Post Reply 
गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
10-03-2010, 10:31 AM
Post: #71
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
कामिनी ने सर झुका कर पहली बार करण के लंड का दीदार किया.काली,चमकती झांतो से घिरे 2 बड़े अंदो के उपर उसके जिस्म की तरह ही उसका 7 1/2 इंच लंबा लंड हल्के-2 ठुमके लगा रहा था.प्रेकुं की वजह से उसका गुलाबी सूपड़ा चमक रहा था.विकास के लंड के बाद ये दूसरा लंड था जिसे कामिनी ऐसे देख रहे थी.उसे ये देख के खुशी हुई की लंड उसके पूर्वपति के लंड से कुच्छ बड़ा ही था.बस कुच्छ ही देर मे उसकी चूत की प्यास बुझने वाली थी.

करण ने बाए हाथ से उसके प्यारे चेहरे को पकड़ कर चूमा & दाए हाथ से लंड को थाम कर उसकी चूत पे लगा दिया & फिर 1 ज़ोर का धक्का दिया,"..आनन्नह...!",1 ही झटके मे आधा लंड उसकी गीली चूत मे सरर से घुस गया.कामिनी ने फ़ौरन अपनी मरमरी बाहे उसकी गर्दन मे डाल दी.

हाइ हील्स से सजे पाँवो को उसने आएडियो पे क्रॉस करते हुए कारण की गंद के नीचे लगा उसे अपनी गिरफ़्त मे कस लिया.शेल्फ पे सहारे के लिए हाथो को रख करण उसके रसीले होंठो को चूमते हुए धक्के लगा लंड को जड़ तक उसकी चूत मे धसने लगा,"आँह...आँह...आअंह...आआअननह..."

कामिनी को विकास के लंड की आदत थी & करण का लंड उस से 1 1/2 इंच बड़ा था सो जब लंड पूरा अंदर गया तो उसे थोडा दर्द हुआ पर उस से भी कही ज़्यादा उसे वो मज़ा आया जिसे वो भूल ही चुकी थी.वो बेचैनी से अपनी कमर उचकाने लगी तो करण ने अपने हाथ उसकी गंद की फांको के नीचे लगा उन्हे थाम लिया & ज़ोर-2 से धक्के लगाने लगा.

कामिनी की आहे बहुत तेज़ हो गयी & वो मस्ती मे पागल हो करण से चिपक गयी & उसे चूमते हुए अपनी कमर हिलाने लगी.उसकी प्यासी चूत ने अरसे बाद लंड की रगड़ाहट महसूस की थी & वो बस पानी पे पानी छ्चोड़ रही थी,"ओह्ह्ह...!",करण करहा,मस्ती मे कामिनी ने अपनी सॅंडल्ज़ की हील्स की नोक उसकी गंद मे धंसा दी थी & दर्द से उसके धक्के और तेज़ हो गये & कामिनी दुबारा झाड़ गयी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:32 AM
Post: #72
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
करण उसे वैसे ही गंद से उठाए हुए बिस्तर पे ले आया & वैसे ही उसे लिएट उसके उपर लेट गया.उसकी गंद की फांको को मसलते हुए वो उसके प्यारे चेहरे को चूम रहा था.थोड़ी देर मे कामिनी फिर से मस्त होने लगी तो वो उसके होंठो को चूमने लगी.करण काफ़ी देर से अपने उपर काबू रखे हुए थे-अब उसकी बारी थी.अपनी प्रेमिका की गंद मसलते हुए उसने फिर से धक्के लगाना धुरू किया.

शुरू मे धक्के काफ़ी हल्के थे,फिर उसने पूरा लंड बाहर निकाल कर गहरे धक्के लगाना शुरू किया तो कामिनी फिर से पागल हो गयी...वो अपने हाथो से उसकी पीठ & गंद को सहलाने लगी & अपनी टांगे उसेन फिर से उसकी कमर पे कस दी.कारण उसकी छातियो को चूस्ता हुआ बस उस चोदे जा रहा था.उसे तो बस अब इस कसी,गुलाबी चूत को अपने पानी से भर देना था.

कामिनी फिर से मस्ती की खुमारी मे आ गयी थी,उसकी आँखे बंद हो गयी थी & वो बस अपने प्रेमी की चुदाई का मज़ा लेते हुए ज़ोर-2 से आहे भर रही थी.कारण का लंड उसकी चूत की गहराईयो मे तेज़ी से अंदर-बाहर हो रहा था.मज़ा बढ़ा तो उसने अपने नाख़ून उसकी पीठ मे गाड़ा दिए.उसका दिल किया की वो बस उसके लंड को अपनी चूत मे भींच दे...उसने अपनी टांगे उसकी कमर पे और कस दी & ऐसा करते ही उसकी हील्स करण की गंद की दोनो फांको मे धँस गई.

"..आहह...",करण करहा & उसकी चूचियो से मुँह हटा उसने अपना सर उपर उठा लिया & उसके धक्के और तेज़ हो गये.

"हन...हान्ं....हान्न्न...हा...आअन्न्*नणणन्....!",क ामिनी ने उसकी पीठ मे अपने नाख़ून धंसा दिए & अपना जिस्म बिस्तर से उठती हुई झाड़ गयी.उसकी हर्कतो,उसके चेहरे के भाव & उसकी चूत की सिकुड़न ने करण का भी सब्र तोड़ दिया & वो भी आहे भरता हुआ,तेज़ धक्के लगाता उसकी चूत को अपने पानी से भरने लगा.

झड़ते ही वो हांफता हुआ कामिनी के सीने पे गिर गया...कितने दीनो बाद कामिनी की चूत की प्यास बुझी थी...उसके होंठो पे हल्की सी मुस्कान खिल गयी & दिल मे करण के लिए बहुत प्यार उमड़ पड़ा.उसने उसके सर को बाहो मे भर लिया & उसके सर को हल्के-2 चूमने लगी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:32 AM
Post: #73
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
करण ने सर उठाया तो दोनो 1 दूसरे को देख मुस्कुरा दिए.बढ़िया चुदाई से दोनो के जिस्मो की आग ठंडी हो गयी थी & अब दोनो के चेहरो पे संतोष & खुशी के भाव थे.कामिनी करण के चेहरे को अपने हाथो से सहलाने लगी.

करण के हाथ अभी भी उसकी मस्त गंद के नीचे दबे हुए थे.उसने उन्हे वाहा से खींचा तो तो वो कामिनी के पैरो से टकरा गये जिन्हे उसने उसकी कमर से उतार कर अब घुटनो को मोड़ बिस्तर पे रख लिया था,"इन्होने तो मेरी हालत खराब कर दी!",उसने उसकी हाइ हील सॅंडल्ज़ की ओर इशारा किया तो दोनो हँस पड़े.

कामिनी अपनी 1 टांग उठा हाथ बढ़ा के उस पैर की सॅंडल खोलने लगी तो करण,वैसे ही उसके उपर लेटे उसकी चूत मे अपना सिकुदा लंड डाले उसकी दूसरी सॅंडल उतारने लगा.थोड़ी ही देर बाद दोनो सॅंडल्ज़ ज़मीन पे गिरी हुई थी.

दोनो 1 दूसरे के चेहरो पे हाथ फेरते हुए 1 दूसरे को चूमने लगे,"आइ लो-.."

"प्लीज़ करण..",कामिनी ने उसके होंठो पे हाथ रख दिया & उसे अपने उपर से हटते हुए उठ बैठी.

"क्या हुआ कामिनी?",करण भी उठ गया & उसकी बगल मे बैठ उसे अपनी बाई बाँह के घेरे मे ले लिया.

"करण.."

"हां,कामिनी कहो."

"करण,प्लीज़ हुमारे रिश्ते को कोई नाम मत दो...प्लीज़!"

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:33 AM
Post: #74
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"मगर..-"

"प्लीज़ करण,ऐसा करना कोई ज़रूरी तो नही.देखो मुझे ग़लत मत समझना.जितनी खुशी मैने तुमसे अभी पाई है,उसे मैं लफ़ज़ो मे बयान नही कर सकती..",कामिनी थोडा घूम कर उसके सीने को सहला रही थी.करण का बाया हाथ तो अभी भी कामिनी के बाए कंधे पे था,मगर दाया अब उसकी भारी दाई जाँघ पे फिसल रहा था.

"..लेकिन मैं रिश्तो के पचदे मे पड़ हुमारे इस खूबसूरत एहसास को खोना नही चाहती....मुझे नही पता कल मेरी ज़िंदगी क्या मोड़ लेगी...हो सकता है,मैं फिर से शादी कर लू....या फिर हो सकता है ऐसे ही रहू...",उसका हाथ करण के सीने से सरक नीचे उसकी गोद मे लटक रहे लंड पे आ गया था,सिकुदे लंड को मुट्ठी मे भरने उसे बहुत अच्छा लगा.

करण भी अब उसकी जाँघो से आगे बढ़ हाथ को उसकी दोनो के रसो से भीगी चूत पे ले गया था.कामिनी ने थोडा आगे बढ़ जैसे उसकी उंगलियो को चूत के अंदर लेने की कोशिश की,"..मगर आज मैं बस अपनी ज़िंदगी भरपूर जीना चाहती हू..इसका पूरा लुत्फ़ उठना चाहती हू..बिना किसी बंधन के.",उसके हाथो की हर्कतो से करण का लंड 1 बार फिर खड़ा हो गया था & उसकी चूत भी करण की उंगलियो की रगड़ से कसमसने लगी थी.

"मैं तुम्हारी बात समझ गया,कामिनी.तुम जैसा चाहती हो वैसा ही होगा.मैं हुमारे इस रिश्ते को कोई नाम नही दूँगा.",उसका जवाब सुनते ही कामिनी ने अपने होंठ उसके होंठो से सटा दिए.कारण ने चूमते हुए उसे लिटाया & उसकी टांगे फैला उसके उपर सवार हो 1 बार फिर उसकी चूत मे अपना लंड घुसाने लगा.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:33 AM
Post: #75
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
जगबीर ठुकराल अपनी ऐसह्गह के फूलो से सजे बिस्तर पे अपनी 1 रखैल के उपर चढ़ा हुआ था.उस लड़की ने 1 बहुत ढीली,झीनी नाइटी पहनी थी जोकि उसके घुटनो के उपर तक आती थी.वो लड़की पीठ के बाल लेटी थी & केवल 1 अंडरवेर पहने ठुकराल उसके उपर लेट उसकी नाइटी के गले मे से उसकी 1 चूची निकाल कर चूस रहा था.3 लड़किया बिस्तर पे ही उनके पास बैठी उनके बदनो को सहलाती हुई उनका कामुक खेल देख रही थी.पाँचवी लड़की अभी-2 शवर क्यूबिकल से नहा के निकली थी & तौलिए से अपना बदन पोंच्छ रही थी.

तभी ठुकराल का मोबाइल बजा तो उसने लड़की की छाती से सर उठा कर फोन लाने का इशारा किया.वो नहा कर आई लड़की केवल 1 पॅंटी पहने आगे बढ़ी & मेज़ से मोबाइल उठाकर ठुकराल की पीठ पे अपनी नंगी चूचिया दबाती लेट गयी.अब 1 लड़की के उपर ठुकराल था & उसके उपर ये दूसरी लड़की.

लड़की ने मोबाइल ऑन कर पीछे से ठुकराल के दाए कान पे लगा दिया & उसके सर को चूमने लगी,"हेलो....अच्छा...ठीक है,मैं अभी नीचे आता हू,माधो..तुम गाड़ी निकालो.",ठुकराल लड़की के उपर से उठने लगा तो उसके उपर सवार लड़की भी उसकी पीठ से उतर गयी.ठुकराल बिस्तर से उतर कर खड़ा हुआ & उसकी ओर हाथ बढ़ाया.लड़की मुस्कुराती हुई उसकी बाहो मे आ गयी,"चलो घूमने चलते हैं."

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:33 AM
Post: #76
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
कोई भी इंसान अपने दिल मे खुद के कितने भी राज़ च्छूपा ले,उसे 1 राज़दार की ज़रूरत तो पड़ती ही है.ठुकराल का राज़दार था माधो.ठुकराल ने उसपे कभी कोई बहुत बड़ा एहसान किया था,उस दिन से माधो बस उसका भक्त बन गया.अब तो वो उसका सेक्रेटरी,बॉडीगार्ड,ड्राइवर सभी कुच्छ था...यू कहिए की वो ठुकराल की परच्छाई था.

दुनिया उसे उसका खास नौकर समझती थी.निचली मंज़िल की देख-रेख उसी के ज़िम्मे थी मगर उसे उपरी मंज़िल के बारे मे भी सब पता था & ठुकराल के बाद वही दूसरा मर्द था जो कभी भी वाहा जा सकता था.लंबा,तगड़ा घनी मूच्छो वाला माधो हुमेशा सफेद कुर्ते-पाजामे मे रहता था & उसकी सबसे बड़ी ख़ासियत-ठुकराल के लिए वफ़ादारी के अलावा ये थी की वो कभी भी औरतो पे गंदी नज़र नही डालता था.

पर उसे अपने मालिक की अययाशिया बुरी नही लगती थी,उसने उसपे एहसान किया था & अब वो उसके लिए हर काम करता था-अच्छा या बुरा.ठुकराल भी पूरी दुनिया के साथ कमीनपन करता पर माधो के साथ कभी भी नही.उसका & गाँव मे बसे उसके परिवार का उसने हुमेशा खास ख़याल रखा.

वही माधो इस वक़्त अपने मालिक को कार ड्राइव कर पंचमहल के बाहर अरना के जुंगलो की तरफ ले जा रहा था.शहर छ्चोड़ते ही 1 बस स्टॅंड दिखा,उस से थोड़ा आगे बढ़ माधो ने कार 1 कच्चे रास्ते पे उतार दी.

कार की पिच्छली सीट पे ठुकराल बैठा था & उसकी गोद मे वही लड़की.लड़की ने घुटनो तक की कॅप्री & बिना ब्रा के टॉप पहना था.ठुकराल को अपने लंड पे उसकी नाज़ुक मगर चौड़ी गंद का कोमल एहसास बड़ा मज़ेदार लग रहा था.उसने लड़की का टॉप उठा कर उसकी चूचिया नुमाया कर दी थी.उसका बाया हाथ उसकी कमर को मसल रहा था & दाए से उसकी बाई चुचि दबाते हुए वो उसकी बाई चुचि चूस रहा था.लड़की उसके बालो को खींचती आहे भर रही थी.

"हम पहुँच गये,मालिक.",जंगल के अंदर 1 वीरान जगह पे कार रुक गयी थी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:36 AM
Post: #77
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"वो आ गया मलिक.."

"अच्छा..",ठुकराल ने लड़की को गोद से उतारा,"..यही बैठो..मैं अभी आया.",ठुकराल कार से उतर कर उस अंजन शख्स से थोड़ी दूर पे खड़ा हो बाते करने लगा.माधो वही कार के पास खड़ा दोनो को देख रहा था & लड़की कार के काले शीशो के पीछे बैठी ठुकराल का इंतेज़ार कर रही थी.

"..समझ गये ना.किसी को कानोकान खबर नही होनी चाहिए की तुम मुझे जानते हो.इसीलिए इस वीराने मे तुम्हे बुलाया था.बस कुच्छ ही दीनो मे प्लान शुरू हो जाएगा..& माधो तुम्हे खबर करेगा.कोई तकलीफ़ हो उसे बताना,वो तुम्हारी पूरी मदद करेगा.अब जाओ."

वो आदमी निकला तो ठुकराल वापस गाड़ी मे बैठ गया.लड़की वैसे ही टॉप उठाए उसका इंतेज़ार कर रही थी.ठुकराल ने पॅंट की ज़िप खोल अपना लंड निकाला तो लड़की सीट पे अपने घुटनो पे बैठ झुक गयी & उसका लंड मुँह मे ले लिया.ठुकराल उसकी नंगी पीठ पे हाथ फेरने लगा.कार तेज़ी से वापस शहर की ओर जा रही थी.

उस बस स्टॅंड को पार करते ही 1 बूढ़ा सा आदमी दिखा.उसे देखते ही माधो ने कार उसके पास लेक रोक दी.ठुकराल ने लड़की को लंड से उठने का इशारा किया,"..ज़रा वो पैसे तो दो.",लड़की उठी & पास रखे अपने पर्स मे से 1 100 के नोटो की गद्दी निकली.

"अब करो..",ठुकराल ने पैसे ले लड़की को वापस लंड चूसने को कहा तो लड़की ने फिर से उसके लंड से अपने होंठ चिपका दिए.ठुकराल ने खिड़की का शीशा बस इतना नीचे किया की बस उसकी आँखे बाहर खड़े बुड्ढे को नज़र आए & वो अंदर की कोई भी हरकत ना देख पाए,"..ये लो..बाकी पैसे काम पूरा होने के बाद तुम्हे मिल जाएँगे.",बुड्ढे को पैसे थमाते ही कार का शीशा बंद हुआ & कार वाहा से तेज़ी से निकल गयी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:36 AM
Post: #78
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
अगले दिन कामिनी शाम को क्लब गयी,आज करण काम के सिलसिले मे 2 दीनो के लिए बाहर चला गया था.पिच्छली रात दोनो ने 3 बार चुदाई की थी & कामिनी को लगा था की कम से कम आज रात उसे करण की कमी नही खलेगी,पर शाम से ही उसकी चूत ने उसे फिर से परेशान करना शुरू कर दिया था.

आज वो क्लब के पीछे बने स्विम्मिंग पूल पे चली गयी.पूल के पास कुर्सियो पे कुच्छ लोग बैठे हुए थे.पूल के अंदर भी 2 लोग तेर रहे थे.कामिनी 1 टेबल पे बैठ गयी & 1 ऑरेंज जूस का ऑर्डर दिया.वेटर जूस ले आया तो वो उसे धीरे-2 पीने लगी.आज उसने 1 ढीली सफेद,घुटनो तक की स्कर्ट &1 काली छ्होटी बाजुओ वाली शर्ट पहनी थी.

तभी कामिनी की जैसे साँस अटक गयी,पूल के दूर वाले छ्होर से 1 आदमी तेर के निकल रहा था-वो षत्रुजीत था.उसका चौड़ा सीना बालो से भरा था & उसके सारे एबेस सॉफ झलक रहे थे,उसने पास की 1 लाउंज चेर से तौलिया उठा कर अपने सर से लगा बाल पोंच्चे तो उसके बाजुओ की मांसपेशिया फदक उठी.यू लग रहा था मानो कोई बॉडी बिल्डर पोस्टर से बाहर निकला आया हो.उसकी लंबी टाँगो & मज़बूत जाँघो के उपर काले स्विम्मिंग ट्रंक मे उसकी पुष्ट,कसी गंद देख कामिनी की चूत और बेचैन हो गयी,उसका दिल तो किया की बस वो अभी अपने इस गथिले मर्दाना जिस्म के नीचे उसके नाज़ुक बदन को बस मसल ही दे.

उसने टांग पे टांग चढ़ा उसे शांत करने की कोशिश की.तभी शत्रुजीत की नज़र उसपे पड़ी & उसने उसे हाथ हिलाया.जवाब मे कामिनी ने भी हाथ हिलाया.शत्रुजीत ने 1 छ्होटा सा रोब अपने बदन पे डाल लिया.उसका उपरी बदन तो ढँक गया मगर जंघे & बालो भरी टांग अभी भी दिख रहे थे.

"हेलो.क्या मैं यहा बैठ जाऊं?"

"ज़रूर,मिस्टर.सिंग."

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:37 AM
Post: #79
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
वेटर उसे भी 1 जूस का ग्लास दे गया,शायद उसने पहले ही ऑर्डर कर रखा था.दोनो बाते करने लगे.षत्रुजीत सिंग इस तरह बैठा था की कामिनी से बातें करने के साथ-2 वो पूल को भी देख पा रहा था जिसमे अभी 1 गोरी,विदेशी लड़की तेर रही थी.लड़की ने 1 सफेद रंग की 2 पीस बिकिनी पहन रखी थी.

वो पूल से निकली & उसके पास बने शवर के नीचे जा खड़ी हुई.लड़की खूबसूरत थी & उसका फिगर कमाल का था.उसके बदन पे कही भी माँस की 1 भी फालतू परत नही दिख रही थी.कामिनी को उसकी शक्ल जानी-पहचानी लग रही थी.

शवर से निकल के वो लड़की तौलिए से अपने बॉल पोन्छ्ति हुई,मुस्कुराते हुए उनकी तरफ आने लगी.कामिनी साँचे मे ढले उसके बदन की मन ही मन तारीफ किए बिना ना रह सकी.गीले ब्रा मे उसके निपल्स का उभार सॉफ पता चल रहा था & लड़की इस वक़्त बड़ी सेक्सी लग रही थी.

कामिनी ने देखा की शत्रुजीत भी उस लड़की को देख के मुस्कुरा रहा था.वो लड़की आई & शत्रुजीत की कुर्सी के बाए हत्थे पे बैठ गयी & अपनी दाई बाँह उसके कंधे पे रख दी,"हाउ वाज़ दा स्विम?",शत्रुजीत ने अपनी बाई बाँह उसकी कमर मे डाल दी,"ग्रेट!"

"ओह!सॉरी,मैने आप दोनो का परिचय नही कराया....शी'स एलेना,शी'स आ मॉडेल..",उसने लड़की की ओर इशारा किया,"..& शी'स कामिनी शरण,वन ऑफ और बेस्ट लॉयर्स & माइ लीगल आड्वाइज़र.",कामिनी को समझ आ गया कि क्यू उसकी शक्ल उसे जानी हुई लगी थी.उसने उसे अख़बारो & मॅगज़ीन्स मे छपे फॅशन शोस की तस्वीरो मे देखा था.

"हेलो,कामिनी."

"हेलो,एलेना.",कामिनी को उसका बोलने का लहज़ा थोड़ा अजीब लगा,"आइ'वी सीन युवर पिक्चर्स & मस्ट से यू'आर वेरी ब्यूटिफुल."

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 10:37 AM
Post: #80
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"..& सो आर यू कामिनी....आइ फ़ीएल सो रेफ़र्रेशेद आफ़तरर दट स्विंम..इट'स सो डिफफ्फ़ेररेंट फ्ररों रशिया...आइ'एम फ्ररों रशिया यू नो..",इसीलिए उसका लहज़ा थोडा अजीब था.थोड़ी देर बाते करने के बाद एलेना ने शत्रुजीत के कान मे कुच्छ कहा तो वो खड़ा हो गया,"अच्छा,अब मैं इजाज़त चाहूँगा,कामिनी."

"ओके,मिस्टर.सिंग.",वो एलेना की तरफ घूमी,"इट वाज़ नाइस मीटिंग यू,एलेना."

"सेम हेररे,कमिनीई.",दोनो 1 दूसरे की कमर मे बाहे डाले पूल से थोडा हट के बने चेंजिंग रूम्स मे चले गये.मर्दो & औरतो के लिए अलग-2 चेंजिंग रूम्स बने थे मगर वो दोनो 1 ही रूम मे घुस गये.

कामिनी का दिल धड़क उठा...दोनो 1 ही कमरे मे गये..क्या ये दोनो वाहा कुच्छ करेंगे?उसने आस-पास देखा,कोई भी उसकी ओर ध्यान नही दे रहा था.वो उठी & चेंजिंग रूम्स की तरफ चली गयी.

चेंजिंग रूम्स लकड़ी के बने हुए थे.1 बड़े से लकड़ी के कॅबिन को ही पारटिशन करके 4 रूम्स बनाए गये थे-2 मर्दो के लिए & 2 औरतो के लिए.दोनो के 1 लॅडीस चेंजिंग रूम मे घुसे थे.कामिनी उसके साथ वाले दूसरे लॅडीस रूम मे चली गयी.8 फ्ट ऊँचे पारटिशन & कॅबिन की छत के बीच कोई 2 फिट का फासला था...अगर कुच्छ चढ़ने को मिल जाता तो वो पारटिशन & छत के बीच के गॅप से उस कमरे मे देख सकती थी.कमरे मे तो उसे कुच्छ नही नज़ारा आया..हां!बाहर पड़ी कुर्सियाँ.

वो बाहर गयी & लोगो की नज़रे बचा के 1 कुर्सी अंदर ले आई.कुर्सी पे चढ़ अंदर का नज़ारा देख उसका हाथ खुद बा खुद उसकी चूत पे चला गया-शत्रुजीत & एलेना पूरे नंगे होके 1 दूसरे से लिपटे किस्सिंग कर रहे थे.एलेना का बस बाया हाथ शत्रुजीत के गले मे था & दाया उन दोनो के जिस्मो के बीच..शायद वो उसका लंड हिला रही थी.

दरअसल शत्रुजीत की पीठ कामिनी की तरफ थी & उसे उसकी पूरी हरकते दिख नही रही थी,फिर उसे बीच-2 मे झुकना भी पड़ रहा था क्यू की एलेना का मुँह उसी की तरफ था & जब वो आँखे खोलती तो उसे डर था की वो उसे देख ना ले.

"ओह्ह्ह....इट'स सो बीगग,शत्र्रु....उऊहह.."...हां,वो लंड ही मसल रही थी & शत्रुजीत शायद उसकी गंद.शत्रुजीत ने उसे दीवार से सटा दिया & झुक के उसकी चूचियो से खेलने लगा.वो जब एलेना की बाई चुचि चूमने के लिए झुका तो कामिनी को उसकी दाई चुचि नज़र आ गयी.मॉडेल होने की वजह से उसकी चूचिया बहुत बड़ी तो नही थी मगर बिल्कुल गोल & कसी हुई थी & उनपे छ्होटे,हल्के भूरे रंग के निपल्स बिल्कुल सख़्त नज़र आ रहे थे.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
Post Reply 


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
  झंडाराम और ठंडाराम - सेक्स का गेम खेला अपनी पत्नियों के साथ Le Lee 5 6,031 03-20-2018 04:41 PM
Last Post: sanpiseth40
  सेक्स-चैट Le Lee 5 4,818 07-18-2017 04:10 AM
Last Post: Le Lee
  [Indian] कहानी रीडर sexguru 3 11,930 07-04-2015 09:32 PM
Last Post: sexguru
  फ़ोन सेक्स - मोबाइल फ़ोन सेक्स Sex-Stories 190 173,028 08-04-2013 09:36 AM
Last Post: Sex-Stories
  दो वेश्या के साथ देसी सेक्स Sex-Stories 0 14,636 06-20-2013 10:22 AM
Last Post: Sex-Stories
  सेक्स और संभोग Sex-Stories 0 12,950 05-16-2013 09:11 AM
Last Post: Sex-Stories
  ममता कालिया की कहानी Sex-Stories 0 10,407 04-24-2013 11:04 PM
Last Post: Sex-Stories
  जानते है उन्हें क्या चाहिए - सेक्स Sex-Stories 23 19,847 04-24-2013 03:18 PM
Last Post: Sex-Stories
  सयानी बुआ और मन्नू भंडारी की कहानी Sex-Stories 3 12,434 04-24-2013 03:02 PM
Last Post: Sex-Stories
  सुहागरात की कहानी : तान्या की जुबानी Sex-Stories 4 27,851 02-22-2013 01:15 PM
Last Post: Sex-Stories