मेरी नौकरानी सरोज
आप सभी ने मेरी जिंदगी की सबसे पहली सेक्सी घटना ' बुआ ने मुझे चोदा" को बहुत पसंद किया उसका धन्यवाद !

आज मैं आप सबको अपनी जवानी के दिनों की बहुत ही अच्छी घटना के बारे में बताने जा रहा हूँ ! जब मैं 18 साल का था, मेरी एक जवान नौकरानी थी सरोज, वो भी लगभग मेरे ही जितनी थी। गजब की सुन्दर थी और बड़ा ही मादक और खूबसूरत बदन था उसका ! बिल्कुल अनछुई और कच्ची कलि थी !

मेरी कई गर्ल फ्रेंड से भी ज्यादा सेक्सी और सुन्दर थी वो ! शायद यही वजह थी कि मैं एक नौकरानी की कमसिन जवानी पर मर मिटा था ! तब मेरा घर के बाहर ही जनरल स्टोर हुआ करता था ! और जनरल स्टोर में भी सरोज ही साफ सफाई किया करती थी ! जब भी वो झुक कर झाड़ू-पौंछा करती थी तब मैं उसके बड़े-बड़े, गोरे-गोरे और कसे स्तन देखता था, बाथरूम में जाकर उसको चोदने का सोच सोच मुठ मारता था, पर उससे बात कैसे करूँ, कैसे उसे चोदूँ, उसकी छोटी सी गुलाबी चूत कैसी होगी? यही सोचता रहता था !

एक बार जब मेरी मम्मी कुछ दिनों के लिए नानी के घर गई तो मेरे छोटे भाई बहन को भी साथ में लेकर गई, पापा भी रोज सवेरे अपने काम पर चले जाते थे। तो मैंने सोचा कि यही समय हैं सरोज से दोस्ती करने का ! बात बन गई तो अच्छा नहीं तो किसी को पता भी नहीं चलेगा !

मैंने धीरे-धीरे काम के बहाने से ही उससे बातचीत चालू की, बीच बीच में उसे हँसाने की भी कोशिश करता था, उसे भी शायद अच्छा लगता था।

एक-दो दिन में उससे अच्छी दोस्ती हो गई। मैं कभी-कभी मजाक में उसके ऊपर और उसके कसे कमीज़ पर थोड़ा सा पानी डाल देता था। वो गीली हो जाती थी तो उसकी ब्रा और वक्ष दिखते थे। मैं उसके आस पास ही रहता था, बड़ी ही मादक खुशबू आती थी उसके अनछुए कमसिन जिस्म से !

एक दिन दोपहर को मैं जल्दी दुकान बंद करके और घर के बाहर का दरवाजा बंद करके अन्दर आ गया ! सरोज जाने वाली थी, मैंने उसे बहाना बना कर थोड़ी देर रुकने के लिए कहा तो वो मान गई ! मैं उससे मजाक करने लगा ! थोड़ी देर बाद वो फिर जाने लगी तो मैंने नया बहाना बनाया कि मुझे बहुत भूख लगी है और वो अपनी पसंद का कुछ अच्छा बनाकर मुझे खिलाये !

वो फिर मान गई !

मैंने सरोज से फिर मजाक करना चालू किया, इस बार उसने भी मेरे साथ मजाक किया।

मैंने सरोज को मजाक में बोला- मेरे साथ ज्यादा बात मत कर, वरना मैं तुझे उठा कर पटक दूंगा बाथरूम में ले जाकर शॉवर के नीचे ! फिर भीगी बिल्ली बन कर घर जाना !

इस पर उसने कहा- जाओ-जाओ ! बहुत देखे हैं तुम्हारे जैसे !

मैंने सोचा कि अच्छा मौका है !

पर मुझे थोडा सा डर लग रहा था, इसलिए मैं सीधा बाथरूम में गया, मैंने एक भरा हुआ मग पानी लाकर उसकी ड्रेस के ऊपर डाल दिया, जिससे सरोज अच्छी-खासी गीली हो गई !

मैंने कहा- अब बोल ? और अब ज्यादा बात करेगी तो सोच ले कि तब तो तू गई ! पूरा नहला दूंगा, फिर मुझे मत बोलना !

मेरा लंड खड़ा हो चुका था। फिर जैसे ही मेरा ध्यान थोड़ा सा हटा, उसने मेरे सर पर भी पानी डाल दिया !

मुझे जिस मौके की तलाश थी वो मिल गया था !

मैंने उसे बोला- अब तो तू गई काम से !

और पीछे से उसकी कमर से पकड़ कर उठाया जिससे मेरे हाथ उसके वक्ष के ऊपर थे ! मैं तो मदहोश हो रहा था, सरोज को जबरदस्ती बाथरूम के अन्दर ले गया ! वो अपने को हँसते हुए छुड़ाने की कोशिश कर रही थी !

पर मेरी पकड़ उसके बदन पर मजबूत थी ! बाथरूम में जाकर मैंने शॉवर चालू कर दिया और उसके साथ भीगने लगा !

उसने कहा- अब प्लीज़ छोड़ दो !

मैंने भी उसे छोड़ दिया और हम दोनों बाथरूम से बाहर आ गए ! वो लगभग पूरी भीग कर कयामत ही लग रही थी।

मैं तो पागल हुआ जा रहा था पर किसी तरह अपने पर काबू रखा और उसे कहा- देखा, अब मेरे से पंगा मत लेना !

वो फिर से मुझे चिड़ाने लगी !

अब मैंने सोच लिया कि अब तो मैं इसे चोद कर ही रहूँगा !इस बार मैने सरोज को पीछे से सीधे उसकी चूचियाँ ही पकड़ कर उठाया और बाथरूम में ले गया और शॉवर चालू कर दिया। वो फिर से हँसते हुए छुड़ाने की कोशिश करने लगी ! पर अब मेरे सब्र का बांध टूट चुका था, मैं उसे पागलों की तरह चूमने लगा, उसके स्तन दबाने लगा शॉवर के नीचे ही !

फिर मैं ज्यादा देर न करते हुए सरोज को चूमते हुए, स्तन दबाते हुए कमरे में लेकर जाने लगा पर अब वो मेरे इरादे समझ चुकी थी इसलिए वो रोने लगी और अपने पूरे जोर से अपने आप को छुड़ाने लगी। पर मैं तो पागल हो चुका था, मैंने उसे बेड पर पटका और जल्दी से अपने कपड़े उतार दिए। वो लगातार हंसे जा रही थी और मुझे छोड़ने के लिए भी कह रही थी पर मैं कहाँ सुनने वाला था, मैं उसके ऊपर चढ़ गया।

मैं उसे नंगा करना चाहता था, उसकी प्यारी चूत और बड़े और गोरे स्तन देखना चाहता था और चाटना चाहता था। पर उसके विरोध और बहुत हाथ चलाने के कारण कुछ कर नहीं पा रहा था, क्योंकि उसकी कमीज़ बहुत कसी थी, ज्यादा जोर लगाने से फट जाती तो बाहर कैसे जाती वो और मेरी पोल खुल जाती !

फिर मैंने दिमाग से काम लिया, उसके सर की तरफ जाकर उसके हाथों को अपने घुटनों के नीचे दबा दिया ताकि उसके हाथ चलना बंद हो सके और में उसकी कमीज़ और सलवार उतार सकूँ !

मेरा विचार काम कर गया, मैंने उसकी कमीज़ और ब्रा उतार दिए। क्या गोरी-गोरी चूचियाँ थी उसकी और क्या गुलाबी चुचूक थे उसके ! गरीब के घर अप्सरा पैदा हुई थी ! मैं तो जन्नत में आ गया था !

वो हंस-हंस कर मुझे छोड़ने को कह रही थी मगर मैं उसके चुचूक को चूसने लगा और खूब चूसा, और होंठों पर भी जोर से चूम रहा था। धीरे-धीरे उसका विरोध ख़त्म हो रहा था ! अब वो चुपचाप मेरा साथ देने लगी, मज़ा लेने लगी।

मैं फिर उसके ऊपर आ गया और पागलों की तरह उसे चूमता और चूचियाँ चूसता जा रहा था और वो जोर जोर से सिसकारियाँ ले रही थी।

आगे क्या हुआ जल्दी ही लिखूँगा !
अब मैं निश्चिंत होकर उसके ऊपर आ गया और उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया। उसकी चड्डी चूत-रस से गीली हो चुकी थी और अपनी मादक खुशबू से मुझे पागल किये जा रही थी।

मैंने उसकी चड्डी भी उतार दी और खुद भी पूरा नंगा हो गया ! अब हम दोनों नंगे थे। उसकी चूत फ़ूल चुकी थी- क्या गोरी चूत थी उसकी ! और ऊपर से सुनहरे रोयेंदार बाल !

मुझे तो ऐसा लग रहा था जैसे मैं अंजेलिना जोली या करीना कपूर की चूत देख रहा हूँ !

उसकी चूत का दाना और फांके मुझे जानवर होने पर मजबूर कर रहे थे।

मैंने धीरे से एक उंगली सरोज की चूत के अन्दर डाल दी और उंगली से उसे चोदने लगा।

वो तड़प उठी और सिसकारने लगी। फिर मैंने उसकी चूत के अन्दर अपनी जीभ घुसेड़ दी और उसकी चूत चाटने लगा। सरोज उचक-उचक कर तड़पने लगी और सिसकारने लगी, उईईइ अह्ह्ह्हह की आवाज़ें निकलने लगी।

मैंने भी उसको जीभ से चोदने की गति बढ़ा दी और उसकी चूत को पागलों के जैसे चूसने और चाटने लगा। अचानक उसे मुझे जकड़ लिया और मेरा मुँह अपनी चूत के ऊपर और जोर से दबा दिया !

वो झड़ गई थी !

मैंने उसके चूत-रस का स्वाद चखा ! बड़ा ही रसीला और मादक था। जैसे मुझ पर नशा चढ़ गया, उसे भी बहुत आनंद आ रहा था और मुझे ख़ुशी हो रही थी कि अब मैं इस कुँवारी चूत को तरीके से चोद सकता हूँ।

सरोज एकदम से बेसुध होकर बिस्तर पर ही लेटी हुई थी परम-आनन्द के नशे में ! वो जन्नत की सैर कर रही थी !

पर अब तो असल चुदाई शुरू होने वाली थी क्योंकि अब मेरे लंड महाराज की बारी थी जो बहुत देर से अकड़ कर खड़े थे।

मेरा लंड इतना अकड़ चुका था कि अगर मैं उसकी प्यास जल्दी नहीं बुझाता तो मेरा लंड बम की तरह ही फ़ट जाता।

अब मैंने सरोज को सीधा लिटाया और उसकी दोनों टांगें फैला दी। अब सरोज होश में आ रही थी, उसने मेरा मोटा और लम्बा लंड देखा तो डर सी गई।

मैंने उसे समझाया- कुछ नहीं होगा ! अब तुझे असली जन्नत की सैर कराता हूँ !

वो भी चुदना चाहती थी !

अब मैंने फिर से उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी और उसकी चूत को अच्छे से पूरा गीला कर दिया लंड अन्दर डालने के लिए !

मैंने अपने लंड का सुपारा उसकी कोमल चूत के ऊपर रखा और उसके चुचूक और होंठ चूसते हुए एक जोर का धक्का मारा। मेरा लंड उसकी चूत की झिल्ली फाड़ते हुए आधे से ज्यादा घुस गया। सरोज को जोर का दर्द हुआ क्योंकि उसकी चूत फट गई थी। उसके चीखने से पहले ही मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबा दिया और थोड़ी देर के लिए रुक गया। मुझे लग रहा था कि उसकी चूत से गर्म-गर्म खून निकल रहा है। वो रोती जा रही थी और तड़प रही थी। में उसे जोर से चूम रहा था और उसके स्तन सहलाता जा रहा था ताकि वो सामान्य हो जाये !

थोड़ी देर बाद वो शांत हो गई, उसका दर्द कम हो गया था। सो मैंने धीरे-धीरे लंड को अन्दर-बाहर करना शुरु किया।

अब वो अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा साथ दे रही थी पर लंड पूरा अन्दर नहीं गया था। फिर से मैंने उसको जोर से चूमते हुए एक झटका मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया !

वो तड़पने लगी पर अब मैं कहाँ रुकने वाला था, मैं उसे पागलों की तरह चूसते-चाटते जोर जोर से चोदने लगा !

अब वह भी उचक-उचक कर चुदवा रही थी, सिसकारियाँ लेकर- उईईई आहऽऽ आईईई !

मैं तो जंगली बन चुका था और उसे बेतहाशा चोदे जा रहा था। अचानक एक बार फिर उसने मुझे जोर से जकड लिया। मैंने अपनी गति और तेज कर दी, पूरा कमरा मेरे लंड के अन्दर-बाहर होने की फच्च्क फच्च की आवाज़ों से भरा हुआ था।

अब सरोज फिर से झड़ गई थी और निढाल होकर लेट गई। अब मेरी झड़ने की बारी थी, मैं तेज-तेज़ उसे चोदे जा रहा था और मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया।

उसकी चूत मेरे वीर्य से भर गई !

मैं सरोज के ऊपर ही लेट गया !

थोड़ी देर बाद मैं उठा, पर सरोज नहीं उठ पा रही थी। अचानक उसकी नज़र चादर पर पड़ी और खून देखकर उसके होश उड़ गए ! वो डर गई और जोर से रोने लगी और कहने लगी- मैं सबको बता दूंगी !मैं डर गया और उसे मनाने लगा ! उसे अपनी जिंदगी की दुहाई दी ! आगे कभी ऐसा नहीं होगा- कहकर उसके पैरों में गिर गया, जिससे वो मन जाये, क्योंकि वो पैसों की लालची नहीं थी। वो बहुत अच्छी थी इसलिए उसने मुझे माफ़ कर दिया।

मैं उसे उठा कर बाथरूम में ले गया। उसने अपने को साफ किया। चादर भी धो दी। मैंने उसे दर्द की गोली दी ताकि उसे दर्द न हो और किसी को पता न चले।

मैं उसे चोद कर बहुत खुश था !

वो चली गई ! उसने किसी को कुछ नहीं बताया !

कुछ दिन लगे उसे मेरे साथ सामान्य होने में !

बाद में मैंने उसे और भी कई बार चोदा जब घर पर कोई नहीं होता था।

कुछ साल बाद हमने वो कालोनी छोड दी ! और उसकी भी किसी गाँव में शादी हो गई !

आज तक मुझे सरोज जितना मज़ा किसी और लड़की ने नहीं दिया ! वो सर्वोत्तम थी !

ये थी मेरी असली और सबसे प्यारी कथा ! कुछ और भी असली किस्से हैं, बाद में आपके सामने लेकर आऊंगा।

मेरी दास्ताँ कैसी लगी, मुझे जरुर मेल करें ! धन्यवाद !
 


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
  नौकरानी की कुंवारी बेटी Le Lee 0 3,750 06-01-2017
Last Post: Le Lee
  हमारी नौकरानी सरीना Penis Fire 10 38,425 04-12-2014
Last Post: Penis Fire
  नौकरानी Sex-Stories 3 25,936 09-10-2013
Last Post: Sex-Stories
  कुँवारी नौकरानी की चुदाई Sex-Stories 4 14,465 03-18-2013
Last Post: Sex-Stories
  कुंवारी नौकरानी Sex-Stories 2 13,788 12-10-2012
Last Post: Sex-Stories
  नौकरानी ने बताया लंड छोटा या बड़ा नही होता Sex-Stories 10 25,682 11-17-2012
Last Post: tanya.dalal
  मेरी नौकरानी पूनम Sex-Stories 4 23,188 05-27-2012
Last Post: Sex-Stories
  कुँवारी नौकरानी की चुदाई SexStories 4 24,918 03-15-2012
Last Post: SexStories
  मेरे दीदी की नौकरानी - रेखा Sexy Legs 53 115,570 11-14-2011
Last Post: Sexy Legs
  मेरी बहन है मेरी पत्नी Sexy Legs 12 203,191 08-31-2011
Last Post: Sexy Legs