पड़ोसन की चूत और गांड मारी
मेरा नाम रमेश है और मैं बनारस का रहने वाला एक युवा हूं। मेरी शादी को काफी वर्ष हो चुके हैं लेकिन मुझे मेरी पत्नी से अभी तक बच्चा नहीं हुआ है। जिसकी वजह से मेरे घर वाले मुझे हमेशा ही कहते रहते हैं कि तुम्हें अब बच्चा कर लेना चाहिए। परंतु मैं उन्हें समझाता हूं कि जब बच्चा हो ही नहीं रहा है तो मैं कैसे करूं। हमने सब डॉक्टरों को भी दिखा दिया लेकिन उसके बावजूद भी हमें कोई इलाज नहीं मिल रहा और हम सोचने लगे कि हम कैसे अब अपना बच्चा करें। मैं अपनी पत्नी से बहुत ही प्रेम करता हूं लेकिन अब मुझे भी लगने लगा है कि कहीं ना कहीं हमारे बच्चे ना होने की वजह से हम दोनों के बीच में भी तनाव पैदा होने लगा है और मेरी पत्नी मुझसे बहुत झगड़ा करने लगी है। मैं उसे कई बार समझाता हूं कि तुम इस तरीके का बर्ताव बिल्कुल भी मत किया करो। परंतु फिर भी वह मेरे साथ झगड़ा करती रहती है। मैं उसे शांत रहने के लिए भी कहता हूं परंतु फिर भी वह शांत नहीं रहती और हमेशा ही मुझे कहती है कि तुम्हारी ही वजह से हमारा बच्चा नहीं हो रहा है।
मैंने उसे कहा कि हमें डॉक्टर को दिखा दिया है। मुझ में किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं है। तुम्हारे अंदर ही सब कमियां हैं। जब भी मैं उसे इस तरह की बाद बोलता हूं तो वह बहुत ही गुस्सा हो जाती है और कई दिनों तक मुझसे बात भी नहीं करती। मैं सोचता रहता हूं कि मुझे क्या करना चाहिए। परंतु मेरे समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था और मुझे ऐसा लगा कि मुझे क्या चीज करना चाहिए जिससे हम दोनों के बीच में तनाव दूर हो जाए। मैं अपनी पत्नी को कहीं अपने साथ रेस्टोरेंट में ले गया। मुझे ऐसा लग रहा था कि कहीं ना कहीं हम दोनों के बीच में तनाव दूर हो जाएगा और हम दोनों बैठ कर काफी अच्छे से बात कर रहे थे। मैं अपनी पत्नी को समझा भी रहा था कि तुम्हें तनाव लेने की आवश्यकता नहीं है। यदि तुम इस तरीके से टेंशन में रहोगी तो तुम अपनी तबियत भी खराब कर लोगी लेकिन ना जाने क्यों उसका मानसिक संतुलन बिगड़ता जा रहा था। वह सिर्फ मुझसे कहती थी कि मुझे अब एक बच्चा चाहिए। मैं उसे समझाता रहता था कि समय के साथ सब हो जाएगा। परंतु वह मेरे पीछे लगी हुई थी। मैंने उसे कई बार इस बारे में भी कहा कि हम कोई बच्चा गोद ले लेते हैं परंतु वह उस चीज के लिए तैयार नहीं थी और कहने लगी कि मुझे सिर्फ अपना ही बच्चा चाहिए। हम लोग रेस्टोरेंट में बैठे हुए थे तो मैं सोच रहा था मैं उसके साथ कुछ अच्छा समय व्यतीत करता हूं। परंतु वह एक छोटे बच्चे को देख कर मुझसे गुस्सा हो गई और वह मुझसे झगड़ा करने लगी। अब हम लोग घर आ गए। मैं बहुत ही ज्यादा गुस्सा हो चुका था। मुझे उस पर बहुत ही गुस्सा आ रहा था। जब मैं घर गया तो मैंने उससे बात भी नहीं की और मैं चुपचाप सो गया।

कुछ दिनों बाद हमारे पड़ोस में ही एक लड़की रहने आई। वह अपनी पढ़ाई कर रही थी और जब मैंने उसे देखा तो वह बहुत ही अच्छी लग रही थी। वह बहुत ज्यादा सुंदर है और मुझे उसे देखकर बहुत ही अच्छा लग रहा था। अब मैंने भी सोचा कि मैं उससे बात कर लूं और मैंने उसी दिन पूछ लिया क्या आप हमारे ही मोहल्ले में रहती हैं। वह कहने लगी हां मैं वहीं रहती हूं। अब हम दोनों की बातें होने लगी थी। हमारी काफी बातें हुआ करती थी। उसका नाम प्राची है और वह अपनी पढ़ाई कर रही थी। अब हम दोनों के बीच काफी बातें होने लगी और जब उसे मेरे बारे में पता चला कि हमारे घर में बहुत ही तनाव रहता है तो वह मुझे बहुत ही सपोर्ट किया करती थी। जब वह मुझे इस तरीके से कहती तो मुझे बहुत अच्छा लगता है। मैं ना चाहते हुए भी उसकी तरफ खींचा जा रहा था और उसकी तरफ आकर्षित हो रहा था। अब वह भी मुझसे बहुत ही प्रभावित थी और हम दोनों के बीच में बहुत मस्तियाँ बढ़ने लगी। मैं अपनी पत्नी से बहुत कम बातें किया करता था। अब मेरे दिमाग में सिर्फ प्राची का ही ख्याल आता था। मुझे प्राची बहुत ही अच्छी लगती थी। अब मैं उसके साथ घूमने भी जाने लगा और वह भी मेरे साथ घूमना बहुत ही पसंद किया करती थी। जब भी हमें समय लगता तो हम लोग मूवी देखने भी चले जाया करते थे और अब मैं चाहता था कि मैं उससे शादी कर लूं। परंतु मुझे यह भी दिक्कत है कि यदि मैं इस बारे में अपनी पत्नी को बताऊंगा तो कहीं उसे बुरा ना लग जाए। वह यह ना सोचे कि वह मुझे बच्चा नहीं दे पा रही है इस वजह से मैं किसी और लड़की की तरफ आकर्षित हो रहा हूं। इस वजह से मैंने उसे कुछ भी नहीं बताया। प्राची और मेरे बीच में बहुत ज्यादा नज़दीकिया हो चुकी थी। वह मेरा बहुत ही ध्यान रखा करती थी। और मैं भी उसका बहुत ध्यान रखने लगा। उसे किसी भी चीज की आवश्यकता होती तो मैं तुरंत ही उसकी आवश्यकता पूरी कर दिया करता था।

मैं प्राची के घर भी आने जाने लगा था हम दोनों अक्सर किस कर लिया करते थे परंतु अभी भी हमारे बीच सेक्स नहीं हुआ था। एक दिन मैं उसके घर गया तो मैने उसे कसकर पकड़ लिया। जब मैंने उसे कस कर पकड़ा तो वह भी मेरी बाहों में आ गई और मुझे कहने लगी कि आज तुम्हारा कुछ ज्यादा ही मूड लग रहा है। मैंने उसे कहा हां आज मेरा तुम्हें चोदने का मूड है। उसने भी मेरे लंड को बाहर निकालते हुए अपने मुंह के अंदर समा लिया और बहुत ही अच्छे से सकिंग करने लगी। वह इतने अच्छे से मेरे लंड को सकिंग कर रही थी कि मेरे लंड से पानी निकल रहा था। मैंने उसके कपड़े खोल दिए जब मैंने उसके कपड़े खोले तो उसने पिंक कलर की पेंटी ब्रा पहनी हुई थी। मैंने उसकी ब्रा खोलते हुए उसके स्तनों को बाहर निकाल लिया और उन्हें अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। मैं उसके स्तनों को बहुत ही अच्छे से अपने मुंह में लेकर चूस रहा था। उसे बहुत ही मजा आ रहा था जब मैं उसके स्तनों का रसपान कर रहा था। अब उससे बिल्कुल भी नहीं रहा गया और वह जमीन पर ही लेट गई। उसने अपने दोनों पैर चौड़े कर लिए। मैंने जब उसकी योनि पर अपने मुंह को लगाया तो उसकी चूत गीली हो चुकी थी। मुझसे बिल्कुल नहीं रहा जा रहा था और मैंने तुरंत ही उसकी योनि में अपने मोटे लंड को डाल दिया।

जब मैंने अपने लंड को उसकी योनि में डाला तो वह चिल्ला उठी उसके मुंह से बड़ी तेज आवाज निकलने लगी। मैं उसे ऐसे ही धक्के दिए जा रहा था। मैंने उसे बड़ी तेजी से धक्के देने शुरू कर दिया और वह भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। वह अपने दोनों पैरों को चौड़ा कर लेती और मैं उसे उतना ही तीव्रता से चोदता रहता। लेकिन मुझसे उसकी टाइट योनि की नहीं झेली गई और मेरा वीर्य उसकी योनि में ही गिर गया। जब मेरा वीर्य उसकी योनि में गिरा तो मैंने जैसे ही अपने लंड को बाहर निकाला तो उसकी योनि से मेरा माल टपक रहा था। वह बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गई और उसने अपने चूतड़ों को मेरी तरफ कर दिया। मैंने उसके चूतड़ों को बहुत ही अच्छे से चाटा जिससे कि उसका पानी निकलने लगा। मैंने जैसे ही उसकी गांड के अंदर अपने लंड को डाला तो वह चिल्ला उठी और उछलने लगी जैसे की उसकी गांड में कोई बड़ा डंडा चला गया हो। लेकिन अब मैंने उसे कसकर पकड़ लिया और बड़ी ही तेजी से उसे धक्के मारने लगा। मैं इतनी तेज तेज उसे धक्के मार रहा था कि उसका शरीर पूरा हिल रहा था मैं बड़ी तीव्रता से उसे झटके दिए जा रहा था। वह अपने चूतड़ों को मुझसे मिलाने लगी वह बड़ी ही तेजी से अपने चूतडो को मेरे लंड से जैसा ही मिलाती तो मेरे लंड मे दर्द होने लगा और मेरे लंड से खून निकलने लगा उसकी योनि से भी खून निकल रहा था और मैं उसे बड़ी ही तेजी से धक्के दिए जा रहा था। लेकिन मुझसे उसकी गांड की गर्मी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं हुई और मेरा वीर्य उसकी गांड में ही जा गिरा। जब मैंने अपने लंड को बाहर निकाला तो वह बहुत ही खुश थी और मेरे गले लग गई। वह कहने लगी तुम हमेशा मेरी गांड मारने आ जाया करो। मैंने उसे कहा मेरा मन तो हमेशा ही तुम्हारी गांड मारने का होता है। मेरी पत्नी तो मेरी एक भी बात नहीं मानती। उसके बाद से मैं प्राची के पास ही जाता था।
 


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
  आंटी की गांड जैसे मुलायम चादर Le Lee 1 37 Yesterday
Last Post: Le Lee
  दोस्त की मम्मी ने मुझसे अपनी गांड मरवाई Le Lee 1 38 Yesterday
Last Post: Le Lee
  दीप्ती की चूत और गांड दोनों मारी Le Lee 1 184 03-04-2019
Last Post: Le Lee
  सास की चूत के साथ गांड का स्वाद Le Lee 1 537 02-14-2019
Last Post: Le Lee
  प्यासी आंटी की गांड Le Lee 2 565 01-24-2019
Last Post: Le Lee
  सेक्सी पड़ोसन की गांड के मजे Le Lee 1 567 01-01-2019
Last Post: Le Lee
  पड़ोसन की गांड उसी के ब्यूटी पार्लर में मारी Le Lee 1 482 01-01-2019
Last Post: Le Lee
  पड़ोसन भाभी की गान्ड चुदाई Le Lee 1 278 01-01-2019
Last Post: Le Lee
  बहन की गांड मे अपना लंड डाला Le Lee 1 1,042 12-27-2018
Last Post: Le Lee
  जेठ से चुदवाया और उनकी गांड मारी Le Lee 3 2,169 10-30-2018
Last Post: Le Lee