परिवार में रासलीला
मेरा नाम पार्थो है और मैं अपने मा बाप का एकलौता बेटा हूँ. मैं २८ साल का हूँ। मैं रोज़ एक्स्सरसाइज़ करता हूँ और नहाने के पहले शरीर पर खूब तेल मलता हूँ। मेरी तंदुरुस्ती इसीलिए काफी अच्छी है। मेरा लड करीब १०" लम्बा और करीब ३ ½" मोटा है। पहले मेरा लड का सुपाड़ा काफी लाल रंग का था लेकिन आस पड़ोस के रहनेवालो के चूत चोद चोद कर अब मेरा सुपाडा काला पड़ गया है। मैं अब तक करीब १०/ १२ औरतों को चोद चूका हूँ। हमारे पड़ोस कि औरतें मुझसे कई बार अपनी चूत चुदा चुकी हैं और जब मौक मिलता है मैं उनकी चूत और गांड मे अपना लड पेल कर जम के चुदाई करता हूँ।
अब मेरी शादी हो गयी है, और अब पड़ोसिओं को चोदने का मौका बहुत कम मिलता है। मेरे पत्नी का नाम नुपुर है और वो एक सुन्दर भरे बदन वाली औरत है। मेरी पत्नी की चूची का साइज़ ३६ डी और चूतर का साइज़ करीब ४०। हमारा परिवार बहुत ही कोंसेर्वेटिव है लेकिन शादी के बाद नुपुर को हमारे परिवार का कोंसेर्वेटिव रहन सहन अच्छा नही लगा। उसने हमसे इस बारे मी बात कि और मैंने उसे बताई कि "हाँ मैं भी इस तरह के रहन सहन से परेशान हूँ, लेकिन मैं कुछ नही कर सकता। हाँ अगर तुम कुछ कर सकती हो तो तुम्हे हमारी तरफ से खुली छूट है"। इसके बाद नुपुर चुप हो गयी और अपने काम में लग गई।
एक दिन में और नुपुर रात को चुदाई कर रहे थे, नुपुर मारे उत्तेजेना के काफी बरबरा रही थी, जैसे "हाँ हाँ मेरे राजा चोदो मुझे, और र्जोर से चोदो, फाड़ दो आज मेरी चूत को लेकिन अपना लड सम्हाल के रखना अभी तो तुम्हे मेरी गांड भी मारनी है। मैं नुपुर कि चूत जोर जोर से चोद रहा था और बरबड़ा रहा था, "चुप छिनाल रंडी, पहले अपनी टांगो को और फैला अपनी छूट ढीली कर और मेरा लंड पुरा का पुरा उंदर घुसने दे, साली कि चूत में हमेशा ही खुजली रहती है, आज मैं तेरी चूत चोद चोद कर भोसडा बना दूंगा। आ रे मेरी चुदैल रानी जरा धीरे धीरे बोल,जैसे ही तेरे चूत को मेरा लुंड दिखता है बस तू बडबडाने लगती है, जितना लंड पेलवाती है उतना ही चिल्लाती है। धीरे धीरे बोल, तेरे ससुर और सास बगल के कमरे मी है, वोह क्या कहेंगे? नुपुर ने मुझको अपनी बाँहों मी भर कर अपनी चुतर उछालते हुए कही, "अरे सास और ससुर मेरा चिल्लाना सुन सुम्झेंगे कि उनका लडका अपनी बीवी की चूत चोद रहा है और इससे वोह भी गरमा कर अपनी चुदाई शुरू कर्देंगे। अच्छा ही होगा मेरी सास कि चूत चुदेगी, दिन भर बहुत बोलती है, मन करता है कि उनकी चूत में किसी कुत्ते का लंड पेलवा दूं।"
मैं बोला "चुप हरामजादी, सास ससुर कि चुदाई कि बात नही करते।" नुपुर तुनक कर बोली, "क्यों न बोलूं, क्या तुम्हारे मा बाप के पास चूत और लंड नही है? क्या उन्होने चुदाई का मज़ा नही लिया है, अगर ऐसा है तो तुम मेरी सास कि चूत से कैसे निकले? अरे तुम नहीं जानते, तेरे मा और बाप रोज दुपहर को खाना खाने के बाद अपने कमरे जाकर खूब चुदाई करते हैं।
"तेरे को कैसे मालूम कि मेरा बाप दोपहर को मेरी मा को चोदता है, क्या तुने देखा है क्या? अरे देखने कि क्या जरूरत है, तुम्हारी मा भी चूत में लंड जाते ही बहुत बरबराती है और तेरा बाप इतना जोर जोर से से तेरे मा को चोदता है कि पलंग चरमराने लगती है। इन आवाज को सुन सुन कर मैं भी अपनी चूत में अपनी उँगली डाल कर हिलाती हूँ।
"तू बहुत छिनाल औरत है, अपने सास और ससुर की चुदाई का हिसाब रखती है? मेरे को लगता है, कि तू जरूर से मेरे मा-बाप कि चुदाई देख चुकी है" मैं नुपुर से बोला।
नुपुर तब बोली, "हाँ मैंने तेरे मा-बाप कि चुदाई रोज़ देखती हूँ"
कैसे?
"आरे कैसे क्या, जब तेरे मा और बाप दोपहर का खाना खा कर अपने रूम में जाते है तो मैं उनके कमरे कि खिड़की के पीछे खड़ी हो जाती हूँ, जहा से मुझे अंदर कमरे मी जो हो रहा हो, सब कार्यवाई साफ़ दिखाई पड़ती है।
तो क्या तू रोज मेरे मा-बाप कि चुदाई देखती रहती है?
और क्या,
कबसे?
"आरे कैसे क्या, जब तेरे मा और बाप दोपहर का खाना खा कर अपने रूम में जाते है तो मैं उनके कमरे कि खिड़की के पीछे खड़ी हो जाती हूँ, जहा से मुझे अंदर कमरे मी जो हो रही सब कार्यवाही साफ़ दिखाई पड़ती है।
तो क्या तू रोज मेरे मा बाप कि चुदाई देखती रहती है?
और क्या,
कबसे?
एही करीब दोतीन महीने से।
अच्छा अब बोल छिनाल रंडी, जब तेरे सास और ससुर कि चुदाई देखती रहती है, तो क्या उनको मालूम नहीं चलता?
सास को एह बात मालूम नही, हाँ तेरे बाप को मालूम है कि मैं खिड़की से उनकी चुदाई का सीन देख्र रही हूँ।
वोह कैसे?
एक दिन मैं रोज कि तरह से अपने सास और ससुर के बेडरूम के खिड़की के पीछे कड़ी थी, और उनकी चुदाई देख रही थी कि एकाएक ससुर जी अपना लुंड सास कि छूट मी पेलते पेलते अपना मुँह खिड़की कि तरफ घुमाया। मेरे पास इतना टाइम नही था कि मैं छुप जाऊँ और ससुर जी ने हमे खिरकी के बाहर खड़े देख लिया। मैं भी क्या करती, मै वही कड़ी रही और उनकी चुदाई का सीन देखती रही. ससुर जि हुमे देख कर सिर्फ मुस्कुरा दिये और सास कि टांग हमारी तरफ घुमाकर हमे दिखा दिखा कर अपना लंड सास कि बुर में अन्दर बाहर करने लगे।
तू पूरी तरह से रण्डी है, अच्छा अब बोल तुने मेरे बाप, मेरे मा को कैसे चोदते हैं?
नुपुर बोली, "एक सही बात बताऊ, तेरी माँ नंगी होने पर बहुत सेक्सी लगती है और वोह बहुत चुददकर औरत है."
कैसे मालूम?
nice. Dude please complete this story.


Read More Related Stories
Thread:Views:
  चुदक्कड़ परिवार के सदस्य 5,873
  मध्यम वर्गीय परिवार की विवाहित महिला 8,525
  परिवार नेहा का 117,796
  गांडू का परिवार - Hindi Sex Story 78,428
  मैं और मेरा परिवार 26,778
  पति,पत्नी,सास ,ससुर की रासलीला -4 11,260
  पति,पत्नी,सास ,ससुर की रासलीला -3 8,056
  पति,पत्नी,सास ,ससुर की रासलीला -2 11,072
  पति,पत्नी,सास ,ससुर की रासलीला -1 17,037
 
Return to Top indiansexstories