sweat was in the air when Kampu clicked on the dim light that produced more shadows than it was creating brightness.

"I have a real celebrity this time."

"Who...?"

"You know, I had to make a delivery this afternoon. Some security guys wanted to have some items delivered directly to a sort of stage. They were doing filming for a new movie."

They had reached the bottom and Kampu led his friend through the dark cellar, towards their destination.

"Some song it was. You know, and guess who the star was..."

The other man, dressed in a police-uniform, was making a gesture of total not understanding.

"Who?"

But again Kampu did not tell him. He waved his hand and pointed at another wooden door.

"There she is. Ready to get the full treatment."

The policeman was hurrying past his friend. He was already breathing heavily and the big man had to laugh when he saw how his buddy was behaving.

"You behave like you never had a fuck before...man..."

"Who...who is it man..."

"Well, she was the star of this movie, you know..."

"You already told me that...."

"And she is young..."

"Young?"

"Well, around twenty five..."

"Who...man, I will kill you when you don't tell me."

"Wait...," the big man said. He moved past the shivering man in the light blue shirt. He then opened a spy hole and pointed at the lens.

"Take a look and go down to your knees to thank me for my idea."

Kampu stepped aside and the police man bend forward to look through the little hole.
And what he saw made his jaw drop down.

There she was, dressed in a bright red suit. He wasn't sure yet whether it was leather, some sort of plastic or even patent leather. But it did not matter anyway.

He saw how the 'leather' was smoothing around her curves. He saw it at her hips, saw were the material puckered. The whole suit was like a second skin. And he could see that the beautiful girl, who was lying on the grey concrete, was in perfect shape. Midsized breasts, framed by the leather...

Her long, dark black hair was flowing down her back. And when he looked at her face, he could see all the fear in the world. She was laying on her back, arms and legs stretched out. She seemed to be breathing heavily, her eyes wide open...

"Isn't that..."

Kampu was barking his laugh of acknowledgment.

"No...It can't be...is..."

"Yeah man, that is her. Katrina Kaif...the big star in our little playground-cellar."
The thin policeman got upright, turned and looked into the face of the big man.
"I...I can't believe it....Katrina Kaif. Here...."

"You better believe it, man. She is our little toy now. And as far as I know, nobody knows that she is with us. We can have her as long as we want."

"And...and we can fuck her...all night long..."

"And all day...and all night..."

A huge smile moved onto the police-man's features. He raised his hand...

And Kampu did the same...

Their hands hit each other and they started a loud laugh that made Katrina Kaif shiver in her cold cell.

She was alone. All alone.

The walls around her were coming closer. Or, so it seemed. And it was cold in there. The light grey floor was worn out and hard. She felt it in every bone. But what made her real shiver, was the uncertainty. She did not know what the man...or the men...would do to her. She had been kidnapped...

Never, ever in her life did she waste a thought about being kidnapped. She knew she was permanently at risk. She was rich, was famous. But, no, that wouldn't happen to her. Or...would it?

Katrina sat up, wrapped her arms around her body and lifted her head. The door was locked, that she knew.

Those men were outside. She had clearly heard two voices. Men...had kidnapped her...and they would...

"No..." But yes...she knew what they would do to her.

"No, no, no..." But yes...

"No," Katrina whispered the word into her armpit and watched her own tears hitting the red leather.

"No..."

Yes, they would rape her.

"Let's go get her..."

"No..," Kampu placed a hand on his friends shoulder and turned him around.

"No? What are you talking about? I want to stick my cock into that beautiful bitch. And right now...I mean," the police-man was furious. His cock hurt, and he just couldn't hold himself together...

"So, you want her...Mhh?!"

He nodded...

"And you like that red suit, don't you?!"

Again he nodded.

"So, in order to stick your cock into her pussy, you will have to undress her. You will have to pull the so...stimulating...suit down. And..., I mean she still would be a great fuck. A naked Katrina..."

"Yes, man, of course she is great. I ... I mean I cannot fuck her through the red leather...even if I want it..."

"Yes, you can."

"What?"

The cop looked confused.

"How?"

The big man was laughing hard. His belly shook and he hit his friend again onto his shoulder.

"You remember Mahesh, that guy from the Crime branch?"

The cop thought for a moment and then he knew it.

"Yes."

"You know, he was here, this morning. And he brought a gift. Something from the lab."

This time the man in the light blue shirt did not even try to guess what is friend was talking about.

"Well, he gave me this."

He took a spray bottle from a shelf.

It was a tall bottle, dark blue, and it looked just like a normal hair spray bottle.

"What's that?"

"That is our dream comes true."

"Show me..."

"Yes, I will."

Katrina leaned back against one wall, pulled her knees close and wrapped her arms around her legs. And then the thick wooden door was unlocked.

"No!"

She screamed and did not know what to do.

"No, please..."

The door was opened and she saw the men.

One of them was tall, was the man who had pulled her into his van; the man who had kidnapped her.

"Oh God..."

She stood up and looked around...there had to be a way out...

And the other man was thin, and...it was a cop.

"Oh God, I am so glad you are here. Please help me. The man has kidnapped me, has brought me here."

The cop came closer and started smiling.

"Well, well, well....has this man kidnapped you?"

Katrina suddenly wasn't sure that this man was a cop. Why did he behave so strangely? He...

"God, you really are a beauty, aren't you."

He came closer and his face came so close that the man's nose almost touched Katrina's nose.

Than he padded her left leg. And the strangest thing was...he seemed to enjoy the sound his hand made when it hit the bright red leather.

"My dear Katrina-Superstar....do you know why you've been brought here?"

She was so afraid, was shivering...

"No..."

"Well, my friend here....," he pointed at the bulky man, "...and I am running a business..."

Katrina did not comprehend...

"Well, and this business is to have as much sexual fun as possible in one man's life."

A dark cloud started moving about the horizon...

"What...?"

"You will be fucked, Katrina. We will stick our huge cocks into this..."

And then he grabbed Katrina Kaif between her legs.

She was in shock. Her eyes wide open, Katrina forgot to breathe. She looked into the Cop's face, unable to think. And then he started rubbing over the red leather, between her thighs, over her vagina.

"No…," the girls face distorted into disgust and fear.

The man, on the other hand, smiled and did not stop stroking the red leather framing her slim body. The pure imagination that her sensitive lips, the pubic hair, the entrance into her young body were separated from his hand only by the red material he liked so much, just made him mad.

And then his other hand reached around Katrina and a second later she felt his fingers grabbing, framing, and kneading her firm ass, her left buttock.

He was closer, closer and his whole body pressed itself onto her figure.

"Oh Katrina, my darling; the three of us will be having so much fun. You will have our cocks that deep into your beautiful body that you will think they are actually parts of your body."

She turned away her face in disgust, unable to say anything.

"No, please…let me go."

He suddenly let go of her and stepped back. Then the man looked up and down on her.

"My God, this suit is certainly worth all this…."

"Let's fuck the bitch!"

The bulky man couldn't wait any longer. He had gone through all of the kidnapping procedure, that he now had no sense of patience left. He just wanted to fuck Katrina Kaif.

"Right. Let's fuck Katrina."

The cop reached out and grabbed Katrina's left wrist. Pulling the girl towards him, kicking into the knee pit, he put the actress to the ground.

Katrina screamed out in pain when his black shoe hit her and she went down.

Lying on the ground, Katrina started shivering. All of her muscles, restrained by the skin tight suit, were shaking in total panic. She realized that she was about to get raped. Raped! She just couldn't believe it. She had to get out….

But there was just no chance for her to leave her confinement. The cop and the bulky man went down to their knees, holding her body with strong fingers.

"Who will be first?"

The bulky man looked at his cop-friend.

"You brought the bitch. Why don't you stick him into this…?"

The cop again grabbed Katrina's vagina.

She held her breath, looking up at the two men, feeling the pressure between her legs. Why would they do this to her? Why?

"Why don't you get the table?"

They smiled at each other, and then the cop got up and left the bulky men with Katrina on the ground. He looked at her and let his gazes wander up and down her slim body.

"You know, Katrina, I always wanted to fuck you."

Have heartedly the girl lifted her upper body, supporting it with outstretched arms.

"Please, let me go. I… please…"

She did not know what to say; only that she had to say something. The man looked at her and laid one hand on her left thigh.

"God, this is so tight," he started stroking her leg, moving his fingers even further towards her lap.

She looked at the hairy hand, shivering slightly and expecting the worse. Like a deer she waited for doom to strike. The bulky man kept on smiling while he pushed his fingers between Katrina's legs, pushing, pressing the middle finger onto the bright red leather of her jumpsuit were underneath her vagina was.

But before the sweating man could inflict any harm to her soul he was stopped by his returning comrade. Katrina looked up, feeling a little relieve when the bulky man was stopped. Even a touch, even his hand on her leg or between…

Even the thought was unbearable.

The cop carried a wooden table into the naked room. He was smiling down on the sexy girl.

"You wonder what this is, don't you!?"

She simply nodded.

"Well, you'll see."

Then he turned to his friend.

"Bring her…"

The big man, sweating and breathing heavily grabbed Katrina's right arm and pulled her with one swift move to her feet. She screamed in pain. His grip was brutal, and the red leather twisted somehow and so did her skin.

But there was no pity, no sympathy for her suffering here.

She was pushed and pulled over to the table.

"Al right….," the bulky man now placed his hands on each hip of hers and looked into frightened eyes. He saw that there would be no resistance, no attempt to escape.

Her will was already broken. And in only one moments time he finally would fulfil his dreams. His cock already was hard like a rock.

Then he lifted her up from the ground. She was so light, so incredibly light. Like a leave in fall. He sat her down on the table. And when his hands left her hips, he grabbed her muscular thighs and spread her legs apart.

The table was a little higher than the usual one. And Katrina figured that it certainly had something to do with the upcoming rape. She looked down her body and looked, by pure incident between the legs of the fat man. His cock had risen and it was… directly opposite of her lap. So, she had been right. This table had been created in order to rape a victim. No, not any victim. This table would be her doom to come.

But…

He placed one fat hand on her left shoulder and pressed her backwards.

"Lie down and wait for me to fuck you, Katrina Darling."

She did as she was told….breathing hard, shivering and sweating. A fine layer of sweat already covered her young body and since the leather suit could not absorb the sweat, it ran down her body, between skin and leather.

But…what would they do now. Would they somehow cut the red leather between her legs in order for their cocks to ram down her body, to stick them deep into her vagina?

"Get me the spray, will ya?"

"Yes…"

Katrina couldn't see what the men were doing. She could only assume that the 'Cop' would leave the again to bring the spray. But what spray? What would they do with it…?

Katrina lay on the light brown table, starring at the ceiling, crying and pleading for help. Praying to a god that wouldn't listen.

The cop returned quickly.

"Here."

She heard the faint sound of a spray bottle being turned. That one of these men started shaking it.

"I still can't believe that something like this exists."

"But it does. It does."

"You think it does anything bad to," pause, "… him?"

No sound. They were communicating nonverbal.

And then she heard and … felt the spray. She felt it… between her legs, over her pussy.

"God… no…!"

she lifted her upper body, had to see it. What did they do to her?

But the two men did not care her attention. They seemed to be transfixed with what they did to her lower body. The cop had a plain spray bottle in his right Hand and looked at the tight, red leather between her legs.

"That should do it."

Both of them started giggling and Katrina's felt like she had to go crazy. She had no idea what those monsters did to her. She had a very good idea that those men would rape her any moment now. And she was afraid to death just by the shear thought of those men sticking their cocks into her. But what made her real crazy was the total loss of ideas to what those men were doing to her lower body.

But that would change.

The men straightened up and looked at their frightened victim. They smiled. And then the bulky man went straight to the lower end of the table, positioned himself between her firm legs. His hands found their way on top of her thighs.

"Time to test the creativity of our foriegn product."

Katrina shook her head. What?

He pressed the girl's legs apart till it hurt Katrina in the joints. She than heard the chiming sound of his belt, his zipper, his pants being opened. And, since she still was in a more upright position…took an in voluntary look at the dark coloured penis in his left hand.

A scream went over her lips.

"No…please…please don't. I... I am still….!"

All strength left Katrina's arms and she hit the table with her back. Her chest started moving heavily and she began to shiver in an unknown quality.

"No, no, no….," the young singer whispered. She couldn't even think about what was to happen. She still was…

-Oh please, not with those… not the first time….-

A groaning sound filled the room when the big and fat man stood between Katrina Kaif legs, holding his own cock in the hand. He positioned the tip over the part of the red suit where the vagina was underneath and still couldn't believe that this spray would work. Any moment now his best part would touch the cool leather, being stopped from doing his most driving desire. He would feel it on the tip… now…. Now…now…

But then something happened. Something so strange, something so unheard of… a sensation when his cock slid into the leather, when the tip instantly touched the sensitive lips, the vagina of his girl. He looked down on her, looked down between Katrina's thighs and his forehead wrinkled. It was the strangest sensation…

He saw his cock sliding deeper; feeling the lips of Katrina's vagina closing around it and still… the bright read leather seemed to be undamaged. It was like the leather had melted around his penis. Unconsciously the bulky man shook his head when… when he realized what was happening.

"Oh my God, this bitch still is a virgin!"

His cock separated the thin skin, pushed the lips apart. A little river of blood ran out of her opening, down between the red leather and her body.

Katrina Kaif screamed in pain.
She wasn't a virgin anymore.

Tears shot in her eyes. She was in the process of being raped. She had lost her virginity to a rapist. No turning back. No first time with the man she loved. No wonderful memory that she could tell her grandchildren. Robed off the one precious gift she had to give. Lost… forever. Being raped.

"A virgin?!"

The cop's voice was shrill, his scream painted in disbelieve.

"You're kidding' me!"

Katrina felt the man's cock deep inside her body. The massive, long penis filled her out, stretched her vagina. Her face distorted into a grimace of endless pain; tears streaming down her soft cheeks.

"No, man. She is….," the bulky man coughed while pushing his cock deeper into the young woman's vagina. He started pumping…

"God, she's tight!"

"Nooooo…"

Katrina's vagina went into a cramp; the pain was unbearable. And with each thrust the pain grew in intensity.

The bulky man grabbed her hips, pressing his fingers hard around the bones, hard into the skin, hearing the sound the red leather made…enjoying it.

But there was nothing in the world…no feeling, no action, no…that came close to the joy he felt while having his rock hard cock in this virgins vagina.

He pushed her hard, thrusting deep and hard into her. And her wining, her sounds of pain let his arousals grow. Faster and faster he went, noticing that the make shift table shook underneath the weight and intensity.

The cop just couldn't believe what was happening. Why had he been so dumb to let his pal take the first fuck? If he had known that this Katrina bitch was still a virgin, he would have found some excuse to be her first. God, she was a beauty.

He walked over to the side of the table, watching the uneven pair having sex. He looked her face. It was distorted by all the pain and fear. His own erection grew.

The cop let his gazes wander down her body. Her midsized tits, her flat stomach, and their… his friends cock went into the beautiful body without harming the red leather. He shook his head; this was unbelievable…

The bulky man had his eyes half closed while his fingers still held their firm grip of the girl's hips. His lower body had become a machine, self guided and without any control by him. He rammed his cock deep into the tight hole; again and again…

Subconsciously his hands let go of her hips and moved upwards over the cool, red leather. It was so incredibly erotic…skin tight, bright red, no room for any lazy fat…her figure was perfect…and he cupped her breasts, pressing them hard, hearing the sound when the leather was squeezed…

And a thought came up…

The man opened up his eyes and looked at the cop while he kept on fucking Katrina Kaif.

"The…," he couldn't find his breath, "….the sprays….!"

The cop shook his head, his forehead in a frown.

The bulky man, his head in a deep red, pointed at the actress's breasts…

And then his pal smiled; he knew what the man wanted.

He went over, grabbed the spray bottle and pointed it at the firm hills, protected by the durable leather. And he pressed the button…

A fine layer of the liquid hit the leather. The cop moved the bottle from left to right and then pulled the bottle away again. He then pointed at the breasts.

"Your pleasure…"

"Thanks man."

The bulky man coughed, breathing hard, still moving in and out of her. His big hands were hovering over Katrina's breasts. It was as if he couldn't decide whether he should touch them, whether it was working…

But then he let his hands down on the tits.

Katrina's eyes opened up and she saw everything in a blur. Blinking she tried to clear her sight from tears. She was in a state of trance. All the pain in her body seemed to be unreal, distant and not connected to her self. She felt each bump, felt the bulky man's cock entering her body each and every time. She felt… she felt his massive hands on her breasts. And when her sight had been cleared she saw his fingers … on … or more accurately in the red leather. Her suit had become somehow liquid; somehow moving around the man's fingers (and his cock)…

And the bulky man started massaging, started pressing her firm breasts.

It hurt… More tears filled her eyes and her head sank back.

A cry of pain escaped her mouth.

A cry of pain filled the small cellar room. The bulky man looked down on his prey and screamed out his satisfaction, his pain…sweet pain…sweet… He kept on moving, still …harder, even harder … his cock went deep down her body.

And, oh God, she was tight, so tight…

He was close, so close…

Pressing the warm, soft tits, pushing him self again and again into the hole. Pure lust, pure satisfaction, God, she was good.

She had closed her eyes again, holding herself on the table with hurting fingers. She felt him and was thinking that this was it. So, this was how it was… this thing in her. Her first time. How often the young woman had dreamed about her first time. How often she had thought about a man, still only a shadow, the man of her dreams.

This man was supposed to be her first lover. Love, endless love and the warm physical union. It was supposed to be a very special occasion in a woman's love. And now Katrina lay on a makeshift table in a dark cellar. She lay there, on her back, her legs spread and a fat and smelling man had pushed his fat cock into her vagina. And she still couldn't accept the fact. She couldn't believe that this ugly and violent creature was her first man.

More tears…

It hurt so much.

And then the creature began to move faster, harder. It was like he could feel the end coming. Against her better judgement Katrina opened up her eyes and looked at the fat creature between her firm thighs. She looked up and felt a difference…

He moved faster with each push…

He coughed…

Breathing faster, pushing harder…

Even harder…faster….faster…

And his fingers were digging as deep as possible into Katrina's breasts. This time holding them, not moving any longer. Only harder, deeper into them…

And then it happened…

He was screaming out loud…

His lower body hit her pelvis one last time…

Sperm shot out of this creatures cock.

Sperm shot out it and entered Katrina Kaif vagina.

Sperm shot deep into her. Sperm had entered her.

And some of it ran back out; slowly down her ass and hitting the makeshift table.

Katrina Kaif became one shivering, shaking bundle when the bulky man pulled himself out of her red and swollen pussy.

He let go of her aching breasts and stumbled backwards. The young sexy actress felt his weakening cock gliding out of her body. And when it was out, when the vagina was in a situation like minutes before, a very strange sensation filled her. Somehow she had become another person. A person detached from the innocent young lady on the table.

She wasn't stronger…

She wasn't a tough girl.

She only was different.

And after all, she became somehow more aware that she had been raped.

Katrina let her legs come together and felt the joints screaming out loud in pain. She felt the hot and burning sensation of her breasts. They had been squeezed and mistreated for some time now and the pain subsided only marginally.

And then, all of a sudden the girl figured out why she felt different, why she was another person now: -There is no joy… no joy any longer…-

As long as Katrina could remember there had been fun and an incredible sense of an open sky where everything was possible. She had led a life of possibilities, a life that had made sense, was valuable. But those days were over now. Those days…

No she was a bundle of shivering flesh. A woman, who had been raped, had been robed of her innocence. There was no joy.

The bulky man had stumbled against one of the cellar walls. There he stood, breathing heavily and felt his flesh returning to a normal state. He felt his breathing slowing down and involuntarily grabbed his pants to pull them up again. When he had closed them without looking at the zipper or the button, he looked at his friend.
And this friend, this cop, was also leaning against one of the walls where he had the broadest grin on his face.

"Good, hmm?!" A smile.

"Yeah man, real good. Why don't you take your turn?"

The cop pushed himself from the wall and moved closer to the slim woman in a read leather suit. And while he moved, he already opened up his pants.

"Katrina, honey, you are about to get the fuck of your life."

She looked at him and the cop felt immeasurable joy when he detected the fear in her features.

He saw her pressing her legs together, saw the bright red leather going into small waves. And he felt his cock rising to a state where it hurt.

"Come on, Katrina, you're not really thinking you can stop me from having a little fun with your … body, aren't you!?"

She just lay there, starring at him. She was shivering and crying and he knew she would do anything to get away from him if only she was able to.

But luckily she wasn't able to get away. No man, she wasn't…

"Alright, babe."

He had reached the slim, young woman and was standing over her now, thinking.

"What shall I do with you, babe…what shall I do?"

Suddenly the corners of his mouth lifted.

"Mhhh, babe…you want to have another pussy fuck? Or …," the cop stopped talking and the smile broadened.

"Now I know…"

And before Katrina could react, before she had the chance to form a single thought she was grabbed by her shoulders and turned around.

A scream escaped her mouth when her face hit the untreated wood of the table. She saw blood, her own blood and without thinking her hands grabbed the upper edge of the wood to hold herself. He couldn't … no, he…

-Oh God, please don't. It can't be. Please make him stop-

But God was on a vacation.

He did not listen to Katrina Kaif.

"So baby," the thin man, the cop, bent over her side till his face was close to Katrina's face.

"Ever had a cock up your….," and he padded the firm, the muscular buttocks, framed by skin tight read leather. Small sounds so typical of hitting a buttock filled the small room.

"…ever had a cock up your anus, Katrina baby?!"

It was like a bucket of ice cold water had been turned over her head. Katrina stopped moving, stopped thinking.

"No…."

"I didn't think so."

But her remark wasn't supposed to be an answer to his question. Of course she didn't have a cock in her ass before. She had never been fucked…

-No, no, no, no…God, please…please…-

"But there is a first time for everything…."

He was laughing out loud when he again hit her ass.

Katrina closed her eyes again and pressed her forehead hard onto the table.

-Don't think, don't think….-

But there was still the pain in her vagina. Still there was the pain in her breasts. There was no way she could make herself believe that everything was fine.
And there were those images her mind was creating. Images, pictures of what was about to happen. And those pictures made her just crazy.

Suddenly no word was said. She could hear herself breathing, could hear a rumbling behind her back.

A sound…

Too familiar…

The sound of horror. The signal for endless pain… a hissing sound…

Katrina Kaif was screaming on the top of her lungs when she felt the spray hitting the read leather that so far had protected her anus.

And only a short moment passed when the girl heard the sound the zipper made. She heard the chiming, heard the hard breathing of a man who was aroused.

Fingers touched her thighs from the inside and pressed them apart.

"No, no, no, no….," she whispered knowing that there was no way out.

And the thin man in his light blue shirt placed his hands on her back while he was speaking no word. There was no word to be spoken. No word left. He had told her what she had to know, what he wanted to do.

A small, a light touch on the red leather, a little more pressure, pressing…

-It's his penis….-

Tears hitting the light brown wood…

And then again there was this most peculiar sensation.

Chemicals were altering the consistency of the leather…and matter passed through.

The tip…wet…filled the small whole…

More pressure….and the buttocks gave way, were moving aside.

A loud groan…fingers pressing hard into her flesh, into her pelvic bones…

He stepped forward…giving more and more pressure, pressing his penis as hard as he was able to against Katrina's anus…

And all of a sudden the red and swollen cock entered the young woman's ass.

At first it was a slow process since the cop had to push into a part of her body that had never been used this way. But his erection was so strong, his will to perform the rape so high, that there was no real barrier. He pushed his manhood deeper and deeper, pressed her buttocks apart, and opened up the small hole.

Katrina Kaif anus was screaming out loud in total pain. Her face was a distorted grimace, a reflection of the pain she felt. Tears were starting to stream down her soft cheeks. And then he was entirely inside her ass.

The cop, his face red, streams of sweat running down his features, held the girl by her hips and started fucking her. He pushed his cock deep into the shaking body, pushed it hard, with all the lust, all the might he had. Each and every time he entered her he heard the sound of pain escaping her. He enjoyed it, loved it, felt power like he always did when he had one of those victims in this cellar. He pushed hard and without thinking his hands were gliding up the red leather. He somehow was stroking the cute girl, the celebrity. Yes, this was the ultimate satisfaction. Katrina…

He legs were shaking; her muscles almost gave way when she laid there, her front pressed to the makeshift table. Her fingers wrapped around the edge of the wood, pain soaring up her nerves. But that pain was completely wrapped in the pain she felt in her anus. Katrina felt humiliated, felt used as a piece of meat, felt less than an ant on the ground, underneath one mans boot. She felt the hot and soaring pain in the ass, felt the mans cock were it did not belong, felt him filling her ass…
And she was yelling out loud. She did not care if she was going to be punished or not. She just did not care anymore. The pain was unbearable. And each thrust of his cock brought her closer to fainting out.

Sweat was running between the red leather and her skin while the table made noises that told her that it would break down some time soon. Again and again the peace of meat was gliding into her ass, hurting her, bringing her closer to the end.

The cop only saw the slim and very beautiful girl underneath him. The only thing he regretted was that he wasn't able to see her face. Only the back of her head… but there was this magnificent body in that leather suit. It fitted her like a glove, like a second skin. And the best was that thanks to the spray he got from his pal, he was able to give it to her without removing the suit. God, he was thankful for being alive…

He pushed it again into her, heard her moaning, heart her crying and the pleasure was building up. It was the heat that came rushing; it was the pleasure, the pain in his manhood, the lust that grew. And he gave it to her, oh yes; he gave it to that little bitch. That rich little bitch. That beautiful little whore. She was suffering, he knew, but he liked it very much. He was groaning when he pushed his hurting cock deep into the slim girl's ass. He felt it being tight around him, felt it vibrating in pain and the feeling of intense pleasure grew by the second. The room spun around him and distorted in a blur. He heard his pal, heard the fat man, the bulky man say something. Yet, the cop did not comprehend it, did not comprehend anything…

Again and again he pushed himself deep into the tight hole. He heard her mumbling, heard his victim, heard… heard his own moaning as it grew louder and louder. It hurt, his cock hurt so much, but he was unwilling to stop what he was doing. The horizon came close, the road of pain, the road of pleasure thinned out when…

The cop was screaming out loud…

The girl in red was screaming…

The girl in the leather suit was screaming…

Katrina Kaif was screaming out loud when she felt him explode insider her body…

Sperm shot out of him, shot out into the depth of Katrina's ass.

Her buttocks started shaking in pain; her knees suddenly became so weak that she was not able to hold herself any longer. And even her fingers gave way…
But when the cop felt her body weakening he just grabbed her pelvis again, held her steady when he kept on pushing. He did not want this to end. He felt all there was leaving him, flooding the back of the young woman's body. He felt himself growing weaker, felt the pleasure subside. Though he did not want it, though he kept on pushing till it hurt too much, he realized that the end of this had come.

The man in the light blue shirt, with a shiny golden badge on his front, was breathing hard and felt himself relax. He looked down on the woman in red and then suddenly pulled himself out of her anus. And he still couldn't believe his eyes when he saw the red leather returning to its original state. There was no scratch, no hole, nothing that told him what just had happened. But the man had raped to many people that he did not know how Katrina's ass would looked like, right now.
It certainly was red and wet and as sure as hell there would be blood between her buttocks. The cop started laughing out loud.

"Oh man, this babe is hot."

Katrina fell down and hit the floor.

This time neither the cop nor the bulky man cared about it anymore. They were looking down on her, observing her pain. They then looked at each other and started grinning.

"What do you think?"

"Well," the cop said, "I think we keep her."

"Yeah man, it is a shame that we can't go any further right now."

Katrina looked up at her captors, her eyes red and swollen, and tears covering her face. She just had gone through hell, had been robed from her dreams and had been treated like a piece of meet. But what she had just heard turned everything else in to something not worth thinking about.

"What…?" she shook her head in disbelieves, "please don't, please…please let me go."

But the two men did not seem to care about her words.

"Don't worry; man…we'll have her in no time."

They had closed their pants and both of them looked very much relaxed when they started leaving the small cellar room.

Katrina reached out for them, begging, asking, and crying. They had to let her go…

She was too weak to stand up, her body hurt too much, but she started crawling over the light grey floor, still holding out one hand.

"Let me go!"

Her fingertips touched the cop's right leg and he shook a little; like he had been hit by light electricity.

"Don't you ever do that again, pussy hole."

Then he kicked Katrina hard into her side.

The young girl was screaming out in pain. She stopped asking her captors, stopped trying to get out, to persuade the men. Instead she rolled up in a foetal position and let the pain take over. More tears were streaming down her face while she was covered by pain.

The men left the room and the bulky man shut the door.

When they were in the other room they looked at each other again.

"What do you reckon we do to her next time?" the bulky man asked.

The cop smiled at him and caressed his own chin.

"I think young Katrina Kaif should get something to drink."

The bulky man looked at his friend. First not getting the meaning of his friends words, but soon he figured that out.

He then started laughing out loud.

"You mean something white?"

"Exactly."

The cop and the bulky man started going up the stairs to the little shop. They shook with laughter and each of them already felt the urge to pay her involuntary guest another visit.

Katrina lay broken on the floor of her cell, crying constantly. She felt empty and hollow, felt beyond pain, beyond the comprehension of her situation.
Raped, raped, raped…

Her brain was filled by that single word. She still felt a throbbing pain in her vagina and in her anus while she involuntarily shifted position in order to ease the pain.

But over all there was the threat of the future.

-They will come again… oh God, please let me go. Please….-

They would come again.

Again... and again.

And nobody knew if ever Katrina Kaif would see the sky again.
राखी सावंत का अनोखा राज़

शाम के वक्त बॉथ टब में से निकल कर राखी सावंत ने ऊँची ऐड़ी की चप्पल में पैर डालते हुए तौलिया उठाया और बाथरूम में लगे विशाल आईने में देखते हुए अपना जिस्म सुखाने लगी। आईने में खुद को निहारते हुए राखी ने अपने जिस्म पर अपने हाथ फिराये और सिलिकॉन जड़े हुए अपने बड़े-बड़े मम्मे सहलाने लगी। उसने अपने निप्पलों को खींचते हुए मरोड़ा तो वो एक दम कड़क हो गये। सिसकते हुए राखी जिस्म पर अपने हाथ फिराते हुए नीचे ले गयी। अपनी टाँगों के बीच में हाथ ले जा कर राखी ने उसे अपने हाथों में पकड़ लिया जिसके बारे में सिर्फ वो खुद और कुछ गिने-चुने लोग ही जानते थे - उसका लौड़ा!

अपने लौड़े को पकड़ कर राखी उसे अपनी मुठ्ठियों में धीरे-धीरे ऊपर-नीचे सहलाने लगी तो वो खड़ा होने लगा। आखिरकार उसका लौड़ा पूरे आठ इंच लंबा होकर बिल्कुल सख्त हो गया और राखी ने फिर खुद को आईने में निहारा।

“भैनचोद! बहुत ही कमीनी कुत्तिया हूँ मैं भी!” सोचते हुए राखी कुटिलता से मुस्कुरायी और फिर प्रियंका चौपड़ा को याद करते हुए अपने लौड़े को मुठियाने लगी जिसे वो आज सुबह ही फिल्म के सैट पर मिली थी। सिसकते और कराहते हुए राखी अपने दोनों हाथों से लौड़े पर जोर-जोर से मुठ मारते हुए ये तसव्वुर कर रही थी कि प्रियंका चौपड़ा उसका लौड़ा मुँह में भर कर चूस रही है।

“ऊँम्म्म... प्रियंका... चूस ले मेरा लंड... !” जोर-जोर से अपना लौड़ा सहलाते हुए राखी पुकार उठी। उसकी मुठ्ठियाँ बहुत ही तीव्रता से लंड पर चलने लगीं और आखिरकार वो झड़ने की कगार पर पहुँच गयी। “ओहह भैनचोद.... प्रियंकाऽऽऽ भोंसड़ी वाली!” राखी चींख पड़ी और उसके झटकते लंड में से वीर्य उछल-उछल कर तेजी से सामने सिंक और आईने पर गिरने लगा।

हाँफते हुए राखी बाथरूम से बाहर आकर बेडरूम में सोफे की कुर्सी पर निढाल बैठ गयी और धीरे-धीरे अपना लंड सहलाने लगी जिसमें से वीर्य के आखिरी कतरे अभी भी रिस रहे थे। फिर सिसकते हुए वो अपनी उंगलियों और हाथों को चाट कर अपने ही वीर्य का स्वाद लेने लगी।

अचानक उसके मोबाइल की घंटी बजी तो झटके से राखी हकीकत में वापिस लौटी और भाग कर उसने अपना फोन उठाया। “हैलो?” सोफे की कुर्सी पर वापस बैठते हुए राखी फोन पर बोली। पैरों में ऊँची ऐड़ी की चप्पल के अलावा वो अभी भी बिल्कुल नंगी थी।

“हॉय राखी! दिस इज़ मल्लिका! क्या चल रहा है मेरी जान?” फोन पर मल्लिका शेरावत की आवाज़ थी। मल्लिका की आवाज़ सुन कर राखी के होंठों पर मुस्कान आ गयी।

“ओह हॉय मल्लिका डॉर्लिंग! बस यार अभी नहा कर निकली हुँ। तू बता क्या चल रहा है? तू कब आयी अमेरिका से?” राखी ने पूछा और सोफे की कुर्सी के हत्थे पर टाँगे लटका कर लेट गयी।

मल्लिका शेरावत अमेरिका और अपनी नयी फिल्मों के बारे में मिर्च-मसाला लगा कर बताने लगी। “लेकिन सुन यार! मुझे नहीं लगता कि तू रात भर मेरी बकबक सुनना चाहेगी!” मल्लिका हंसते हुए बोली तो राखी भी उसके साथ हंस दी। “मैंने तो इसलिये फोन किया था कि अगर तू फ्री है तो चल कहीं किसी बार में मिलते हैं और कुछ मौज-मस्ती करते हैं!” मल्लिका ने पूछा।

मल्लिका की बात सुनकर राखी के कमीने दिमाग में अचानक एक खयाल आया।

“मैं तो फ्री ही हूँ! कईं दिनों से हम दोनों मिले भी नहीं हैं!” राखी बोली, “मगर बाहर जाने की बजाय क्यों ना मेरे घर पर ही मज़ा करते हैं... ड्रिंक्स, म्यूज़िक और गपशप... गॉसिप यू नो?” राखी ने मल्लिका से पूछा।

“कूऽऽल यार! मैं एक घंटे में पहुँचती हूँ तेरे घर!” मल्लिका तपाक से चहकते हुए बोली! “लेकिन यार... हैप्पी पाउडर का भी कहीं से इंतज़ाम हो जाता तो रात रंगीन हो जाती!”

“डोंट वरी यार! हैप्पी पाउडर भी है... एक दम झकास माल है...!” राखी हंसते हुए बोली। मल्लिका कोकेन के बारे में पूछ रही थी जो राखी ने दो दिन पहले ही खरीदी थी।

“ग्रेट! तो फिर एक घंटे में मिलते हैं... बॉय!” मल्लिका खुश होते हुए बोली और उन्होंने फोन काट दिया।

राखी सोफे की कुर्सी पर लेटे-लेटे ही मल्लिका के साथ मस्ती करने के बारे में सोच कर मुस्कुराते हुए एक बार फिर अपना लंड सहलाने लगी। “अभी नहीं! उस मल्लिका राँड के लिये के रुकना पड़ेगा!” राखी ने अपने मन में सोचा और लंड सहलाना छोड़ कर कपड़े पहनने के लिये उठी। पहले उसने अपने बाल सुखाये और लाल रंग की बहुत ही सैक्सी मिनी-ड्रेस पहनी। राखी ने इस बात का खास ध्यान दिया कि उसका राज़ ठीक से पैंटी में छिपा रहे जब तक कि उसे खोलने का सही वक्त ना आ जाये। फिर थोड़ा मेक-अप किया और ऊँची ऐड़ी की चप्पल बदल कर उससे भी ऊँची पेंसिल हील की सैंडल पहन ली। वो कैसे भी मल्लिका से कम नहीं दिखना चाहती थी।

जब दरवाजे की घंटी बजी तो राखी अपने ड्रॉइंग रूम में बैठी सिगरेट के कश लगा रही थी। घंटी सुनते ही उसने लपक कर दरवाज़ा खोला। सामने मल्लिका ही खड़ी थी। उसने घुटनों तक की बहुत ही सैक्सी डिज़ायनर ड्रेस पहनी हुई थी। उसकी ड्रेस का गला इतना गहरा था कि उसके मम्मे करीब-करीब नंगे ही थे और ड्रेस के दोनों साइड में कुल्हों तक कटाव था। मल्लिका के जाने-माने खास अंदाज़ के अनुसार इस ड्रेस में भी जिस्म ढंकने से ज्यादा उजागर हो रहा था। पैरों में जिम्मी-चू के बहुत ही ऊँची पेंसिल हील के सुनहरी सैंडल थे।

“अरे यार! खड़ी-खड़ी मुझे देखती ही रहेगी या अंदर भी बुलायेगी?” मल्लिका ने खिलखिला कर हंसते हुए राखी को छेड़ा। राखी ने भी हंसते हुए उसे गले लगाया और दोनों ड्रॉइंग रूम में आ गयीं। मल्लिका सोफे पर बैठ गयी और राखी अपनी सैंडल खटखटाती हुई किचन की तरफ बढ़ गयी।

“क्या पियोगी मल्लिका?” राखी ने काँच की अलमारी में से तीन-चार तरह की बोतलें निकालते हुए किचन में से पूछा।

“स्कॉच! ऑन द रॉक्स!” मल्लिका ने अपने पर्स में से मार्लबोरो सिगरेट का पैकेट निकालते हुए जवाब दिया। राखी ने मल्लिका के लिये एक ग्लास में बर्फ के साथ शिवास-रिगल स्कॉच व्हिस्की डाली और दूसरे ग्लास में अपने लिये ग्रे-गूज़ वोडका के साथ ऑरेंज जूस। फिर दोनों ग्लास लेकर वापस ड्रॉइंग रूम में वापस आ गयी। मल्लिका ने उससे अपना ग्लास लिया और एक घूँट लेते हुए बोली, “थैंक्स!”

राखी ने भी मल्लिका के बगल में बैठते हुए अपने जाम का घूँट पिया।

“यार अपार्टमेंट तो तूने बहुत ही अच्छे से सजाया है!” मल्लिका सिगरेट का धुँआ छोड़ते हुए बोली।

“थैंक्स यार! मेरी बचपन से ही इच्छा थी कि मेरा शानदार घर हो!” राखी ने थोड़ी भावुक होते हुए जवाब दिया पर फिर चहकते हुए आगे बोली, “लेकिन तू अपनी बता यार! तेरी तो खूब ऐश है अमेरिका में... सुना है बहुत शानदार पेंटहाऊज़ भी लिया है तूने वहाँ!”

अगले दस-पंद्रह मिनट दोनों इसी तरह सिगरेट और जाम पीते हुए गपशप करती रहीं। राखी के उकसाने पर मल्लिका भी हॉलीवुड के सितारों के साथ अपने चुदाई के सच्चे-झूठे किस्से बताने लगी। जब उनके ग्लास खाली हुए तो राखी फिर से उनमें जाम भरने लिये किचन में चली गयी।

मल्लिका टीवी का रिमोट लेकर चेनल बदलने लगी और फिर राखी को आवाज़ लगाते हुए बोली, “राखी डॉर्लिंग! बॉटल यहीं ले आ... नहीं तो बार-बार किचन में जाना पड़ेगा... आज तो टल्ली होने का मूड है!”

ये सुनकर राखी के हंठों पर कुटिल मुस्कुराहट तैर गयी और वो शिवास-रीगल की बोतल और ग्लास लेकर वापस आ गयी। मल्लिका अभी भी टीवी के चैनल बदल रही थी। राखी ने दोनों के ग्लास में जाम भरा और मल्लिका से सट कर बैठ गयी। चैनल बदलते-बदलते एक चैनल पर “गर्लफ्रेंड” फिल्म चल रही थी।

“आरे वाह! ये तो मेरी फेवरिट मुवी है... क्या ख्याल है!” मल्लिका चहकते हुए बोली। “हाँ मुझे भी काफी पसंद है!” राखी ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया। मल्लिका पर अपना राज़ खोलने के लिये राखी को अब सही मौके का इंतज़ार था। दोनों हिरोइनें फिल्म देखते और गपशप करते हुए अपने जाम पीने लगीं। उनका तीसरा पैग खत्म हुआ तो दोनों पर सुरूर छाने लगा और दोनों जोर-जोर से खिलखिला रही थीं। इतने में मल्लिका अपना ग्लास सामने मेज पर रख कर हंसते हुए बोली, “मादरचोद राखी! हैप्पी पाऊडर तो निकाल... एक-एक डोज़ हो जाये यार!”

“अभी लाती हूँ!” कहते हुए राखी ने अपनी सिगरेट ऐश ट्रे में बुझायी और अपने बेडरूम की तरफ जाने लगी! उसके कदमों की हल्की लड़खड़ाहट देख कर मल्लिका फिर जोर से हंसते हुए बोली, “तीन पैग में ही टल्ली हो गयी या हाई हील्स की काबिलियत नहीं है?”

“भोसड़ी की साली... अगर मेरी काबिलियत नहीं है तो दुनिया में किसी भी माँ की लौड़ी औरत की औकात नहीं है हाई हील्स पहनने की...!” मल्लिका के मज़ाक से राखी चिढ़ते हुए तड़क कर अपने बड़बोले अंदाज़ में बोली, “ये तो सिर्फ पाँच इंच ऊँची हील है... मैं तो इससे भी ऊँची हील पहन कर मैराथन रेस दौड़ सकती हूँ... वो भी स्कॉच की पूरी बोतल गटकने के बाद!”

“अरे...अरे तू तो नाराज़ हो गयी मेरी जान.... मैं तो बस मज़ाक कर रही थी!” मल्लिका ने जोर से हंसते हुए कहा तो राखी कुछ नहीं बोली और कोकेन लाने अपने बेडरूम में चली गयी। “जब मेरा लौड़ा तेरी गाँड में घुसेगा तो तुझे मेरी काबिलियत का पता चलेगा...!” राखी ने अपने मन में सोचा।

कोकेन की शीशी ले कर जब राखी बाहर आयी तो मल्लिका उससे बोली, “सॉरी यार... लेकिन तू साली इतनी भड़क क्यों जाती है...?”

“ऐसी ही हूँ मैं! चल छोड़ अब... ये रहा हैप्पी पाउडार!” राखी मुस्कुराते हुए बोली और फर्श पर घुटानों के बल बैठकर कोकेन की शीशी खोली और मेज पर सफेड पाउडर की दो लकीरें बना दीं। मल्लिका ने भी अपनी सिगरेट ऐश ट्रे में टिकायी और सोफे से उतर कर ज़मीन पर घुटनों के बल बैठ गयी।

“बहुत ही झकास माल मिला है इस बार! ज़रा संभल कर खींचना!” एक सौ रुपये का करारा नोट रोल करके मल्लिका को पकड़ाते हुए राखी बोली। मल्लिका ने वो रोल किया हुआ नोट अपनी नाक से लगाया और आगे झुक कर पाऊडर की एक पुरी लकीर अपनी नाक में सुड़कते हुए खींच ली और अपनी सिगरेट और स्कॉच का ग्लास लेकर वापस सोफे पर बैठ गयी। पाउडर की दूसरी लकीर राखी ने अपनी नाक में सुड़क कर खींची और वो भी उठ कर मल्लिका की बगल में बैठ गयी।

“उम्म्म! वाकय... बहुत स्ट्रॉंग बैच है!” मल्लिका ने आँखें बंद करके नशा महसूस करते हुए कहा। फिर दोनों बिना बोले अपने-अपने जाम की चुस्कियाँ लगाते हुए फिल्म देखने लगीं। राखी बीच-बीच में मल्लिका की ड्रेस के गहरे क्लीवेज में से झाँकते मम्मों को अपनी कमीनी नज़रों से देख लती थी।

“इस मुवी में का सबसे बोल्ड सीन तो अब आयेगा!” मल्लिका सिगरेट का धुँआ छोड़ते हुए बोली। दोनों टीवी की पचास इंच बड़ी स्क्रीन पर अमृता अरोड़ा और ईशा कोप्पिकर का लेस्बियन सीन बहुत ही दिलचस्पी से देखने लगीं। राखी ने सोचा की अपनी चाल चलने का ये बहुत ही बढ़िया मौका है।

“कितना मज़ा आया होगा ना दोनों छिनालों को... है ना?” राखी ने सहजता से पूछा।

“मज़ा..? मतलब इन दोनों को लेस्बियन सीन करने में....?” मल्लिका ने अपने जाम का घूँट लेते हुए कहा। उसके चेहरे पर शंका के भाव मौजूद थे।

“हाँ... मेरा मतलब लेस्बियन सैक्स में भी तो काफी मज़ा आता है.. है कि नहीं!” मल्लिका के चेहरे की तरफ देखते हुए उसे टटोलने के मकसद से राखी ने मुस्कुराते हुए पूछा। उसे डर था कि कहीं मल्लिका बिदक ना जाये।

“हाँ! इसका भी अपना ही मज़ा है!” मल्लिका ने लापरवाही से कहा।

“तो कभी लिया है मज़ा तूने लेस्बियन सैक्स का?” राखी ने अपना जाम दो घूँट में खत्म किया और ग्लास को मेज पर रख कर सीधे बैठते हुए बहुत ही उम्मीद भरी नज़रों से मल्लिका को देखा।

“हाँ... अगर दूसरा कोई ऑपशन ना हो और कोई अच्छी सैक्सी पर्टनर हो तो कभी कभार ये मज़ा भी कर लेती हूँ!” आँख मरते हुए मल्लिका हंस कर बोली।

“तो मेरे बारे में ख्याल है? मेरा मतलब मुझसे ज्यादा खूबसूरत और सैक्सी पर्टनर तो तुझे कहीं नहीं मिलेगी!” राखी इतराते हुए बोली और मल्लिका और राखी दोनों जोर से खिलखिला कर हंसने लगी। दोनों इस वक्त अच्छे खासे नशे में थीं। दोनों कोकेन के साथ-साथ शिवास-रीगल की आधी बोतल खत्म जो कर चुकी थीं।

राखी ने आगे बढ़ कर अपना हाथ मल्लिका की ड्रेस के कटाव में से उसकी नंगी मुलायम जाँघ पर रख कर फिराने लगी।

“ऊँम्म्म! राखी... तेरा हाथ मेरी जाँघ पर है!” राखी को नशीली आँखों से देखते हुए मल्लिका फुसफुसाते हुए बोली।

“तो क्या हुआ मेरी जान... मैं तूझे खा तो नहीं जाऊँगी!” कहते हुए राखी मल्लिका के और करीब खिसक कर उससे सट गयी।

“बस एक चुम्मा..!” राखी बोली और धीरे से अपने होंठ मल्लिका के होंठों पर रख दिये और चूमने लगी। मल्लिका ने भी कोई विरोध नहीं किया। बॉलीवुड की दोनों आइटम गर्ल आपस में एक दूसरे से अपने होंठ चिपकाये और एक दूसरे के मुँह में अपनी जीभ डाल कर चूसते हुए कुछ देर तक चूमती रहीं।

मल्लिका ने अचनक बीच में चूमना रोका और सोफे पर पीछे टिक कर बैठ गयी।

“क्या हुआ स्वीटी-पाई... मज़ा नहीं आया?” राखी ने पूछा।

मल्लिका के हाथ में अभी भी सिगरेट और ग्लास मौजूद था। “मज़ा तो बहुत आया पर पहले ये तो खत्म कर लूँ!” कहते हुए उसने झट से अपना जाम एक घूँट में गटक लिया और आधी सिगरेट ऐश-ट्रे में बुझा दी। “अब बोल कुत्तिया! क्या इरादा है?” मल्लिका शरारत भरी आवाज़ में बोली।

“इरादा तो बिल्कुल नेक नहीं है...!” कहते हुए राखी ने फिर अपने होंठ मल्लिका के होंठों से चिपका दिये और अपनी जीभ भी उसके मुँह में घुसेड़ दी।

“मम्म्मऽऽऽऽ!” अपने होंठों पर राखी के होंठ और अपने मुँह में उसकी जीभ से अपनी जीभ रगड़ते हुए मल्लिका सिसकने लगी। राखी ने मल्लिका की ड्रेस में अपना हाथ डाल कर उसके मम्मे मसलना शुरू कर दिया।

“क्या बोलती है... आगे बढ़ना है या रुक जाऊँ अब?” मल्लिका के मम्मे सहलाते हुए राखी ने शरारत से पूछा। मल्लिका भी वासना भरी नज़रों से राखी को देखते हुए बहुत ही धुर्तता से मुस्करयी। “रुक मत यार... चालू रख... बहुत ही मस्त माल है तू!” कहते हुए मल्लिका ने राखी का चेहरा फिर अपने पास खींच कर उसके होंठों पर अपने होंठ चिपका दिये। उनकी जीभें फिर आपस में एक दूसरे से गुँथ गयीं और राखी फिर से मल्लिका के सुडौल मम्मे अपने हाथों से रगड़ने लगी।

“रुक ज़रा! तेरा काम आसान कर देती हूँ!” मल्लिका बोली और आगे खिसक कर उसने अपनी ड्रेस के पीछे की ज़िप खोल कर अपनी ड्रेस उतार कर फेंक दी। अब उसके जिस्म पर सिर्फ छोटी सी काली पैंटी और टाइट काली ब्रा और पैरों में सुनहरी रंग के ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल मौजूद थे। मुस्कुराते हुए अपने हाथ बढ़ा कर राखी मल्लिका के मम्मों को ब्रा के ऊफर से मसलने लगी।

“क्या बात है राँड! लगता है अमेरिका में खूब रगड़वाये हैं ये मम्मे....मुझे तो कॉम्प्लेक्स हो रहा है....!” मल्लिका के मम्मे दबाते हुए राखी हंस कर बोली।

मल्लिका ने भी खिलखिलाते हुए राखी के मम्मे ड्रेस के ऊपर से दबाये और बोली, “साली... तू मेरा मज़ाक उड़ा रही है...? मेरे मम्मों से तुझे कॉम्प्लेक्स होगा...? भैनचोद तेरे ये ३६-सी मम्मे तो बॉलीवुड में सबको कॉम्प्लेक्स देते हैं...!”

मल्लिका ने उसके मम्मे ज़ोर से दबाये तो राखी मस्ती से कराहा उठी। उसके चुचक कड़क हो गये। “ऊऊऊहहहऽऽऽ.... ज़ोर से मसल इन्हें... मममऽऽऽ”, राखी ने कराहते हुए मल्लिका की ब्रा के हुक खोलकर उसके मम्मे नंगे कर दिये। मल्लिका ने आगे होकर बैठते हुए अपनी खुली ब्रा उतार कर एक तरफ फेंक दी और अपने मम्मे पकड़ कर हिलाते हुए राखी से पूछा, “अब बता... कैसे लग रहे हैं मेरे बूब्स?”

“बहुत ही मस्त और रसीली चूचियाँ हैं...!” कहते हुए राखी झुक कर मल्लिका के दोनों मम्मों बारी-बारी से चाटने लगी।

“ऊँम्म्म... चूस ले मेरे बोबे...!” कहते हुए मल्लिका ने ज़ोर से राखी का चेहरा अपने मम्मों पर दबा दिया। मल्लिका की उत्तेजना देख कर राखी खुश हुई और उसका एक मम्मा अपने मुँह में ले कर उसका निप्पल चूसना शुरू कर दिया। अपना सिर पीछे की ओर झुका कर मल्लिका उत्तेजना से कराहने लगी... “येस! ऐसे ही चूस मेरे मम्मे... मेरी जान... रुकना मत... उममऽऽऽ!”

राखी ने मल्लिका के मम्मे चूसते हुए अपनी ड्रेस ऊँची की और मल्लिका का एक हाथ ले कर अपनी जाँघों के बीच में रख दिया। उसे लगा कि यही सही मौका है... मस्ती और उत्तेजना के आलम में मल्लिका को अपने अनोखे राज़ से अवगत करवाने का।

“ओहहहऽऽ... राखी.... क्या मस्त है... मेरी जानू... तेरी जाँघें म-मक्खन... मैं... मैं.....” सिसकते हुए मल्लिका राखी की जाँघों पर अपना हाथ फिराने लगी और धीरे-धीरे सहलाते हुए उसका हाथ ऊपर फिसलता हुआ राखी की पैंटी के ऊपर से उसके उभार पर पहुँच गया। राखी ने मल्लिका के निप्पल चूसना और मम्मे दबाना ज़ारी रखा। अचानक मल्लिका ने उसका चेहरा अपने मम्मों से दूर करते हुए उसे रोका।

“भेनचोद... ये क्या अटपटाँग है?” राखी के लंड का उभार अपनी मुठ्ठी में दबते हुए मल्लिका हैरानी से बोली। उसकी नज़र जब अपनी मुठ्ठी उस सख्त उभार पर पड़ी तो उसने झट से अपना हाथ पीछे खींच लिया। “ओ मॉय गॉड! माँ की लौड़ी... छक्की साली... यू फ्रीक...!” हक्की-बक्की सी होकर मल्लिका ज़ोर से चींखी और सोफे से उठ कर खड़ी हो गयी। । शराब और कोकेन का नशे में अचानक इस सदमे से वो अपना आपा खो बैठी थी। उसने ज़मीन पर से अपनी ड्रेस उठायी और बदहवास सी बिना ड्रेस पहने ही लड़खड़ाते कदमों से दरवाज़े की तरफ भागी।

“रुक यार.... मल्लिका! मेरी बात तो सुन... मैं सब बताती हूँ!” राखी ने उसे रोकने के लिये मिन्नत की तो मल्लिका ने पलट कर गुस्से और नफ़रत से देखा। “तेरी माँ का भोंसड़ा... साली तू समझती क्या है... तेरी हिम्मत कैसे... कुत्तिया की औलाद....!” मल्लिका ने दहाड़ते हुए कईं गालियाँ बकी और फिर दरवाज़ा खोलने कि कोशिश करने लगी लेकिन उसके हाथ काँप रहे थे।

राखी भी लपक कर मल्लिका के पीछे गयी और दरवाज़े पर हाथ रख कर एक बार फिर मिन्नत की, “ऐसे मत जा यार... मैं सब समझाती हुँ तुझे!”

“हट मादरचोद... ज़लील कहीं की... जाने दे मुझे!” मल्लिका फिर जोर से चिल्लाते हुए बोली और दरवाज़ा खोलने की कोशिश करने लगी।

राखी ने मल्लिका की बाँह पकड़ कर उसे जोर से घुमाया और धक्का दे कर दरवाज़े के सहारे खड़ा कर दिया। “सुन भैन की टकी...”, राखी के स्वर में अब कुटिलता थी। “मैं अब तक प्यार से मिन्नतें कर रही थी पर लगता है तू ऐसे नहीं मानेगी!” राखी ने मल्लिका के हाथ से उसकी ड्रेस खींच कर एक तरफ फेंक दी। राखी का बदल हुआ अंदाज़ और अपनी बाँह पर राखी की मजबूत जकड़ और उसे दरवाज़े के सहारे सटा कर जिस तरह से राखी ने उसे घेर रखा था, उससे मल्लिका बुरी तरह घबरा गयी।

“मुझे दर्द हो रहा है... राखी... मैं बस जाना चाहती हूँ यहाँ से!” मल्लिका खुद को राखी की जकड़ से छुड़ाने की कोशिश करते हुए बोली। राखी ने मल्लिका की आँखों में झाँका और उसके होंठों पर बहुत ही कुटिल मुस्कान आ गयी। “नहीं मेरी जान...! तू नहीं जाना नहीं चाहती है... मैं बताती हूँ कि असल में तू क्या चाहती है...!” राखी तीखे स्वर में बोली और अपने दूसरा हाथ अपने पीछे ले जाकर अपनी ड्रेस की ज़िप खोलने लगी।

मल्लिका घबरायी हुई सी राखी को ड्रेस की ज़िप खोल कर उसे उतारते हुए देखने लगी। राखी ने अपनी ज़िप खोली और अपनी कमर और गाँड हिला-डुला कर ड्रेस को अपने बदन से नीचे ज़मीन पर पैरों के पास गिरा दिया।

“ले... अब तू मेरी पैंटी खिसका नीचे!” राखी जोर गरजते हुए बोली। राखी की धौंस के आगे मल्लिका विरोध नहीं कर सकी और धीरे से राखी की पैंटी घूटनों तक नीचे खिसका दी। जैसे ही पैंटी टाँगों से फिसलती हुई नीचे राखी के पैरों पर गिरी तो उसका अनोखा राज़ खुलकर लहराने लगा। मल्लिका हक्की-बक्की सी राखी की टाँगों के बीच में लहराता हुआ लौड़ा देखने लगी जो अब धीरे-धीरे अकड़ने लगा था। “चल अब पकड़ इसे अपने हाथों में... साली कुत्तिया... मुझे पता है... तू भी यही चाहती है ना... चल सहला इसे अब!” राखी ने मल्लिका की बाँह अपनी जकड़ से आज़ाद की और प्यार से मल्लिका के गाल सहलाने लगी।

“म-मैं.... नहीं.... ये तो...!” मल्लिका हकलाने लगी। राखी उसका गाल सहलाते हुए उसे देखकर मुस्कुरा रही थी। राखी ने मल्लिका की गर्दन के पीछे हाथ ले जा कर मल्लिका के बालों को अपनी मुठ्ठी में जकड़ कर खींचा और गुस्से से दहाड़ी, “ये तो... ये तो क्या भोंसड़ी? सुन राँड कुत्तिया! दुनिया भर के लौड़ों से तू अपनी चूत और गाँड मरवाती घूमती है... तो मेरा पकड़ते हुए क्यों तेरी गाँड फट रही है... मैं कोई अजूबा नहीं हूँ... तेरी तरह ही चुदासी औरत हुँ... बस चूत की जगह लंड है मेरे पास! शी-मेल हूँ मैं! चल पकड़ इसे और प्यार से सहला!”

मल्लिका ने धीरे से हाथ बढ़ा कर राखी का लण्ड अपने हाथ में पखड़ पकड़ लिया। वो अभी भी विचलित सी थी लेकिन राखी का लण्ड अपने हाथ में लेकर उसे मुठियाने लगी। “ऊँम्म्मऽऽऽ... ये हुई ना अच्छी राँड वाली बात...!” अपने सख्त होते लंड पर मल्लिका के नरम हाथ के स्पर्श से राखी सिसक पड़ी।

मल्लिका ने नीचे देखा तो राखी की टाँगों के बीच में आठ इंच का सख्त लौड़ा देख कर हैरान रह गयी। वो अभी भी वहाँ से भाग जाना चाहती थी लेकिन राखी के इतने बड़े राज़ के प्रति एक अजीब सा आकर्षण भी महसूस कर रही थी। थोड़ी देर वो मंत्रमुग्ध सी राखी का लौड़ा सहलाती रही जब राखी ने अचानक उसे रुकने को कहा। “चल गाँडमरानी कुत्तिया! अंदर चलते हैं!” कहते हुए राखी उसे हाथ पकड़ कर अंदर ले गयी।

ड्रॉइंग रूम में आकर राखी सावंत ने मेज पर कोकोन की दो लकीरें बनायीं और पहले रोल किये हुए सौ के नोट से एक लकीर अपनी नाक में सुड़क कर मल्लिका से बोली, “ले तू भी एक और डोज़ खींच ले...! साली तूने तो सारा नशा ही उतार के रख दिया!” मल्लिका झुक कर कोकेन की दूसरी लकीर अपनी नाक में खींचने लगी। इतने में राखी दो ग्लास शिवास रिगल व्हिस्की से लबालब भर दिये!

“मादरचोद! मेरे पीने की काबिलियत पर हंस रही थी ना... ले अब एक साँस में मेरे साथ गटक कर दिखा तो पता चले कि तेरे में कितना दम है!” कहते हुए राखी ने एक ग्लास मल्लिका को पकड़ा दिया। मल्लिका इतनी हिली हुइ थी कि इस वक्त उसे नशे की बहुत ज़रूरत थी। राखी ने चियर्स कहा और दोनों ने गटागट अपने-अपने ग्लास खाली कर दिये।

राखी ने फिर मल्लिका का हाथ पकड़ कर खींचा और उसे बेडरूम की तरफ ले कर चल पड़ी। दोनों पर भरपूर नशा सवार था और ऊँची हील की सैंडल में दोनों लड़खड़ाती हुई चल पड़ी। कोकेन के नशे में दोनों जैसे हवा में उड़ रही थीं। राखी के इरादों का सोच कर मल्लिका अभी भी थोड़ी बेचैन थी। बेडरूम का दरवाज़ा खोल कर राखी ने मल्लिका अंदर खींच लिया।

बेडरूम का दरवाज़ा बंद करके राखी नशे में डगमगाती और मुस्कुराती हुई मल्लिका की तरफ बढ़ी। उसकी टाँगों के बीच में तना हुआ लंड झूल रहा था। मल्लिका की नज़र राखी के लण्ड पर ही टिकी थी। राखी जब उसके बिल्कुल सामने आ कर अपने चूतड़ों पर हाथ रख कर खड़ी हुई तो मल्लिका फुसफुसायी, “उम्म्म राखी.... यार... मुझसे न-नहीं होगा... थोड़ा अजीब...!”

राखी हंसते हुए बीच में ही बोली, “क्या रे राँड! अब छोड़ भी दे ये नखरा... क्या अजीब है इसमें... समझ की टू-इन-वन.... लंड वाली औरत के साथ मज़ा करने को मिल रहा है... लेस्बियन सैक्स के साथ-साथ असली लंड से चुदाई का मज़ा!”

मल्लिका के मम्मे अपने हाथों से सहलाते हुए राखी आगे बोली, “वैसे भी अगर सच में तुझे लगता कि तुझसे नहीं होगा तो तू यहाँ तक मेरे साथ बेडरूम में नहीं आती।” राखी ने उसके मम्मे सहलाये तो मल्लिका के मुँह से सिसकियाँ निकलने लगीं, “ऊँम्म्म्म आँआआऽऽऽ प्लीज़... रहने दे... ऊँम्म्म!”

राखी ने उसके मम्मे सहलाना और चूमना ज़ारी रखा। खड़े-खड़े दोनों नशे में डगमगा रही थीं। मल्लिका ने आखिर में राखी से पूछा, “तू क्या करना चाहती है!”

राखी खिलखिलायी और नशे में उसका संतुलन बिगड़ गया और वो डगमगाती हुई पीछे गिरते हुए दीवार से सट कर खड़ी हो गयी। “मैं नहीं... तू करेगी...!” राखी अपने लौड़े को हाथ में लेते हुए बोली।

“न.. नहीं... मैं...!” मल्लिका ना-नुक्कार करने लगी तो राखी ने उसे अपने पास खींचा और उसके कंधे पर हाथ रख कर ज़ोर से उसे नीचे बैठने के लिये दबाव डाला। नशे के धुंधलके में भी मल्लिका को अजीब सा लग रहा था कि राखी उससे अपना लौड़ा चूसने को कह रही है। वैसे तो लौड़ा चूसना उसे बहुत पसंद था और उसने कितने ही लौड़े अपने मुँह में लेकर उनका वीर्यपान किया था लेकिन ये लौड़ा अनोखा था - एक औरत का लौड़ा था!
“अरे नखरे ना कर चूतमरानी... खूब मज़ा आयेगा!” मल्लिका को घुटनों के बल नीचे दबाते हुए राखी बोली।

राखी सावंत के लण्ड को अपने हाथ में लेते हुए मल्लिका ने नज़रें उठा कर राखी को देखा। मल्लिका अभी भी कशमकश में थी। एक तरफ तो तना हुआ लौड़ा उसे ललचा रहा था लेकिन ये बात खटक रही थी कि ये राखी का, एक औरत का लण्ड था। मल्लिका को असमंजस में देख कर राखी थोड़े गुस्से से बोली, “अब ये ढोंग ना कर कि जैसे तुझे पता ही नहीं कि लण्ड कैसे चुसना है!” राखी ने मल्लिका के बालों को अपनी मुठ्ठी में कस कर जकड़ते हुए अपना लण्ड उसके चेहरे के सामने करके उसके होंठों पर रगड़ते हुए फुफकारी, “चल साली दो टक्के की राँड! खोल अपना चुसक्कड़ मुँह और शुरु हो जा!”

मल्लिका ने धीरे से अपना मुँह खोला और लण्ड का सुपाड़ा मुँह में भर लिया। उसकी गरम साँसें अपने लण्ड पर महसूस करते हुए राखी आहें भरने लगी। उत्तेजना में बेसब्री से राखी ने मल्लिका के बालों में अपनी जकड़ और मजबूत करते हुए अपना लण्ड उसके मुँह में ठेल दिया, “चूस साली... चूस ये ज़नाना लण्ड!” मल्लिका अपनी सहेली का लण्ड मुँह में अंदर बाहर करके उसे चूसने लगी। मल्लिका को कामुक्ता से अपना लण्ड चूसते देख राखी मस्ती में सिसकने लगी, “हाँआँऽऽऽ.... बहुत खूब... राँड! चूस मेरा लण्ड... मर्दों के लण्ड से ज्यादा दम है मेरे ज़नना लण्ड में... उमममऽऽऽ!”

मल्लिका शेरावत ज़ोर-ज़ोर से अपने मुँह में अंदर-बाहर करते हुए लण्ड चूसने लगी तो राखी ने उसके बालों में अपनी जकड़ ढीली कर दी। मल्लिका ने राखी के लण्ड से अपने होंठ हटाये और थूक से चीकने आठ इंच लंबे लण्ड पर मुठ्ठी चलाते हुए ऊपर राखी के चेहरे को देखा। “मज़ा आ रहा है... छक्के की गंदी गाँड की पैदाइश!” मल्लिका ने राखी के लंड को जोर से भींच कर मुठियाते हुए पूछा।

“हाँ चुदैल कुत्तिया! चूस... और चूस!” मल्लिका का चेहरा अपने लंड पर वापस खींचते हुए राखी मस्ती में सिसक कर बोली।

फिर से अपना मुँह खोल कर मल्लिका ने अपनी सहेली का लंड अपने मुँह में भर कर चूसना शुरू कर दिया। लण्ड चूसने के मज़े में मल्लिका की सारी हिचक हवा हो चुकी थी। वो पूरी मस्ती में ज्यादा से ज्यादा लण्ड मुँह में अंदर लेकर चूस रही थी और लण्ड की टोपी अब उसके गले में धक्के मार रही थी।

“ओहह उहहह ऊ~म्म्म.... और अंदर तक ले... मेरी प्यारी राँड!” राखी फुसफुसायी और मल्लिका का सिर पीछे से पकड़ कर दबाने लगी। सहेली का लण्ड अचानक मल्लिका के गले के नीचे फिसलने लगा तो दम घुटने से उसके गले में से ऊऊघघऊँऊँऽऽऽ की आवाज़ निकलने लगी। लण्ड चूसने में मल्लिका काफी अभ्यस्त थी। उसने नाक से साँस लेते हुए अपने गले को ढील दी। राखी ने देखा कि उसका समूचा लण्ड धीरे से मल्लिका के मुँह में समा गया।

“ओहह... भैनचोद... उम्मऽऽ... चूस ले लौड़ा... गटक ले पूरा... कुत्तिया की लवड़ी!” राखी मस्ती में चिल्लायी। मल्लिका ने राखी का लण्ड अपने गले में चंद सेकेंड के लिये रखा और अपना हाथ बढ़ा कर राखी के टट्टे मलते हुए खींचने लगी। मल्लिका की इस करतूत से राखी ज़ोर से करहाने और सिसकने लगी।

मल्लिका ने जब लण्ड अपने मुँह से बाहर निकाला तो उसके होंठों और लण्ड की टोपी के बीच में थूक की मोटी सी तार सी बंध गयी। राखी ने अपने लिसलिसे लंड पर हाथ फिराते हुए मल्लिका पर नज़र डाली। नशे के मारे मल्लिका अपने घुटनों के बल और देर तक बैठ नहीं सकी और ज़मीन पर टाँगें पसार कर बैठ गयी।

“चल मेरी जान... पैंटी उतार कर बेड पर चढ़ जा...!” राखी बोली।

मल्लिका मुस्कुराई और मुश्किल से किसी तरह खड़ी होकर लडखड़ाती हुई बेड तक पहुँची और बेड पर गिरते हुए धम्म से लेट गयी। उसने अपने घुटने मोड़ कर टाँगें उठाते हुए अपनी पैंटी उतार दी। अब मल्लिका शेरावत बेड पर सिर्फ ऊँची पेंसिल हील के सैंडल पहने मादरजात नंगी, अपनी टाँगें चौड़ी फैलाये लेटी थी। राखी भी नशे में लड़खड़ाती बेड तक आयी और अपनी सहेली की टाँगों के बीच में झुक गयी। मल्लिका की चूत और गाँड बिल्कुल साफ सुथरी और चिकनी थीं। बाल के एक रेशा भी कहीं मौजूद नहीं था।

“हायऽऽ कितनी रसीली चिकनी चूत है... मेरे मुँह में तो पानी आ रहा है...!” कहते हुए राखी झुक कर मल्लिका की चूत के आसपास जीभ फिराने लगी। चूत-रस में पूरी तरह से भीगी हुई मल्लिका की चूत और जाँघें उसकी उत्तेजना की गवाही दे रही थीं। मल्लिका को सताने के लिये राखी चूत के आसपस के हिस्सों पर ही जीभ फिरा रही थी और कभी-कभी अपनी जीभ उसकी क्लिट या चूत के होंठों के करीब ले आती।

“आआआहहऽऽ क्यों सता रही है माँ की लौड़ी... ऊँम्मऽऽ... प्लीज़ऽऽऽ!” मल्लिका तड़प कर कराहने लगी। अपना हाथ मल्लिका की चूत के होंठों पर रख कर राखी उन्हें रगड़ने लगी। मल्लिका की चूत भीगी होने के साथ-साथ बहुत ही गरम भी थी।

“मममऽऽऽ... तेरी छिनाल चूत तो बिल्कुल तैयार है... बोल कुत्तिया... क्या चाहती तू?” राखी ने पूछा तो मल्लिका अपनी कोहनियों के सहारे थोड़ा सा उठी और बहुत ही धूर्तता से मुस्कुराते हुए बोली, “साली... अब तड़पाना छोड़ मुझे.... और मेरी चूत चाटना शुरू कर राँड की झाँट!” फिर वापस लेट कर अपने मम्मे रगड़ते हुए निप्पलों को मरोड़ने लगी।

राखी अपना चेहरा बिल्कुल मल्लिका की चूत के ऊपर ले गयी और धीरे से चूत के होंठों पर ऊपर नीचे चाटने लगी। चूत का खट्टा-मीठा रस बहुत ही स्वादिष्ट था। राखी की जीभ जब चूत के होंठों को चाटते हुए उनके बीच में घुसने लगी तो मल्लिका आहें भरने लगी, “ऊऊऊहहह.... मममऽऽऽ... हाँऽऽऽ...!” अपनी जीभ चूत में अंदर ठेलते हुए अब राखी मल्लिका की क्लिट रगड़ रही थी। मल्लिका शेरावत की क्लिट फूल कर बहुत ही कड़क हो गयी थी।

ऊँऊँ और गूँ-गूँ गुनगुनाती हुई राखी अपनी जीभ से मल्लिका की चूत चोदने लगी और अंदर रिस रहे अमृत का स्वाद लेने लगी। मल्लिका की चूत अंदर भट्टी की तरह गरम थी।

“ओहह भैनचोद! खा जा मेरी चूत!” मल्लिका जोर से चींखी और राखी ने उसकी चूत पर अपनी जीभ का हमला ज़ारी रखा। जीभ से चाटने के साथ-साथ राखी सावंत अब अपनी दो उंगलियाँ मल्लिका की चूत में घुसेड़ कर अंदर बाहर करने लगी और दूसरे हाथ से उसकी क्लिट को भी खींच और मरोड़ रही थी। मल्लिका ने तो कामोत्तेजना और मस्ती में जोर-जोर से चींखते-कराहते हुए अपने चूतड़ उचकाने शुरू कर दिये और राखी की उंगलियों के सम्मुख अपनी चूत ठेलने लगी।

मल्लिका शेरावत ने एक हाथ बढ़ा कर राखी का सिर थाम कर थाम चूत पर उसका चेहरा दबा दिया। “ओह हाँऽऽऽ.... चूस... चाट इसे... आँआँऽऽ!” जब राखी अपनी तीसरी उंगली भी उसकी चूत में घुसेड़ कर जोर-जोर और तेजी से ठोंकने लगी तो मल्लिका की कराहें और सिसकियाँ और भी तेज़ हो गयीं।

मल्लिका की चूत अपनी उंगलियों से चोदते हुए राखी ने सिर उठा कर मल्लिका को देखा जो इस वक्त कामवासना भरी मस्ती मे छटपटा रही थी। “ले साली हरामी कुत्तिया! मज़ा आ रहा है ना... ले और जोर से ले!” राखी बोली। मल्लिका झड़ने के कगार पर थी और जोर-जोर से कराह रही थी। “च-चोद मुझेऽऽऽ.... मैं गयीऽऽऽ... आआआआईईईऽऽऽऽ!” अपने चूतड़ जोर-जोर से हिलाती हुई मल्लिका जोर से चींखी और उसका चूत रस छूट कर राखी के हाथ पर बहने लगा।

राखी ने अपनी उंगलियाँ मल्लिका की चूत में से निकालीं और मल्लिका की क्लिट पर रगड़ने लगी तो मल्लिका उत्तेजना से चिहुँक पड़ी। फिर बिस्तर पर और ऊपर खिसकते हुए मल्लिका नरम तकिये पर सिर रख कर अपनी साँसें काबू करने लगी। राखी भी उसके बगल में आ कर लेट गयी तो मल्लिका उसे देख कर मुस्कुराई। मल्लिका की चूत रस से भीगी उंगलियाँ मल्लिका के होंठों पर रखते हुए राखी प्यार से बोली, “ले साली... चाट कर देख... बहुत ही मस्त स्वाद है!” मल्लिका ने अपना मुँह खोलकर अपनी जीभ बाहर निकाली और राखी की उंगलियाँ चूसती हुई अपनी ही चूत का रस चाटने लगी।

राखी की उंगलियाँ चाट कर साफ करने के बाद मल्लिका अपने होंठों पर जीभ फिराते मुस्कुरा कर हुए बोली, “मज़ा आ गया जान... तूने कितनी बखूबी चूसी मेरी चूत!” राखी ने साईड टेबल से सिगरेट का पैकेट उठया और दोनों सिगरेट सुलगा कर अगल-बगल लेटी हुई कश लगाने लगीं। राखी अपना हाथ मल्लिका के पेट पर फिराती हुई उसकी मुलायम और पसीने से थोड़ी नर्म त्वचा महसूस कर रही थी। मल्लिका ने शरारत से मुस्कुराते हुए नीचे की तरफ राखी की टाँगों के बीच में उसके फुदकते लण्ड को हसरत से देखा।

“जानेमन! मेरे पास तेरे काम की एक और मज़ेदार चीज़ है!” राखी बिस्तर पर बैठते हुए बोली। सिगरेट का अखिरी कश लगा कर उसने सिगरेट का टोटा झुककर ऐश-ट्रे में रखा और मल्लिका की टाँगों के पास खिसक गयी। फिर मल्लिका की टाँगें चौड़ी करके उनके बीच में आ कर अपना लौड़ा सहलाने लगी।

मल्लिका बस सिगरेट का कश लगाती हुई राखी की तरफ देखकर दाँत निकाल कर मुस्कुरने लगी। “अच्छा? ऐसी कौन सी चीज़ है तेरे पास?” मल्लिका इतराते हुए बोली। जवाब में राखी ने अपना लौड़ा मल्लिका की भीगी चूत पर जोर से चटका कर मारा तो मल्लिका चींखती हुई उछल पड़ी। “आआऊऽऽ! माँ की लौड़ी... या कहूँ कि माँ का लौड़ा!” मल्लिका हंसते हुए बोली।

राखी के शी-मेल लण्ड से चुदने के ख्याल से मल्लिका अपने होंठों पर जीभ फिराने लगी और अपने हाथ नीचे ले जा कर अपनी चूत के होंठ फैला कर चूत खोल दी। राखी उसकी चूत और क्लिट के ऊपर अपने लण्ड का सुपाड़ा रगड़ने लगी तो मल्लिका मिन्नत करते हुए बोली, “प्लीज़ राखी चोद मुझे... अब सब्र नहीं हो रहा.... चोद दे मुझे अपने अनूठे लण्ड से!”

राखी सावंत ने हरमीपने से मुस्कुराते हुए अपना लौड़ा मल्लिका की चूत में धीरे से अंदर ठेलना शुरु किया। चूत को फैलाते हुए जैसे ही लण्ड अंदर घुसने लगा तो मल्लिका ने अपना होंठ दाँतों में दबा कर काट लिया।

“तैयार है ना मेरे लण्ड के लिये... कुत्तिया राँड?” अपने लण्ड का सुपाड़ा मल्लिका की गरम चूत में घुसेड़ कर राखी ने रुकते हुए पूछा। मल्लिका ने बस सिर हिला कर हामी भरी और अपनी बाँहें आगे बढ़ा कर राखी को अपने नज़दीक खींच लिया। राखी ने मल्लिका शेरावत पर झुकते हुए अपना बाकी लौड़ा भी उसकी चूत में ठेलना शुरू कर दिया और मल्लिका की चूत की गर्मी अपने लौड़े पर घिरती हुई महसुस होने लगी तो राखी ने झुक कर मल्लिका के होंठ चूम लिये। राखी का आठ इंच लंबा तगड़ा लण्ड अपनी चूत में लेने में मल्लिका को ज़्यादा मुश्किल नहीं हुई क्योंकि उसे मूसल लण्ड लेने का काफी अनुभव था। अमेरिका में भी कईं हब्शियों के मोटे-मोटे काले लौड़ों से चुदवा चुकी थी।

“ऊम्मऽऽऽ... येस्सऽऽऽऽ... राखी... चोद दे मुझे.... मेरी राँड...!” मल्लिका धीरे से सिसकी और राखी के होंठ चूमने लगी और उनकी जीभें आपस में गुथमगुथा हो गयीं। राखी भी वापस मल्लिका को चूमते हुए उसकी जीभ चूसने लगी और उसकी चूत का कसाव अपने लौड़े पर महसुस करते हुए मल्लिका की चूत में अपना लौड़ा अंदर बाहर ठेलना शुरू कर दिया।

“हाय री... कितनी गरम चूत है... ऊँम्म्म... मज़ा ले तू भी मेरे लौड़े का...!” राखी बोली और बैठ कर पीछे झुकते हुए उसने मल्लिका की टाँगें पकड़ कर हवा में ऊपर उठा लीं और जोर-जोर से लण्ड उसकी चूत में पेलना शुरू कर दिया।

अपनी चूत में राखी के लंड के ज़बरदस्त धक्कों का मज़ा लेती हुई मल्लिका ज़ोर-ज़ोर से कराहने और सिसकने लगी। राखी का समूचा लौड़ा मल्लिका की चूत को फैलाते हुए अंदर बाहर हमला कर रहा था। “ओह हाँ... चोद.. चोद मुझे! हायऽऽ चूत की चटनी बना दे.. हाँऽऽ!” मल्लिका चींखने लगी।

राखी ने चोदना ज़ारी रखा। मल्लिका की टाँगें अपने कंधों पर टिका कर वो पूरी ताकत से अपना लंड इस तरह सटासट उसकी चूत में चोद रही थी कि राखी के टट्टे मल्लिका की गाँड पर टकरा-टकरा कर वापस उछल रहे थे। “ऊँह ऊँह... ले कुत्तिया... ले मेरा लण्ड... ये ले कुत्तिया...!” मल्लिका को छटपटाते देख कर राखी बोली।

मल्लिका अपने मम्मे पकड़ कर अपने निप्पल खींच कर उमेठने लगी। मल्लिका को चोदते-चोदते राखी के दिमाग में कुछ फितुर उठा और चोदने की रफ्तार धीमी करते हुए उसने मल्लिका शेरावत की चूत में से लण्ड बाहर खींच लिया। “क्या हुआ... भैनचोद! रुक क्यों गयी कुत्ती साली!” मल्लिका झल्लाते हुए गुस्से से बोली। उसके चेहरे पर खीझ साफ-साफ झलक रही थी।

राखी मुसकुराते हुए बोली, “तेरे जैसी कुत्तिया को चोदने के लिये दूसरा तरीका है.... चल पलट कर अपनी गाँड उघाड़ कर कुत्तिया बन जा...!” मल्लिका दाँत निकाल कर मुस्कुराते हुए घूम कर पलट गयी और अपनी गाँड राखी की तरफ करके कुत्तिया बन गयी। “थोड़ा प्यार से करना मादरचोद! बहुत नाज़ुक है मेरी गाँड!” मल्लिका मज़ाक करते हुए शोखी से बोली।

मल्लिका की गाँड का कोन देखते ही राखी समझ गयी कि मल्लिका ने खूब गाँड मरवायी हई है। उसने ज़ोर से मल्लिका के चूतड़ों पर तीन -चार चपत जमा दीं। मल्लिका चूतड़ हिलाते हुए चिहुँक कर चिल्ला पड़ी। “संभल कर छिनाल! कहा ना नाज़ुक गाँड है!” मल्लिका फिर हंसते हुए बोली। “हाँ वो तो दिख रहा है कि कितने लंड डकार चुकी है तेरी गाँड!” राखी ने उसके चूतड़ों पर एक और चपत लगायी।

“हाँ लेकिन तेरे जैसा मूसल लण्ड लेने की आदत नहीं है!” मल्लिका बोली। राखी ने झुक कर उसके चुतड़ फैलाये और उसकी गाँड के छेद के आसपास जीभ से चाटने लगी। “वोआऽऽ! चाट मेरी गाँड कुत्तिया!” राखी ने अपनी जीभ उसकी गाँड में अंदर घुसायी तो मल्लिका मस्ती में चहकते हुए बोली। मल्लिका की गाँड अपनी जीभ से मारते हुए राखी एक हाथ से उसकी भीगी हुई चूत भी रगड़ने लगी और अपनी उँगलियों से उसकी तन्नायी हुई क्लिट भी मसलने लगी। उसका हाथ मल्लिका की चूत के रस से भर गया।

राखी की जीभ का मज़ा लेते हुए मल्लिका ने भी अपने दोनों हाथ पीछे अपने चुतड़ों पर रख कर उन्हें फैला दिया। राखी ने अपनी एक उंगली गाँड में घुसेड़ कर अंदर-बाहर करनी चालू की तो मल्लिका कूद पड़ी। “ऊँऊँम्म्मऽऽऽ....राखीईईऽऽ...!” कराहते हुए मल्लिका ने खुद को राखी के हवाले छोड़ दिया। राखी ने अपनी उंगली थोड़ी बाहर निकाली और एक और उंगली उसके साथ अंदर घुसेड़ कर मल्लिका की गाँड फैला दी। दोनों उंगलियाँ गाँड में अंदर-बाहर करते हुए वो बार-बार गाँड के छेद पर थूक रही थी। जब मल्लिका की गाँड थूक से लिसलिसी हो गयी तो राखी ने अपनी उंगलियाँ बाहर निकालीं।

“चल मेरी राँड... तैयार है ना गाँड में लंड लेने के लिये!” अपने लंड पर थूक कर उसे मलते हुए राखी बोली। फिर उसने बहुत ही ज़ोर से एक चपत राखी के चूतड़ पर जमायी और उसे अपने चूतड़ फैलाने को कहा। मल्लिका ने जैसे ही अपने हाथ पीछे ले जा कर अपने चूतड़ फैलाये तो उसे राखी के लंड का चिकना सुपाड़ा अपनी गाँड के छेद पर महसूस हुआ।

राखी का लण्ड अपनी गाँड में घुस कर अंदर फैल कर चीरता हुआ महसूस हुआ तो मल्लिका की चींख निकल गयी। “आआईईई! दुख रहा है... हरामज़दी... प्लीज़...” तकिये में अपना चेहरा धंसाते हुए मल्लिका कराही लेकिन राखी ने उसकी परवाह किये बगैर अपना लौड़ा मल्लिका की गाँड में ठूँसना ज़ारी रखा। मल्लिका के चूतड़ों को पकड़ कर राखी उसकी गाँड में अपना लौड़ा अंदर बाहर करती हुई पम्प करने लगी। “ऊँम्म्म्म... बहुत टाइट है... कुत्तिया तेरी गाँड... हाँऽऽऽ...” अपने लंड पर मल्लिका की कसी हुई गाँड की मजबूत पकड़ से राखी भी कराह उठी और अपने लौड़े को गाँड में अंदर बाहर फिसलना शुरू होते देखने लगी।

“ओहह चोद.... आँआँऽऽऽ... मेरी गाँड”, मल्लिका कराही। “चोद मुझे.. राखी भैनचोद!” राखी ने अपना पुरा लंड गाँड में जोर से ठाँस दिया तो मल्लिका चिल्लाई। राखी अब जोर-जोर से मल्लिका की गाँड में गहरायी तक अपना आठ इंच लंबा लण्ड ठोकते हुए चोद रही थी और उसके टट्टे मल्लिका की चूत पर ज़ोर-ज़ोर से थपक रहे थे। अपना एक हाथ बढ़ा कर राखी नीचे ले गयी और मल्लिका की तरबतर चूत पर फिराते हुए उसकी चूत का फूला हुआ दाना रगड़ने लगी। “बहुत ही मज़ेदार गाँड है तेरी... ऊँहह...” अपने टट्टों में वीर्य उबलता हुआ महसूस हुआ तो राखी कराही। मल्लिका भी झड़ने लगी तो वो ज़ोर -ज़ोर से चींखने लगी और राखी को अपने हाथ पर मल्लिका की चूत फूटती हुई महसुस हुई।

राखी ने अपना वो भीगा हुआ हाथ बढ़ा कर मल्लिका के चेहरे के सामने कर दिया और मल्लिका हाँफते हुए अपनी चूत का रस चाटने लगी। “मैं भी झड़ने वाली हूँऽऽ.... मेरी जान!” राखी कराही। अब और ज्यादा टिकना उसके बस में नहीं था और उसने झट से अपना लंड मल्लिका की गाँड में से बाहर खींच लिया।

मल्लिका की गाँड का छेद फैल कर पुरी तरह से खुला रह गया और जैसे ही वो पलट कर अपनी कमर के बल लेटी तो राखी उसके दोनों तरफ घूटने मोड़ कर उसकी छाती पर बैठ कर अपना लौड़ा ज़ोर-ज़ोर से मुठियाने लगी। “ओहहह मादरचोद। मैं झड़ी.. आआईईईऽऽऽ!” अपना लौड़ा मल्लिका के चेहरे के सामने करते हुए राखी चींख पड़ी। वीर्य की पहली बौछार उछल कर सीधी मल्लिका के माथे पर पड़ी और आँखों में बहने लगी। वीर्य की बाकी बौछारें मल्लिका के मुँह में, चेहरे गर्दन और मम्मों पर गिरीं।

“ओहहह रंडी कुत्तिया की चूत! ले... ये ले मेरे लंड का अमृत!” मल्लिका के चेहरे पर अपन वीर्य दागती हुई राखी कराहने लगी। मल्लिका ने अपना सिर उठा कर राखी का लौड़ा अपने मुँह में लिया और उसमें से वीर्य के आखिरी थक्के चूसते हुए अपनी गाँड का स्वाद भी लेने लगी। फिर राखी का लण्ड हाथ में पकड़ कर उसके सुपाड़े पर मल्लिका अपनी जीभ फिराने लगी। “तेरे लण्ड से तो मेरी गाँड की सैक्सी खुशबू आ रही है और मसलेदार स्वाद भी।” मल्लिका हंसते हुए बोली और राखी भी थक कर मल्लिका के बगल में पसर गयी।

“मेरे अमृत का स्वाद भी किसी से कम नहीं है...!” राखी इतराते हुए बोली और मल्लिका के चेहरे और मम्मों से अपना वीर्य चाटने लगी। फिर राखी ने झुक कर अपने होंठ मल्लिका के होंठों पर रख दिये और दोनों एक दूसरे के मुँह में राखी का वीर्य अदल-बदल करने लगीं। उसके बाद घमासान चुदाई से थक कर दोनों आइटम-गर्ल एक दूसरे से लिपट कर आरम करने लगीं।

“तुझे मालुम है... तेरा फोन आया तब ही मैंने सोच लिया था कि अपना राज़ तेरे साथ खोल कर चुदाई करुँगी... मगर यकीन नहीं था कि तू मेरा साथ देगी या नहीं!” मल्लिका के बाल सहलाते हुए राखी बोली। “एक बार तो मैं भी डर गयी थी... अचानक तेरा लण्ड देख कर लेकिन अच्छा हुआ जो तूने मुझे रोक लिया!” राखी के मम्मों पर अपना सिर रखते हुए मल्लिका बोली। नशे और थकान से दोनों एक दूसरे के आगोश में सो गयीं।


Read More Related Stories
Thread:Views:
  Katrina Kaif fucked by WWE Superstars 17,548
  Katrina Kaif ki Chudai Once More 56,390
  Katrina kaif Spanked Hard by V-Mallaya 28,183
  Katrina kaif's First day in Bollywood 49,878
  Bollywood Actress Katrina kaif Gangbang Sex Story 128,176
  Super Chick Katrina kaif in Banquet Hall 25,050
  Katrina kaif Chudai Fantasy Story 92,224
  Katrina banged on a Bed in a Hotel 32,108
 
Return to Top indiansexstories