मसूरी ट्रिप
मेरा नाम राज है, उम्र २१ साल है, दिल्ली का रहने वाला हूँ।

मैं आज एक ऐसी कहानी सुनाने जा रहा हूँ जो मेरे साथ गुजरी है।

मैं कुछ दिन पहले अपने एक मित्र से मिलने के लिए मसूरी गया था, जिसका नाम अंकित है। वहाँ का मौसम मुझे बहुत अच्छा लगा। अंकित मसूरी के एक कॉलेज में पढ़ता है।

एक दिन मैं अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए निकला। मेरे दोस्त की गर्लफ्रेंड पूजा और उसकी छोटी बहन सोनिया भी साथ में थी। हम लोग बाइक से कैम्पटी फ़ाल के लिए निकले। सोनिया मेरी बाइक पर थी। वहाँ पहुँचने के बाद अंकित और पूजा मुझे और सोनिया को एक जगह छोड़ कर दूसरी तरफ जाते हुए बोले- हम थोड़ी देर बाद तुमसे यहीं मिलेंगे !

हमने बोला- ठीक है !

उनके जाने के बाद मैने सोनिया से कहा- चलो हम कहीं चल के बैठते है !

सोनिया तैयार हो गई। हम लोग पूल के पास जाकर बैठे और बातें करने लगे। मैंने सोनिया से काफी बातें की और हम दोनों अच्छे दोस्त बन गए। मैंने सोनिया से पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है?

सोनिया ने मना कर दिया।

मैंने सोनिया से कहा- तुम मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी?

तो उसने हाँ कर दिया। मैं काफी प्रसन्न हो गया। हम लोग कैम्पटी फ़ाल से वापस लौटने के बाद कमरे पर आए। मेरा मन सोनिया से बातें करने को कर रहा था। शाम को मैंने सोनिया से कहा- सोनिया मुझे तुम से कुछ काम है।

सोनिया ने कहा- बोलो !

मैंने सोनिया से कहा- हम अकेले में बात करें?

सोनिया ने हाँ कर दी। मैं और सोनिया ऊपर छत पर चले गए।

मैंने सोनिया से बातो बातो में कहा तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो। सोनिया मुस्कुरा उठी, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया।

सोनिया ने मुझे देखा, मैंने सोनिया को अपनी तरफ खींचते हुए कहा- क्या हम दोनों एक हो सकते हैं?

सोनिया ने कुछ नहीं बोला और शर्म से पलकों को झुका लिया। मैंने सोनिया को चूम लिया और अपने बाँहों में भर लिया। सोनिया शरमा रही थी। मैं सोनिया की गर्दन को चूमने लगा मगर सोनिया ने कुछ नहीं बोला। मैं उसके गर्दन को चूमते हुए उसके होटों तक पहुच गया।

अब सोनिया भी धीरे-धीरे मेरा साथ देने लगी। मैंने उसे किस करते हुए उसके बूब्स को दबाने लगा और मेरा लंड खड़ा हो गया और सोनिया के मुँह से सिस्कारियाँ निकलने लगी। सोनिया भी मेरा साथ देने लगी और मैंने सोनिया के शर्ट की बटन को खोल कर उस के ब्रा को ढीला करके उसके बूब्स को अपने मुँह में ले लिया। मैंने अपना एक हाथ सोनिया की कमर पर रखा और मैंने सोनिया को छत पर ही लिटा दिया और सोनिया के जींस की बटन को खोलकर नीचे कर दी। उसकी चिकनी-चिकनी जांघों को देख कर मुँह में पानी आ गया। एक हाथ उसके दोनों टांगों के बीच में ले गया। तब तक उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी।

मैंने झट से उसकी पैंटी को नीचे कर मैंने उसकी चूत के बालों में उंगली फिरानी शुरू कर दी। अब तो उसके मुँह से और भी जोर से सिस्कारियाँ निकलने लगी।

मैंने अपना छः इंच का लण्ड सोनिया के हाथों में पकड़ा दिया, सोनिया मेरे लंड को सहलाने लगी। लंड को सहलाते हुए सोनिया बोली- राज ! अब और देर मत करो ! और मुझसे चिपक गई। मैंने सोनिया की टांगों को फैलाया और उसकी चूत को चाटने लगा।

अब सोनिया जोर-जोर से ऊऊऊउह्ह्ह्ह्ह् आआआआअह्ह्ह्ह्ह् स्स्स्सीईई ! करने लगी। उसकी चूत अब और भी गीली हो गई थी।

मैं अपना छः इंच का लंड सहलाते हुए उसकी चूत पर रगड़ने लगा और रगड़ते हुए ही उसकी चूत के छेद पर हल्का सा जोर दिया, मेरे लंड का अगला हिस्सा उसकी चूत में घुस गया। अब सोनिया दर्द से चीख उठी। मैंने उसके मुँह पर अपना हाथ रख दिया और थोड़ा सा और जोर दिया, सोनिया की चूत में मेरा लंड अब आधा घुस गया था।मैंने देखा कि उसकी चूत से खून निकल आया है और उसकी आँखों से आँसू निकल आए।

अब मैं सोनिया के होटों को चूमने लगा और अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा। धीरे-धीरे सोनिया भी साथ देने लगी। सोनिया ऊउह ऊऊउह ह्ह्ह्हाआअस स्स्स्स्सीईईई स्स्सीईईईई की आवाज निकालने लगी। मैं उसके दोनों बूब्स को अपने मुँह में भर कर चूसता हुआ अपने लंड से उसकी चूत-चुदाई कर रहा था। अब हम दोनों को मजा आने लगा। मैं अब उसकी चूत को जोर-जोर से मारने लगा और वो जोर-जोर से स्स्स्सीईईईए ऊऊउ आअह्ह्ह्ह् सस्स्स्स्स्स्सीईए...ऊऊह करने लगी। मुझे एसा लग रहा था कि मैं ना जाने कौन सी दुनिया में आ गया।

मैं बार-बार उसकी गर्दन को, उसके होंठों को, उसके गालों को, उसके गले से चूमते हुए, उसके स्त्नों के चूचुकों को चूसते हुए उसकी चूत में पूरा लंड पेल रहा था और वो जोर-जोर से सिस्कारियाँ भर रही थी। अब हम दोनों जन्नत में पहुँच गए थे और उसकी चूत में से गरम-गरम पानी निकलने लगा। अब वो अपने पेट को कसकर चूत पर पूरा जोर देने लगी और उसके चूत से गरम पानी का निकलना और मेरे लंड का अन्दर बाहर होना बहुत ही मजा आ रहा था। उसकी चूत से दो बार पानी निकला। उसके कुछ देर के बाद मेरा भी गाढ़ा पानी मेरे लंड से निकलने लगा, मैंने अपना सारा का सारा पानी उसकी चूत में गिरा दिया। उसके थोड़ी देर तक हम दोनों एक दूसरे से लिपटे रहे।

कैसा लगा ?

दोस्तों अपनी राय मुझे जरूर भेजें।

ओके, गुड बाय!

 
Return to Top indiansexstories