Post Reply 
गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
10-03-2010, 10:37 AM
Post: #81
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"ऊहह....आहह...इय्य्ाआ...",एलेना मस्ती मे आहे भर रही थी,शत्रुजीत का 1 हाथ अब उसकी टाँगो के बीच घूम रहा था.कामिनी ने अब अपना हाथ अपनी स्कर्ट उठा के अपनी पॅंटी मे घुसा दिया था & बस अपनी चूत को रगडे जा रही थी.वो किसी भी तरह शत्रुजीत के लंड की बस 1 झलक पाना चाहती थी पर उसकी पीठ कामिनी की तरफ होने का कारण ऐसा मुमकिन नही हो रहा था.

दीवार से सटी एलेना आहे भरते हुए अपनी कमर आगे-पीछे करने लगी थी.ये देख शत्रुजीत ने अपना हाथ उसकी टांगो के बीच से निकाल लिया.एलेना ने अपनी दाई टाँग उठा दी तो शत्रुजीत थोड़ा झुक कर अपना लंड उसकी चूत मे घुसाने लगा,"..उऊहह..!"

पूरा लंड अंदर घुसने के बाद उसने अपने दोनो हाथो मे उसकी जांघे थाम ली & फिर खड़े-2 धक्के लगाकर एलेना को चोदने लगा.कामिनी पहली बार किसी और की चुदाई देख रही थी & इस कारण वो बहुत मस्त हो गयी थी,उसकी उंगलिया बस उसकी चूत को घिसे जा रहे थी.शत्रुजीत के गले मे बाहे डाले,उस से चिपकी हुई एलेना आँखे बंद किए उस से चुदे जा रही ही.

उसे चोद्ते हुए खड़े शत्रुजीत के फौलादी बदन की पीठ की 1-1 मांसपेशी फदक रही थी,उसकी टांगे खंबो की तरह अटल खड़ी थी & एलेना की जंघे उठाए उसकी मज़बूत बाजुओ की बाइसेप्स बिल्कुल उभर आई थी.

कामिनी की नज़रे उस खूबसूरत मर्दाना जिस्म से चिपकी हुई थी.वो मन मे ये सोच कर उंगली से अपनी चूत मार रही थी की एलेना की जगह वो शत्रुजीत की बाहो का सहारा लिए खड़ी उसका लंड अपने अंदर लिए उस से चुद रही है.

शत्रुजीत की कसी हुई गंद अब बहुत तेज़ी से हिल रही थी & साथ-2 कामिनी की उंगलियो की रफ़्तार भी बढ़ गयी थी.अचानक एलेना के होंठ "ओ" के आकर मे गोल हो गये & शत्रुजीत का बदन भी झटके खाने लगा-दोनो झाड़ रहे थे.ठीक उसी वक़्त शत्रुजीत के ख़यालो मे डूबी कामिनी की चूत ने भी पानी छ्चोड़ दिया.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:38 AM
Post: #82
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
एलेना ने आँखे खोली तो कामिनी फ़ौरन झुक गयी & कुर्सी सेउतर कर उसपे बैठ गयी.थोड़ी देर बैठ के उसने अपने को संभाला,फिर उठी & उन दोनो के दूसरे कॅबिन से निकलने से पहले वाहा से बाहर चली गयी.

झड़ने के बावजूद कामिनी बेचैन थी...करण को भी आज ही जाना था!उसे एलेना से जलन हो रही थी..उसे यकीन था की दोनो क्लब से कही और जा के इतमीनान से चुदाई करेंगे& वो...वो अकेली बैठी अपनी उंगली से काम चलाएगी!

इन्ही ख़यालो मे गुम वो रिक्रियेशन रूम मे दाखिल हुई & घुसते ही वाहा 1 कोने की कुर्सी पे बैठे उसे चंद्रा साहब दिखाई दिए,"सर.."

"अरे,कामिनी.वॉट आ प्लेज़ेंट सर्प्राइज़!तुम यहा कैसे?"

"मैने कुच्छ ही दिन पहले क्लब जाय्न किया है,सर.",वो टांग पे टांग चढ़ा उनके सामने की कुर्सी पे बैठ गयी.

"दट'स ग्रेट!"

"अब आपकी तबीयत कैसी है,सर?"

"बिल्कुल बढ़िया..",चंद्रा साहब ने 1 नज़र उसकी गोरी टाँगो पे डाली,"..तभी तो आज यहा बैठा हू.तुम्हारी आंटी बहुत दीनो से अपने भाई से मिलने जाना चाह रही थी पर मेरी बीमारी की वजह से जा नही पा रही थी.अब तबीयत संभाल गयी तो आज उसे नौकर के साथ 4 दीनो के लिए वाहा भेज दिया & सोचा की आज खाना यहा खाया जाए."चंद्रा साहब की नज़रे 1 पल को उसके स्कर्ट की बगल से झँकते जाँघो के हिस्से पे गयी & फिर उठ के उसके चेहरे को देखने लगी.

उनकी इस हरकत पे कामिनी मन ही मन मुस्कुराइ,"आज मैं भी आपके साथ ही खाऊंगी सर!"

"हां-2 क्यू नही!"

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:38 AM
Post: #83
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
खाना ख़त्म करने के बाद दोनो घर जाने के लिए बाहर आए,"सर,कार अचानक खराब हो गयी है.",ये चंद्रा साहब का ड्राइवर था,"..& अब इस वक़्त कोई मेकॅनिक भी नही मिल रहा है."

"सर,मैं आपको छ्चोड़ देती हू.",कामिनी के दिमाग़ मे 1 ख़याल कौंधा,शायद आज रात उसे अकेली नही सोना पड़े.

"तुम्हे खमखा तकलीफ़ होगी."

"तकलीफ़ कैसी,सर.मेरा घर आपके घर से कोई ज़्यादा दूर तो है नही."

"अच्छा..",वो ड्राइवर की ओर घूमे,"..सुनो,तुम अभी अपने घर जाओ,कार यही रहने दो.कल सवेरे बनवा के घर ले आना."

"ठीक है,सर."

दोनो कामिनी की कार मे बैठ के चंद्रा साहब के घर के लिए रवाना हो गये.कार चलते हुए कामिनी ने देखा की बगल की सीट पे बैठे चंद्रा साहब चोर निगाहो से उसकी नंगी टाँगो को देख रहे हैं.उसने उन्हे थोड़ा और तड़पने की गरज से कार के 1 ट्रॅफिक सिग्नल पे रुकते ही उनकी नज़र बचा के अपनी स्कर्ट थोड़ा उपर कर ली.अब घुटनो के उपर उसकी नर्म जाँघो का हिस्सा भी दिख रहा था.चंद्रा साहब तो अब बस उसकी जाँघो को घूर्ने लगे.कामिनी को इस खेल मे बहुत मज़ा आ रहा था & चंद्रा साहब तो उनके घर पहुँचने तक बुरी तरह बेचैन हो गये थे-इसका सबूत था उनका बार-2 अपने लंड पे हाथ फेरना जैसे उसे शांत रहने को कह रहे हो.

"सर,आज तो आप घर मे बिल्कुल अकेले हैं ना?",कामिनी भी उनके साथ कार से उतरी.

"हां."

"तो चलिए,मैं देख लेती हू की आपकी ज़रूरत की सारी चीज़े है ना..फिर अपने घर जाऊंगी."

"तुम बेकार मे परेशान हो रही हो,कामिनी."

"कोई बात नही,सर.",उसने उनके हाथ से चाभी लेके दरवाज़ा खोला & दोनो अंदर आ गये.

"आप जाके कपड़े बदलिए,सर.मैं तब तक किचन & फ्रिड्ज देख लेती हू की उनमे सुबह के नाश्ते के लिए क्या है."

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:39 AM
Post: #84
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
चंद्रा साहब अपने बेडरूम मे गये,तब तक कामिनी ने फटाफट फ्रिड्ज चेक किया-वो पूरा भरा हुआ था.ये वो पहले से जानती थी की आंटी ने सब इंतेज़ाम कर रखा होगा.उसे तो बस उनके साथ घर मे घुसने का बहाना चाहिए था.इसके बाद वो उनके बेडरूम मे घुस गयी,चंद्रा साहब ने शर्ट उतार दी थी & अपनी अलमारी मे कुच्छ ढूंड रहे थे,"क्या ढूँढ रहे हैं,सर?"

"वो..",वो केवल पॅंट मे थे & उनका सफेद बालो से ढँका सीना नंगा था,ऐसी हालत मे उन्हे कामिनी के सामने थोड़ी झिझक हो रही थी पर उसे तो जैसे कोई परवाह ही नही थी,"..कुर्ता-पाजाम ढूंड रहा था,पता नही तुम्हारी आंटी ने कहा रख दिया है."

"लाइए मैं ढूंडती हू.",कामिनी उनके बगल मे खड़ी हो अलमारी मे कपड़े ढूँदने लगी तभी उसे अपनी गंद पे वोही पुराना एहसास हुआ-उसके गुरु उसकी गंद को सहला रहे थे.कामिनी ने पलट के उनकी आँखो मे आँखे डाल दी तो उन्होने सकपका के हाथ खींच लिया & घूम कर बिस्तर के पास खड़े हो गये.

कामिनी उनके पास गयी & उन्हे घुमा कर उनका चेहरा अपनी तरफ किया,"आपने हाथ क्यू खींच लिया,सर?"

चंद्रा साहब ने चेहरा घुमा लिया,"...प्लीज़,सर बोलिए ना."

"आइ'एम सॉरी,कामिनी."

"मगर क्यू?मुझे तो बिल्कुल बुरा नही लगा,सर.",चंद्रा साहब ने हैरत से उसे देखा,"..हां..जब मैं आपके साथ काम करती थी तो भी तो आप मुझे छुते थे,सर..मगर मैने कभी कुच्छ नही कहा..वो शाम जब लाइट चली गयी थी याद है आपको..उस दिन भी मैने कुच्छ नही कहा था...क्यू अनल्पाई.नेट सर जानते हैं?",चंद्रा साहब बस इनकार मे सर हिला पाए.

"क्यूकी मुझे आपकी हरकत बिल्कुल बुरी नही लगी,सर बल्कि मुझे तो बहुत मज़ा आआया था..मगर आपने शायद शर्मिंदगी महसूस की..कि आप अपनी इतनी कम उम्र की असिस्टेंट के साथ ऐसी हरकत कैसे कर सकते हैं..इसीलिए अपने विकास & मुझे अलग प्रॅक्टीस करने को कहा था.है ना?"

चंद्रा साहब ने हां मे सर हिलाया.

"मगर क्यू,सर?इसमे शर्म की क्या बात है!आप अच्छी तरह जानते हैं की अगर मेरी रज़ामंदी नही होती तो आप मेरा नाख़ून भी नही च्छू सकते थे.तो जब मेरी भी रज़मदी थी फिर आपको शर्मिंदा होने की क्या ज़रूरत थी?"

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:39 AM
Post: #85
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"मगर..-"

"नही,सर,इसमे कोई बुराई नही है.आप क्यू अपना मन मार रहे हैं?..और इसमे कुच्छ ग़लत नही है..आज ही की बात लीजिए..हुमारा क्लब मे मिलना,आपकी कार का खराब होना...यू घर का खाली होना..क्या सब इत्तेफ़ाक़ है या शायद कुद्रत भी हमे आज मिलाना चाहती है...& कुद्रत के खिलाफ जाने वाले हम कौन होते हैं.",उसने उनका दाया हाथ थामा & अपनी गंद पे रख दिया,"..अब बेझिझक होके च्छुईय मुझे."

चंद्रा साहब उसकी बातो को सुन फिर से गरम हो गये थे.इतनी खूबसूरत,जवान लड़की खुद उन्हे अपने पास बुला रही थी,फिर उन्हे क्या ऐतराज़ हो सकता था.वो दोनो हाथो से उसकी गंद की फांको को स्कर्ट के उपर से सहलाने लगे,"उउन्न्नह..",कामिनी ने उनके कंधे पे हाथ रख दिए & आँखे बंद करके आहे भरने लगी.धीरे-2 चंद्रा साहब के हाथो का दबाव बढ़ने लगा तो कामिनी भी उनके सीने को सहलाते हुए वाहा के सफेद बालो से खेलने लगी.

उसके हाथ उनके सीने से फिसलते हुए नीचे गये & उनकी पॅंट से टकराए तो उसने उसे फ़ौरन उतार दिया,फिर उनकी छाती पे हाथ रख के हल्के से धकेला तो वो बिस्तर पे बैठ गये & अपनी पॅंट को अपने पैरो से निकाल दिया.अब वो अंडरवेर पहने पलंग पे बैठे थे,कामिनी उनके करीब गयी & उनकी टाँगो के बीच खड़ी हो अपना दाया घुटना उनकी बाई जाँघ के बगल मे बिस्तर पे रखा दिया & फिर उनके हाथो को अपनी गंद से लगा दिया.चंद्रा साहब फिर से उसकी गंद से खेलने लगे.कामिनी ने आँखे बंद कर अपनी बाहे उनके कंधो पे टीका दी & हाथो से उनके सर को सहलाने लगी.

चंद्रा साहब ने उसकी स्कर्ट उठा दी थी & अब उसकी पॅंटी के उपर से उसकी गंद को छेड़ रहे थे.उनके हाथ घुटनो तक उसकी जाँघ पे फिसल कर नीचे आते & फिर वैसे ही उपर जा के उसकी गंद की फांको को दबाने लगते.कामिनी मस्त हो आहे भर रही थी.अचानक उसे महसूस हुआ की चंद्रा साहब अपने हाथ उसके जिस्म से हटा रहे हैं.उसने फ़ौरन उनकी कलाया पकड़ हाथो को गंद पे वापस दबा दिया & आँखे खोल उन्हे सवालिया नज़रो से देखा,"..तुम्हारी शर्ट.."

"..आप सिर्फ़ हुक्म कीजिए,सर.काम करने के लिए आपकी ये असिस्टेंट है ना!",उसके जवाब ने चंद्रा साहब के जोश को और बढ़ा दिया & उन्होने बेदर्दी से उसकी गांद भींच दी,"..ऊओवव्व...!",कामिनी ने अपनी शर्ट के बटन खोल उसे ज़मीन पे गिरा दिया.चंद्रा साहब 1 तक उसकी सफेद ब्रा मे कसी चूचियो को देख रहे थे.ब्रा मे से नज़र आता उसका क्लीवेज बड़ा प्यारा लग रहा था.उन्होने हल्के से उसके क्लीवेज को चूमा,"..उउंम.."

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:40 AM
Post: #86
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"इसे भी हटा दो.",कामिनी ने उनकी आँखो मे झँकते हुए अपना ब्रा खोल दिया,चंद्रा साहब की आँखो के सामने उसकी बड़ी,मस्त चूचिया छलक उठी.नंगी होते ही उन्होने अपना मुँह उनके बीच घुसा दिया,"..ऊहह...",कामिनी ने उनके सर को बड़े प्यार से हाथो मे थाम लिया & वो उसकी गंद मसल्ते हुए चूचियो को चूमने,चूसने लगे.काफ़ी देर तक वो वैसे ही उसकी छातियो पे लगे रहे & जब उठे तो कामिनी ने देखा की उसका सीना उनकी ज़ुबान ने पूरा गीला कर दिया था.

चंद्रा साहब अब उसके पेट को चूम रहे थे.उनकी जीभ उसके मखमली पेट को चाटते हुए उसकी नाभि मे घुस गयी तो कामिनी की जैसे सांस अटक गयी & वो उनके सर को अपने पेट पे दबाते हुए झुक के उनके सर को चूमने लगी.उसकी नाभि को जी भर के चाटने के बाद उन्होने ने अपना सर उठाया & उसकी स्कर्ट की ओर इशारा किया.शोखी से मुस्कुराती हुई कामिनी ने हौले से स्कर्ट के हुक्स खोल दिए.स्कर्ट उसके पैरो के गिर्द दायरे मे ज़मीन पे गिर गयी.छ्होटी सी सफेद पॅंटी मे खड़ी कामिनी को देख चंद्रा साहब की खुशी का ठिकाना नही था.

उन्होने उसकी कमर को अपनी बाहो मे कस लिया & उसकी कमर के बगल मे चूमते हुए उसकी पॅंटी से ढँकी गंद को देखने लगे.उनके दिल मे उस गंद को नंगी देखने की हसरत जागी & उन्होने बिजली की तेज़ी से उसकी पॅंटी उतार उसे पूरा नगी कर दिया.पहली बार वो अपनी असिस्टेंट की मस्त गंद को-जिसने उन्हे पहले दिन से दीवाना कर रखा था,नंगी देख रहे थे.वो अपना सर उसकी कमर पे टिकाए उसकी गंद को देखते हुए अपने हाथो से उसे मसल रहे थे.

"ऊन्न्ह्ह....उउंम्म....".कामिनी अपना बाया हाथ उनके सर पे रखे & दाया हाथ अपने मज़े मे पीछे झुके सर पे रख आहे भरे जा रही थी.चंद्रा साहब उसकी कमर को चूमते हुए सामने उसकी चूत पे चूमने ही वाले थे की उसने उन्हे परे कर दिया.चंद्रा साहब ने चौंक कर उसे देखा तो वो झुक के उनके पैरो के बीच बैठ गयी & उनका अंडरवेर खींच दिया.उसकी आँखो के सामने उनका 7 इंच लंबा लंड पूरा तना हुआ नाच उठा.लंड का सूपड़ा प्रेकुं से गीला था.कामिनी ने लंड को अपने हाथो मे पकड़ा तो चंद्रा साहब ने मज़े मे आँखे बंद कर अपना सर पीछे झुका लिया.कामिनी ने लंड के गीलेपान को चाट कर सॉफ कर दिया.चंद्रा साहब ने उसका सर थाम लिया तो वो समझ गयी की अगर उसने थोड़ी देर और लंड को मुँह मे रखा तो वो झड़ जाएँगे.

1 तो वो बूढ़े थे दूसरे अभी बीमारी से उठे उन्हे ज़्यादा समय नही हुआ था.कामिनी जानती थी की अगर अभी वो झाड़ गये तो दुबारा खड़ा होने मे लंड को वक़्त लग सकता है & शायद वो प्यासी भी रह जाए.उसने लंड को छ्चोड़ा & फ़ौरन बिस्तर पे चढ़ गयी.वो बिस्तर पे पीठ के बल लेट गयी.उसने अपनी बाहे अपने सर के बगल मे उपर कर फैला दी,ऐसा करने से उसकी बड़ी चूचिया कुच्छ और उभर गयी,उसने अपनी टाँगो को भी थोड़ा फैला लिया,"आइए,सर.कर लीजिए अपनी तमन्ना पूरी.आज मैं आपकी हू...मुझे जी भर के प्यार कीजिए."

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:40 AM
Post: #87
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
इन लफ़ज़ो ने जैसे चंद्रा साहब की रागो मे बह रहे खून को फिर से जवान कर दिया.वो अपनी असिस्टेंट पे टूट पड़े..कभी वो उसकी मस्त चूचिया चूमते तो कभी गोल पेट..उनके हाथ कभी उसके चेहरे को सहलाते तो कभी उसकी बिना बालो की,चिकनी,गुलाबी चूत को.उनकी हालत इस वक़्त उस बच्चे की तरह थी जिसे उसकी सालगिरह पे ढेर सारे खिलोने मिले हैं & उसे ये समझ मे नही आ रहा की पहले वो किस खिलोने से खेले!

चंद्रा साहब ने उसके उपर चढ़ उसके गुलाबी होंठो को चूमा तो कामिनी ने अपनी ज़ुबान उनके मुँह मे घुसा उनकी जीभ से लड़ा दी.चंद्रा साहब तो जैसे पागल से हो गये.अपने हाथो से उसकी छातियो को बेदर्दी से मसल्ते हुए वो पूरे ज़ोर-शोर से उसे चूमने लगे.कामिनी भी बेचैनी से उनके पूरे बदन पे हाथ फिरा रही थी.उसे उनसे इतनी गर्मजोशी की उम्मीद नही थी & अब उसे बहुत मज़ा आ रहा था.

चंद्रा साहब उसके होतो को छ्चोड़ नीचे उसके सीने पे पहुँचे & काफ़ी देर तक जाम कर उसकी गोलैईयों को दबाया,मसला,चूमा,चॅटा & चूसा.उसके पेट को चूमने के बाद उन्होने उसकी कमर पकड़ उसे पलट दिया & उसकी मखमली पीठ को चूमने लगे.उसकी पीठ चूमते हुए वो नीचे बढ़े तो कामिनी अपनी कोहिन्यो पे अपने बदन का भर रहते हुए अपना सर बिस्तर से उठा लिया & आहे भरने लगी.

चंद्रा साहब उसकी कमर को चूमते हुए उसकी गंद तक पहुँचे & उसे अपने हाथो मे दबोच लिया.गंद की 1 फाँक उनके हाथो मे होती तो दूसरी पे उनकी ज़ुबान चल रही होती.कामिनी तो बस मस्ती मे उड़ी जा रही थी.1 शादीशुदा इंसान के साथ उसकी बीवी की गैरमौजूदगी मे उसी के बिस्तर पे ये सब करना उसके जोश को और बढ़ा रहा था & उसकी चूत तो बस पानी छ्चोड़े जा रही थी.

"ऊऊहह.....!",चंद्रा साहब ने उसकी गंद को ज़रा सा फैलाया & उसकी टाँगो के बीच अपने घुटनो पे झुक अपना मुँह पीछे से उसकी चूत पे लगा दिया था.अब तो कामिनी पागल ही हो गयी.चंद्रा साहब हाथो से उसकी गंद को मसल्ते हुए उसकी चूत चाटे जा रहे थे & वो बस मस्ती मे दीवानी हो रही थी.उसने अपनी कमर थोड़ी सी उठा ली & हिला के चंद्रा साहब के मुँह पे रगड़ने लगी.वो बस मज़बूती से उसकी कमर थामे उसकी चूत चाटे जा रहे थे.कामिनी अब अपनी मंज़िल के करीब पहुँच रही थी की तभी चंद्रा साहब ने उसकी कमर को हवा मे उठा दिया.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:41 AM
Post: #88
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
वो अपना लंड थामे उसके पीछे अपने घुटनो पे आ गये तो कामिनी समझ गयी को वो उसे डॉगी स्टाइल मे चोदेन्गे.उसने अपना सर गद्देदार बिस्तर मे धंसा दिया & गर्दन मोड़ कर देखने लगी की कैसे उनका लंड उसकी गीली चूत मे घुस रहा है.चंद्रा साहब ने धीरे-2 करके पूरा लंड उसकी चूत मे उतार दिया & उसकी कमर पकड़ धक्के लगाने लगे.

"तड़क..!",उन्होने उसकी गंद पे 1 चपत मारी,"ऊव..!",कामिनी करही पर साथ ही उसे मज़ा भी आया.चंद्रा साहब वैसे ही उसकी गंद पे चपत लगाते हुए धक्के लगा के उसकी चुदाई करने लगे.कामिनी को भी इसमे बहुत मज़ा आ रहा था.अचानक चंद्रा साहब ने चपत लगाना छ्चोड़ दिया & दोनो हाथो से उसकी कमर थामे बड़े गहरे धक्के लगाने लगे,कामिनी समझ गयी की वो अपनी मंज़िल के करीब पहुँच रहे हैं पर उसकी मंज़िल अभी दूर थी.

"सर,ज़ा...रा इन...हे भी तो डब...आइए...ना..आ..न्न्ह..!",उसने वैसे ही झुके हुए अपनी छातियो की ओर इशारा किया तो चंद्रा साहब ने बाए हाथ से उसकी कमर थामे दाए को उसकी दाई चुचि से चिपका दिया.कामिनी वैसे ही झुके हुए अपनी बाई बाँह पे अपने बदन को टिकाए दाए हाथ से अपनी चूत के दाने को रगड़ने लगी.कमरे मे बस दोनो की आहो का शोर गूँज उठा & थोड़ी ही देर बाद चंद्रा साहब आहे भरते हुए कामिनी की चूत को अपने पानी से भर रहे थे,ठीक उसी वक़्त उनके लंड & अपनी उंगली की मिली-जुली रगड़ से कामिनी भी झाड़ गयी.

चंद्रा साहब ने लंड निकाला & हान्फ्ते हुए बिस्तर पे लेट गये.कामिनी भी उठी & उनकी बाई तरफ करवट से लेट गयी1 चादर खींच उसने दोनो के जिस्मो को ढँका,फिर उसने उन्हे अपनी ओर घुमाया & उनका सर अपनी छातियो मे दबा लिया & अपनी बाहो मे कस लिया.चंद्रा साहब वैसे ही नींद के आगोश मे चले गये तो कामिनी ने भी आँखे बंद कर ली.उसके चेहरे पे काफ़ी सुकून का भाव था.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:41 AM
Post: #89
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
नंदिता ने दीवार पे तंगी घड़ी पे नज़र डाली,1 बज रहे थे & षत्रुजीत अभी तक घर नही आया था.तभी उसके कानो मे किसी कार के बंगल के अंदर दाखिल होने की आवाज़ आई.उसमे इंटरकम उठा के नंबर दया,"साहब आ गये क्या?"

"नही,मेमसाहब.साहब नही आए केवल अब्दुल भाई आए हैं.",नंदिता ने इंटरकम रखा & बत्ती बुझा कर अपने बिस्तर पे लेट गयी,फिर अपना मोबाइल ऑन किया & 1 नंबर मिला के अपने कानो से लगा लिया.

--------------------------------------------------------------------------

कामिनी की नींद खुली तो उसने देखा की चंद्रा साहब अभी भी उसके आगोश मे वैसे ही करवट से लेते हुए उसकी चूची के निपल को चूस रहे हैं.उसने सर उठा के घड़ी को देखा,अभी सवेरा होने मे बहुत वक़्त था.तभी चंद्रा साहब ने उसके निपल पे हल्के से काट लिया,"..आहह.."

उसने अपनी बाई टांग उनकी कमर पे चढ़ा दी & उनका चेहरा अपने सीने से उठाया.चंद्रा साहब ने बाई बाँह उसकी गर्दन के नीचे लगाई & दूसरी से उसकी कमर को जकड़ते हुए उसकी भारी गंद दबाने लगे.कामिनी उन्हे बाहो मे भरे उनके होंठ चूमे जा रही थी की चंद्रा साहब ने 1 बार फिर 1 झटके मे ही अपना लंड उसकी चूत मे घुसा दिया.

दोनो 1 दूसरे को कस के बाहो मे जकड़े हुए थे & इस कारण की कामिनी की बड़ी चूचिया उनके बालो भरे सीने से बिल्कुल पीस गयी थी & उसे वाहा गुदगुदी का एहसास हो रहा था.चंद्रा साहब जिस जोश के साथ उसे चोद रहे थे उस से कामिनी को समझ मे आ गया की जब तक उनकी बीवी वापस नही आती तब तक वो उसे यहा से जाने नही देंगे.इस ख़याल ने उसे थोड़ा और मस्त कर दिया,उसने अपनी टांग से अपने गुरु की कमर को कस लिया & उनसे चुड़ाने लगी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:42 AM
Post: #90
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
जगबीर ठुकराल अपनी ऐषगाह के फूलो से सजे बिस्तर के हेडबोर्ड से टेक लगाए टाँगे फैलाए नंगा बैठा था.1 लड़की उसकी टाँगो के बीच झुकी उसकी आँखो मे आँखे डाले उसका लंड चूस रही थी.ये बिल्कुल नयी लड़की थी,उसने कल ही 1 लड़की को चलता किया था-उस से उसका जी भर गया था & उसकी जगह इस नयी लड़की को लाया था.बाकियो की तरह ये लड़की भी बला की खूबसूरत & सेक्सी थी.

लंड मुँह से निकाल उसने उसे अपनी बड़ी छातियो के बीच दबा दिया.ठुकराल के जिस्म मे मज़े की लहर दौड़ गयी,ठीक उसी वक़्त उसका मोबाइल बजा.उसने उसे उठाके नंबर देखा & उसे अपने कान से लगा लिया,"बोलो माधो...क्या?!...मगर क्यू?"

"मालिक,उसकी बेटी की ससुराल मे कुच्छ अज़रूरी काम आ गया है इसलिए वो अभी नही आ पा रही है..इसी चलते प्लान 5 दीनो के लिए टालना पड़ेगा."

"और कोई रास्ता नही है,माधो?",वो लड़की के चेहरे को सहला रहा था & लड़की मस्त हो रही थी.

"नही,मलिक,और फिर मुझे लगता है कि हमे अभी ज़्यादा जल्दबाज़ी भी नही करनी चाहिए.अगर उसकी बेटी यहा नही आती थी तो फिर पोलीस को कौन खबर करेगा."

"ह्म्म..ठीक है.चलो,5 दिन और सही.",ठुकराल ने मोबाइल किनारे रख दिया.उसका मूड खराब हो गया था & उसे ठीक करने के लिए उस लड़की को आज काफ़ी मेहनत करनी थी.लड़की लंड को हाथो मे भर उसके सूपदे पे जीभ फेर रही थी.ठुकराल ने उसे उठाया & अपनी गोद मे अपने लंड पे बैठने का इशारा किया.लड़की की आँखो मे मस्ती भरी हुई थी.वो तेज़ी से ठुकराल के कंधो पे हाथ रख उसके लंड पे बैठने लगी.उस बेचारी को पता नही था की कल देर सुबह तक उसे यू ही अलग-2 तरीक़ो से इस राक्षसी लंड को अपनी फूल सी कोमल चूत मे लेना था.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
Post Reply 


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
  झंडाराम और ठंडाराम - सेक्स का गेम खेला अपनी पत्नियों के साथ Le Lee 5 6,025 03-20-2018 04:41 PM
Last Post: sanpiseth40
  सेक्स-चैट Le Lee 5 4,804 07-18-2017 04:10 AM
Last Post: Le Lee
  [Indian] कहानी रीडर sexguru 3 11,929 07-04-2015 09:32 PM
Last Post: sexguru
  फ़ोन सेक्स - मोबाइल फ़ोन सेक्स Sex-Stories 190 172,935 08-04-2013 09:36 AM
Last Post: Sex-Stories
  दो वेश्या के साथ देसी सेक्स Sex-Stories 0 14,630 06-20-2013 10:22 AM
Last Post: Sex-Stories
  सेक्स और संभोग Sex-Stories 0 12,944 05-16-2013 09:11 AM
Last Post: Sex-Stories
  ममता कालिया की कहानी Sex-Stories 0 10,404 04-24-2013 11:04 PM
Last Post: Sex-Stories
  जानते है उन्हें क्या चाहिए - सेक्स Sex-Stories 23 19,837 04-24-2013 03:18 PM
Last Post: Sex-Stories
  सयानी बुआ और मन्नू भंडारी की कहानी Sex-Stories 3 12,424 04-24-2013 03:02 PM
Last Post: Sex-Stories
  सुहागरात की कहानी : तान्या की जुबानी Sex-Stories 4 27,842 02-22-2013 01:15 PM
Last Post: Sex-Stories