देसी अमरीकन मेम
पहले मैं आप को अपने बारे में बता दूं। मेरी उम्र ३० साल है। मेरी लम्बाई ६ फीट है और मैं दिखने में भी काफ़ी ठीकठाक हूँ। मैं बरोदा में रहता हूँ। ये कहानी तब की है जब मैं इन्टरनेट पर बहुत ही चेटिंग करता था। तब मेरी दोस्ती एक लड़की से हुई जो इंडियन है और अब अमेरिका में रहती है। उसका नाम रेशमा है और वो भी बरोदा से ही है। नेट पर हमारी रोज बातें होने लगी तभी एक दिन मुझे पता चला कि उसकी शादी हो चुकी थी और उसके पति ने उसे छोड़ दिया था.

फ़िर ये सिलसिला आगे बढ़ा और हम दोनों ने अपने अपने फोटोस एक्सचेंज किए। तभी मैं उसे देख कर दंग रह गया कि इतनी खूबसूरत और सेक्सी बीवी को कोई पागल ही छोड़ सकता है। उसकी लम्बाई करीबन ५.५ थी और उसका रंग भी एक दम गोरा था। सबसे अच्छे उसके बूब्स थे जो कि तरबूजों की तरह थे।

एक दिन उसने मुझे बताया कि वो इंडिया आ रही है तो मैं खुशी से पागल हो गया और मन ही मन उसकी चुदाई करने की सोचने लगा। अब जब वो इंडिया आ रही थी तो मैंने बिना राह देखे उस से बोल ही दिया कि मेरे दिमाग में क्या चल रहा है। वो खाली हंस कर नेट से चली गई।

जब वो इंडिया आई तो मैं उसे रिसीव करने एअरपोर्ट पर गया तब मैंने उसे देखा तो मुझे पता चला कि उसके बूब्स सही में बड़े और मजेदार थे और उसकी गांड की गोलाई भी बहुत मस्त थी। वो मुझसे गले मिली और फ़िर मिलने का कह कर अपने रिश्तेदारों के साथ उनके घर चली गई। उसके बूब्स और गांड देख कर अब मैंने नक्की कर लिया था कि मैं इसकी मस्त चुदाई करूँगा।

दूसरे दिन उसका फ़ोन आया और उसने मुझे कहा कि वो मुझे मिलने मेरे ऑफिस पर आ रही है। तब मैंने मेरे पूरे स्टाफ वालो को जल्दी ही घर भेज दिया। जब वो आई तो थोड़ी इधर उधर की बातें की। वो मेरे सामने कुर्सी पर बैठी थी। मैं उठ कर उसके पास वाली कुर्सी पर बैठ गया और फ़िर उसका हाथ पकड़ लिया। तो वो कुछ नही बोली मैं समझ गया कि लाइन क्लिअर है।

फ़िर मैंने उसे जम कर किस किया। अब हमारे होंठ एक दूसरे से चिपक गए थे और मैं उसकी जीभ चूस रहा था। फ़िर धीरे से मैंने अपना हाथ उस के बूब्स पर रख दिया और उनको मसलने लगा तो वो सिसकारे भरने लगी। उसने जींस और टॉप पहेना हुआ था। मैंने उसके टॉप के अन्दर हाथ डाल कर ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को मसलने लगा और उसकी निप्पल को खींचने लगा।

उसकी सिसकारियां अब और भी बढ़ने लगी और वो मुझे ज़ोर ज़ोर से किस करने लगी। मैंने उसका टॉप उतार दिया और फ़िर उसकी ब्रा भी निकाल दी। तब तक उसका हाथ मेरे तने लण्ड पर था और वो उसे सहला रही थी। मेरा लण्ड अब तन गया था और चुदाई के लिए बेकरार था।

मैं उसे वहां से उठा कर बाहर पड़े सोफे पर ले कर गया और उसे वहां लिटा दिया। फ़िर उसके बूब्स को और उसकी निप्पल को चूसने लगा। फ़िर मैंने अपनी पैन्ट की जिप खोल कर मेरा लण्ड उसके हाथ में दे दिया वो उसे हिलाने लगी और मुठ मारने लगी।

फ़िर मैंने उसका जींस भी उतार दिया और पैंटी भी उतार दी और उसकी चूत में ऊँगली डाल दी। उसकी चूत गीली हो चुकी थी। मैं अपनी ऊँगली निकाल कर देर किए बिना उसे चाटने लगा तो वो तड़पने लगी और बोली कि मुझे भी चूसने का मज़ा लेने दो। फ़िर हम दोनों ६९ पोज़िशन में आ गए।

करीब १० मिनट तक ये चला। वो झड़ चुकी थी मैंने उसका पूरा पानी पी लिया और फ़िर मैंने कहा- अब तुम भी जल्दी से मेरा सब पानी पी लो। तो उसने मेरा लण्ड जोर जोर से चूसना चालू कर दिया और थोड़ी देर में मैं भी झड़ गया और वो मेरा सब रस पी गई।

वो मेरा लण्ड चाट कर साफ़ कर रही थी तो मैंने बोला मेरी जान थोड़ा रस रहने दे तेरी गांड के होल पर लगा दे इस से आगे आसानी रहेगी। उसने ऐसा ही किया।

फ़िर मैंने उसे वहां से उठा कर बाजू वाले मेज़ पर लिटा दिया और उसकी दोनों टाँगे फ़ैला कर अपना लण्ड उसके चूत पर रख दिया। फ़िर धीरे से लण्ड के सुपारे को धक्का दिया तो वो अन्दर चला गया। गीली चूत होने के कारन लण्ड को अन्दर डालने में तकलीफ नहीं हुई। और फ़िर एक ज़ोर के धक्के से मैंने मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में डाल दिया...तो वो ज़ोर से चिल्लाई और बोली ज़रा धीरे से ! साले काफी टाइम से अन्दर कोई लण्ड नहीं गया है।

फ़िर मैंने धीरे से धक्के लगाने चालू कर दिए...और साथ में उसके निप्पल को चूसने लगा। वो उह्ह्ह्छ आःह्ह्छ करने लगी और बोलने लगी- फक्क मी फक्क मी हार्ड माय डार्लिंग फक्क मी वैरी हार्ड...

मुझे पूरा जोश आ गया और मेरे धक्के बढ़ने लगे...करीब १५ मिनट तक मैं उसे चोदता रहा...उसमें वो २ बार झड़ चुकी थी और अब मैं भी झड़ने वाला था..। तो मैंने उससे पूछा की कहाँ डालू अपना पानी?

तो बोली अन्दर ही डाल दे मेरे राजा और फ़िर मैं झड़ गया...

थोड़ी देर हम दोनों ऐसे ही लेटे रहे और फ़िर वो मेरे लण्ड को सहलाने लगी...फ़िर खड़ी हो कर उसने मेरे लण्ड को फिर से चूसना चालू कर दिया। इस से मेरा शेर फ़िर से लड़ाई और चढाई के लिए तैयार हो गया और मैंने उसे पकड़ कर उल्टा ही मेज़ पर लेटा दिया अब उसकी गांड का छेद मेरे लण्ड के सामने था।

मैंने कभी किसी की गांड नहीं मारी थी तो मैं भी बेकरार था। फ़िर मैंने अपने हाथो से उसके दोनों चूतड़ अलग किए और मेरे लण्ड को छेद के पास रख दिया। फ़िर ज़ोर से धक्का दिया तो मेरे लण्ड का सुपारा अन्दर चला गया। अब वो जोर से चिल्लाई और बोली- बास्टर्ड इट हर्ट्स।

मैंने बोला- रानी थोड़ा सब्र करो। फ़िर मैं उसके बूब्स को पीछे से पकड़ कर मसलने लगा और थोडी देर बाद फिर से जोर का धक्का दिया तो पूरा लण्ड उसकी गांड में चला गया। फ़िर वो मज़े लेने लगी और चिल्लाने लगी- चोदो मुझे जोर से मेरे राजा पूरा डाल दे अन्दर आज या तेरा लण्ड नहीं या मेरी गांड नही..फाड़ दे मेरी गांड को आज..ये पूरी तेरी है..दो हिस्सों में बाँट दे आज इसे।

अब मुझे भी जोश आ गया और मैं जोर जोर से धक्के देने लगा। १५ मिनट तक मैं उसकी गांड मारता रहा फ़िर मैं उसकी गांड में ही झड़ गया और उसकी गांड का पूरा छेद मेरे पानी से भर दिया। फ़िर थोडी देर के बाद हम दोनों ने खड़े हो कर कपड़े पहन लिए।

और फ़िर वो पूरे ३ महीने तक इंडिया में रही और हम दोनों ने जम कर चुदाई का आनंद लिया..एक बार तो मैंने उसे वाटर पार्क में भी चोदा था वो किस्सा बाद में बताऊंगा। मगर अभी वो वापस चली गई है और मैं फ़िर से अकेला पड़ गया हूँ।

दोस्तों मेरी कहानी कैसी लगी...अपनी राय दें।


Read More Related Stories
Thread:Views:
  दो वेश्या के साथ देसी सेक्स 14,387
  देसी भाभी अमेरिकन चुदाई 16,692
 
Return to Top indiansexstories