Post Reply 
गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
10-03-2010, 05:55 AM
Post: #1
गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
तमाम सबूतो और गवाहॉ के बयानात को मद्देनज़र रखते हुए ये अदालत इस नतीजे पे पहुँची है कि मुलज़िम मिस्टर.डी.के.जायसवाल बेकसूर हैं & असली मुजरिम है शाम लाल जो कि मरहूम राम लाल का भाई है,इसीलिए ये अदालत शाम लाल को मुजरिम करार देते हुए उसे 14 साल की उम्र क़ैद की सज़ा सुनाती है.",पंचमहल हाइ कोर्ट के जज के इस फ़ैसले के साथ मशहूर आड्वोकेट कामिनी शरण ने 1 और केस जीत लिया था. "मेडम,मैं आपका कैसे शुक्रिया अदा करू,मेरी समझ मे नही आता!आप तो मेरे लिए साक्षात भगवान हैं,कामिनी जी.",अदालत के बाहर जायसवाल हाथ जोड़े कामिनी के सामने खड़ा था.पंचमहल का ही नही बल्कि राज्य का 1 इतना रईस बिज़्नेसमॅन उसके सामने हाथ जोड़े खड़ा था पर कामिनी के चेहरे पे गुरूर की 1 झलक भी नही थी. "ये क्या कर रहे हैं जायसवाल जी!मैने तो केवल अपना फ़र्ज़ निभाया है.फिर आप बेगुनाह थे,वो शाम लाल आपको फँसा रहा था & गुनेहगर को हमेशा सज़ा मिलती है.चलिए,घर जाइए & अपने परिवार को ये खुशख़बरी सुनाए.",कामिनी उस से विदा ले अपने ऑफीस चेंबर जाने के लाइ अपनी कार की ओर बढ़ गयी जिसका दरवाज़ा खोले उसका ड्राइवर खड़ा था.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 05:56 AM
Post: #2
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
देर शाम घर लौटती कामिनी के चेहरे पे वो जीत की खुशी नही थी,जोकि पहले हुआ करती थी पहले की तो बात ही और थी,पहले तो केस जीतने के बाद सबसे पहले वो विकास को ये खबर सुनाती थी.जब भी विकास या वो कोई केस जीतते तो उस रोज़ शाम को पहले किसी अच्छे से रेस्टोरेंट मे जाके बढ़िया खाना खाते & फिर घर लौटके 1 दूसरेके साथ पूरी रात जी भर के चुदाई कर जीत का जश्न मानते. उसे याद आ गयी लॉ कॉलेज के फाइनल एअर की वो पहली क्लास जब विकास सबसे आख़िर मे क्लास मे भागता हुआ दाखिल हुआ & उसकी बगल की खाली सीट पे बैठ गया.दोनो पिच्छले 2 सालो से 1 ही बॅच मे थे पर दोनो के दोस्तो का ग्रूप अलग होने के कारण,दोनो के बीच कोई खास बातचीत नही थी.उस दिन पहली बार दोनो ने ढंग से 1 दूसरे से बात की थी & वही उनकी दोस्ती का पहला दिन था. और ये दोस्ती कब प्यार मे बदल गयी,दोनो को पता भी ना चला.लॉ की डिग्री हासिल करते हीदोनो ने आड्वोकेट संतोष चंद्रा के पास असिस्टेंट के लिए अप्लाइ किया & उन्होने दोनो की ही अर्ज़ियाँ मंज़ूर कर ली.संतोष चंद्रा केवल पंचमहल के ही नही बल्कि हिन्दुस्तान के 1 माने हुए वकील थे जिन्हे सभी काफ़ी इज़्ज़त की नज़र से देखते थे. पहले दिन चंद्रा साहब ने दोनो के 1 ही केस की ब्रीफ तैय्यार करने को कहा मगर अलग-2.दोनो ने काफ़ी मेहनत से सोच-स्मझ के अपनी-2 ब्रीफ तैय्यार की & फिर उन्हे दिखाई.ब्रीफ पढ़ते ही चंद्रा साहब ने 5 मिनिट के भीतर ही दोनो की ब्रीफ्स मे 4-5 ऐसे पायंट्स निकाल दिए जिनका इस्तेमाल सामने ऑपोसिशन का वकील कर सकता था,"बेटा,अगर केस जीतना है तो हमेशा अपनी ऑप्पोसिंग पार्टी की तरह सोचो.वो या तो तुमसे बचना चाहती है या फिर तुम्हे गुमराह करना उसका मक़सद होता है.अगर उसकी तरह सोचोगे तो तुम्हे उसकी दलीलो का तोड़ अपनेआप समझ मे आ जाएगा.आगे से जब भी मैं तुम्हे ब्रीफ बनाने को कहु इस बात का ख़याल रखना & हां,हुमेशा अपनी-2 ब्रीफ्स 1 दूसरे को दिखा लेना.इस से तुम दोनो 1 दूसरे की ग़लतियाँ पकड़ लोगे." ऐसी और ना जाने कितनी नसीहते चंद्रा साहब ने उन्हे दी थी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 05:56 AM
Post: #3
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
कभी-2 तो कामिनी को लगता की दोनो हमेशा उनके असिस्टेंट ही बने रहते तो कितना अच्छा होता,शायद ज़िंदगी अभी भी पहले की तरह खुशनुमा होती! कितनी खट्टी-मीठी यादें जुड़ी थी चंद्रा सर के ऑफीस के साथ!दोनो ने वकालात के लगभग सारे गुर वही तो सीखे थे & वही वो जगह थी जहा कामिनी 1 मासूम कली से फूल बनी थी. काले,घने,लंबे बालो से घिरा कामिनी का खूबसूरत चेहरा ऐसा लग रहा था जैसे काली रात को रोशन करता पूनम का चाँद.गोरी-चित्ति कामिनी का चेहरा बड़ा मासूमियत भरा था,पर उसके चेहरे मे जो चीज़ सबसे पहले मर्दो का ध्यान अपनी ओर खींचती थी,वो थी उसके होंठ.अनार के दानो के रंग के,संतरे की फांको जैसे उसके रसीले होंठ ऐसे लगते थे मानो चूमने का बुलावा दे रहे हो. पर इस खूबसूरत लड़की से नज़रे मिलने की हिम्मत हर किसी मे नही थी.5'8" कद की कामिनी आज के ज़माने की लड़की थी जोकि,मर्दो के कंधे से कंधा मिला कर चलने मे नही,उनसे दो कदम आगे चलने मे विश्वास रखती थी.उसकी हौसले,हिम्मत & आत्म-विश्वास से भरी निगाहो से निगाह मिलने की कूवत हर मर्द मे नही थी. विकास अकेला मर्द था जिसकी नज़रे ना केवल कामिनी की नज़रो से मिली बल्कि उसके दिल मे भी उतर गयी.कार मे बैठे-2 कामिनी को होलिका दहन का वो दिन याद आ गया & उसके उदासी भरे चेहरे पे हल्की सी मुस्कान खिल गयी.लगा मानो पूनम के चाँद पे जो उदासी की बदली छा गयी थी,उसे 1 खुशनुमा हवा के झोंके ने उड़ा दिया था. होली के ठीक अगले दिन 1 केस की तारीख थी & चंद्रा साहब ने दोनो को केस की सारी तैय्यारि होलिका दहन वाले दिन ही पूरी कर लेने को कहा था क्यूकी फिर होली के दिन तो दफ़्तर आना नामुमकिन था,इसीलिए दोनो ऑफीस मे बैठे काम कर रहे थे.घड़ी ने 10 बजाए तो कामिनी ने हाथ सर के उपर उठाकर नागड़ाई ली,उसका काम तो पूरा हो गया था,विकास अभी भी लगा हुआ था.दफ़्तर मे उन दोनो के अलावा और कोई नही था. सामने पानी का ग्लास देख कामिनी को शरारत सूझी,उसने उसमे से पानी अपने हाथ मे लिया & विकास के मुँह पे दे मारा.विकास ने गुस्से & खीज से उसकी तरफ देखा. "होली है!".कामिनी हंस पड़ी.विकास भी मुस्कुरा दिया & ग्लास उठा कर बाकी बचा पानी कामिनी पे फेंका पर वो बड़ी सफाई से उसका वार बचा गयी. "अभी बताता हू कामिनी की बच्ची!",विकास उसे पकड़ने को उठा तो कामिनी भाग के डेस्क की दूसरी ओर हो गयी.विकास भी भाग कर उसकी तरफ आया & हाथ बढ़ा कर उसके कंधे को पकड़ा पर कामिनी उसकी पकड़ से निकल खिलखिलती हुई ऑफीस कॅबिन से अटॅच्ड बाथरूम मे घुस गयी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 05:56 AM
Post: #4
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
उसके पीछे-2 विकास भी घुसा तो कामिनी ने वॉशबेसिन का नाल चला कर उसे अपनी उंगलियो से दबा पानी की 1 तेज़ धार उसके उपर छ्चोड़ दी. विकास की कमीज़ पूरी गीली हो गयी तो वो बाथरूम से बाहर भागा & पानी का 1 भरा जग लेकर वापस आया & कामिनी के हाथो को पकड़ कर पूरा का पूरा जग उसके उपर खाली कर दिया.कामिनी ने झुक कर बचने की नाकाम कोशिश की & उसने जो सफेद सलवार-कमीज़ पहनी थी उसकी कमीज़ भी पूरी गीली हो उसके गोरे बदन से चिपक गयी.कामिनी सीधी खड़ी हुई तो उसने देखा की विकास अपनी भीगी हुई शर्ट उतार रहा है. विकास 6 फिट का गथिले बदन का जवान लड़का था & जब उसने अपनी शर्ट निकाल ली तो उसके बालो भरे गीले सीने को नंगा देख कामिनी को शर्म आ गयी.उसने अपनी नज़रे नीची कर ली & झुक कर अपने गीले कुर्ते के कोने को पकड़ कर उसे निचोड़ने लगी.निचोड़ते हुए उसने हौले से अपनी नज़रे उपर की तो देखा की केवल पॅंट मे खड़ा विकास उसे घूर रहा है.झुके होने के कारण उसकी छातियो का बड़ा सा हिस्सा,जिसपे पानी की बूंदे मोतियो सी चमक रही थी, कुर्ते के गले मे से झलक रहा था. कामिनी फ़ौरन सीधी खड़ी हो गयी तो विकास की नज़रे उसके सीने से नीचे उसके गीले कुर्ते से नुमाया हो रहे उसके गोल,सपाट पेट पे आ जमी.शर्म से कामिनी के गुलाबी गाल और लाल हो गये & घूम कर उसने विकास की ओर अपनी पीठ कर ली.विकास ने आगे बढ़ उसके कंधो को थाम उसे अपनी ओर घुमाया & उसे अपने सीने से लगा लिया.उसकी अचानक की गयी इस हरकत से कामिनी लड़खड़ा गयी & उसने सहारे के लिए अपने प्रेमी को थाम लिया.विकास की नगी पीठ पे हाथ रखते ही कामिनी के बदन मे झुरजुरी सी दौड़ गयी. यू तो वो कई बार विकास के गले लगी थी & शर्ट सेझाँकते उसके सीने को छुआ था,चूमा था पर ये पहली बार था की वो उसके नंगे उपरी बदन को छु रही थी-छु क्या रही थी,उस से चिपकी हुई थी.विकास ने नीचे झुक कर उसके रसीले होंठो को अपने होंठो की गिरफ़्त मे ले लिया & दोनो 1 दूसरे को चूमने लगे.थोड़ी देर मे विकास उसके होंठो को खोल अपनी जीभ से उसकी ज़ुबान को छुआ तो जवाब मे कामिनी ने गर्मजोशी से अपनी जीभ उसकी जीभ से लड़ा दी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 05:57 AM
Post: #5
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़प्प्प्प्प...",कामिनी जैसे नींद से जागी,विकास ने उसके कुर्ते के ज़िप को खोल दिया था & हाथ अंदर घुसा उसकी पीठ पे फेर रहा था. "नही!",किस तोड़ वो कसमसने लगी. "क्यू?" "प्लीज़,विकास नही करो." "अच्छा बाबा!",विकास ने वापस उसका ज़िप लगा दिया,"अब खुश?",कामिनी मुस्कुराइ & दोनो फिर 1 दूसरे को चूमने लगे.इस बार विकास ने हाथ नीचे से उसके कुर्ते मे डाला & उसकी कमर को सहलाने लगा. "उम्म्म..",कामिनी फिर कसमसाई. "अब क्या हुआ?यहा कोई पहली बार थोड़े ही छु रहा हू!",ठीक ही कहा था विकास ने,यहा पे तो वो रोज़ ही हाथ फेरता था & जब कभी कामिनी सारी पहनती तब तो उसकी शामत ही आ जाती.विकास के हाथ तो उसके पेट या कमर को छ्चोड़ने का नाम ही नही लेते थे! विकास उसके होंठो को छ्चोड़ नीचे कामिनी की लंबी गर्दन पे आ गया था & चूम रहा था.कामिनी मस्त हो उसके बालो मे उंगलिया फिरा रही थी कि तभी विकास उसकी गर्दन से चूमते हुए उपर आया & उसके कान के पीछे चूमने लगा.ये जगह कामिनी की कमज़ोर नस थी,विकास के वाहा अपने होंठ लगते ही कामिनी की आँखे बंद हो गयी & होठ खुल गये & वो जैसे बेहोश सी हो गयी.उसकी उंगलिया & शिद्दत से उसके आशिक़ के बालो मे घूमने लगी.विकास ने मौके का फ़ायदा उठाते हुए फिर से उसका ज़िप खोल दिया & हाथ घुसा उसकी पीठ सहलाने लगा.अब उसके हाथ कामिनी की कमर & पीठ को पूरी तरह से से मसल रहे थे. जोश मे डूबी कामिनी की टांगे जवाब देने लगी & वो गिरने ही वाली थी कि विकास ने उसे थाम लिया & अपनी बाहे उसकी मस्त गंद के नीचे लपेट उसे उठा लिया.कामिनी झुक कर उसके चेहरे को चूमने लगी,विकास उसे उठा कर ऑफीस मे ले आया & वाहा रखे बड़े से सोफे पे उसे बिठा दिया & फिर उसकी बगल मे बैठ कर उसे बाँहो मे भर चूमने लगा. उसके चेहरे से नीचे वो उसकी गर्दन पे आया & फिर उसके ज़िप खुले कुर्ते को नीचे कर उसके गर्दन & छातियो के बीच के हिस्से को चूमने लगा.आज से पहले दोनो ने इस तरह प्यार नही किया था.अब तक तो बस गले लग के चूमना & कपड़ो के उपर से ही सहलाना होता रहा था.कामिनी ने अभी तक 1 बार भी विवके को अपनी छातियो या किसी और नाज़ुक अंग को छुने नही दिया था. कमरे का माहौल धीरे-2 और गरम हो रहा था.कामिनी बेचैनी से अपनी जंघे रगड़ने लगी थी.विकास उसके कुर्ते को नीचे कर उसके कंधो को बारी-2 से चूम रहा था.कुर्ते को बाहो से नीचे कर वो उसकी उपरी बाँह को चूमने लगा.उसके हाथ नीचे से कुर्ते के अंदर घुस उसकी पतली कमर को मसल रहे थे.अचानक विकास ने कामिनी को सोफे पे लिटा दिया & उसके कुर्ते को उपर कर उसके पेट को चूमने लगा. "ऑश...विकास.....प्ल...ईज़...नही का.....रो..आहह...!",विकास ने उसकी बाते अनसुनी करते हुए उसके पेट को चूमते हुए अपनी जीभ उसकी गहरी,गोल नाभि मे उतार दी थी & पागलो की तरह फिरने लगा था.कामिनी उसके सर को थाम बेबसी से आहे भरती हुई छटपटा रही थी.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 05:58 AM
Post: #6
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
विकास काफ़ी देर तक उसकी नाभि से खेलता रहा & फिर थोडा और नीचे आकर उसकी नाभि & सलवार के बीच के हिस्से को चूमने लगा.कामिनी का बुरा हाल था,उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी & उसके दिल मे घबराहट,मज़े & मस्ती के मिले-जुले एहसास उमड़ रहे थे. "नही..!",विकास ने जैसे ही अपने हाथ मे ले उसकी सलवार की डोर खींचनी चाही.वो सोडे पे उठ बैठी & उसका हाथ पकड़ लिया.विकास ने उसके हाथ मे अपने हाथ की उंगलिया फँसा दी & उसके हाथो को अपने होंठो तक ला चूमने लगा,कामिनी की आँखे फिर मस्ती से बंद हो गयी.विकास उसके हाथो को चूम उसकी कलाई से होता हुआ उसकी बाँह को चूमने लगा,और उपर जाने पर उसके होठ कुर्ते की बाँह से आ लगे तो उसने उसे खींच कर कामिनी की बाँह से अलग कर दिया.कामिनी बस कमज़ोर सी आवाज़ मे नही-2 करती रही & उसने दूसरी बाँह को भी उतार दिया.अब कुर्ता उसकी कमर के गिर्द पड़ा हुआ था & सफेद ब्रा मे क़ैद,भारी सांसो से उपर-नीचे होते हुई,उसकी बड़ी-2 छातिया विकास की नज़रो के सामने थी. विकास ने बैठी हुई कामिनी को अपनी बाहो मे भर लिया & उसके चरे को चूमने लगा,"आइ लव यू,कामिनी..आइ लव यू,डार्लिंग!",वो उसकी पीठ सहलाते हुए उसके कानो के पीछे चूम रहा था. "आइ लव..वी यू..टू,विकी...!....ह्म्*म्म्म...!",कामिनी और ज़्यादा मस्त हो रही थी.विकास पागलो की तरह उसकी पीठ पे हाथ फेर रहा था & ऐसा करने से उसका हाथ कामिनी के ब्रा स्ट्रॅप मे फँस गया & जब उसने निकालने की कोशिश की तो पट से उसके ब्रा के हुक्स खुल गये.विकास ने सर उसके चेहरे से उठा उसकी ओर देखा.कामिनी की आँखे नशे से भरी हुई थी & उसकी साँसे धौंकनी की तरह चल रही थी.सीने पे ब्रा बस लटका हुआ सा था. विकास ने उसकी आँखो मे देखते हुए उसके कंधो से ब्रा को सरका दिया.इस बार कामिनी ने उसे नही रोका.वो जानती थी इस बार वो बिल्कुल नही मानेगा.ब्रा सरक कर नीचे उसकी गोद मे आ गिरा.उसकी आँखो मे झँकते हुए विकास ने ब्रा को नीचे ज़मीन पे फेंक दिया & अपनी नज़रे नीची कर अपनी प्रेमिका की मस्त चूचियो का पहली बार दीदार किया.कामिनी की आँखे शर्म से बंद हो गयी. "तुम कितनी सुंदर हो,कामिनी...मैने तो सपने मे भी नही सोचा था कि तुम इतनी खूबसूरत होगी.",विकास की नज़रो के सामने कामिनी की भारी-2,कसी चूचिया उपर-नीचे हो रही थी.उन पर सजे हल्के गुलाबी रंग के निपल्स बिल्कुल कड़े हो चुके थे.विकास ने बहुत हल्के अपना हाथ उनपे रख उन्हे छुआ मानो वो शफ्फाक़ गोलाइयाँ उसके हाथ लगाने से मैली हो जाएँगी.कामिनी के पूरे बदन मे सिहरन सी दौड़ गयी. वो हल्के-उन्हे सहलाने लगा & धीरे-2 उसके हाथ उसकी चूचियो पे कसते गये.कामिनी ने उसके हाथ पकड़ लिए पर विकास को अब उन मस्त गेंदो से खेलने मे बहुत मज़ा आ रहा था.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 06:01 AM
Post: #7
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"ऊओवव...!".विकास ने अपने दोनो हाथो मे भर कर दोनो चूचियो को ज़ोर से दबा दिया.काफ़ी देर तक वो उन्हे दबत,मसलता रहा.फिर उसने उसके निपल्स का रुख़ किया & उन्हे अपनी उंगलियो मे ले मसल्ने लगा.दफ़्तर मे कामिनी की आहें गूंजने लगी.विकास झुका & उसकी चूची पे अपने होठ रख दिए.कामिनी का सर पीछे झुक गया & उसने विकास का सर पकड़ लिया.विकास चूचियो को मुँह मे भर चूसने लगा तो कामिनी का बदन झटके खाने लगा.उसकी गीली चूत अब और बर्दाश्त नही कर पा रही थी & झाड़ गयी थी. कामिनी निढाल हो सोफे पे गिर गयी तो साथ-2 विकास भी नीचे झुक गया & उसके उपर लेट कर उसकी छातियो से खेलने लगा.कभी वो उन्हे दबाता तो कभी बस हल्के-2 सहलाता,कभी अपने होंठो मे भर कर इतनी ज़ोर से चूस्ता की उनपेनिशान पड़ जाते तो कभी बस अपनी जीभ से उसके निपल्स को चाटता रहता.विकास का आधा बदन सोफे पे & आधा कामिनी के उपर था & कामिनी को अपनी जाँघ के बगल मे उसका खड़ा लंड चुभता महसूस हो रहा था. विकास उसकी चूचियो को चूमता हुआ 1 हाथ नीचे ले गया & उसकी सलवार की डोर को खींच दिया,फिर उसकी चूचियो को छ्चोड़ उसके पेट को चूमते हुए नीचे आया & उसकी सलवार खोलने लगा,"नही...मत करो ना!" विकास फिर से उपर हुआ & उसे चूमने लगा मगर उसका हाथ नीचे ही रहा & ढीली हो चुकी सलवार मे घुस पॅंटी के उपर से ही कामिनी की चूत को सहलाने लगा.कामिनी अपनी जंघे बींचती हुई छटपटाने लगी & खींच कर उसका हाथ हटाने लगी पर वो नही माना & वैसे ही हाथ फेरता रहा.फिर 1 झटके से उठा & उसके सलवार को नीचे कर उसकी पॅंटी के उपर उसने किस्सस की बौच्हार कर दी.कामिनी ज़ोर-2 से आहें भरते हुई तड़पने लगी.इसी बीच उसने उसकी सलवार को उसके बदन से अलग कर दिया. कामिनी की पॅंटी गीली होकर उसकी चूत से चिपकी हुई थी.विकास बैठा हुआ उसके बदन को घुरे जा रहा था.शर्मा कर कामिनी ने करवट के सोफे की बॅक मे अपना मुँह च्छूपा लिया & विकास की तरफ अपनी पीठ कर दी.कामिनी की मस्त 36 इंच की गंद अब उसके सामने थी.दोनो के बादने की रगड़ाहट से उसकी पॅंटी उसकी गंद की दरार मे फाँसी हुई थी & गंद की दोनो कसी फांके विकास के सामने थी. उसने अपने हाथो से उन्हे मसला तो कामिनी चिहुनक उठी.उसकी 28 इंच की कमर के नीचे उसकी चौड़ी,भारी,पुष्ट मस्त गंद ने विकास को पागला दिया था.


Attached File(s)Thumbnail(s)
   

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 06:01 AM
Post: #8
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
उसने झट से उसकी पॅंटी को उसके बदन से अलग किया & झुक के करवट ली हुई कामिनी की गंद चूमने लगा.उसकी इस हरकत से कामिनी चौंक पड़ी & सीधी हो गयी & अपने प्रेमी को अपनी अन्छुइ,बिना बालो की,चिकनी,गुलाबी चूत का दीदार करा दिया.विकास की साँसे तेज़ हो गयी.शर्म के मारे कामिनी का बुरा हाल था,ज़िंदगी मे पहली बार वो किसी मर्द के सामने पूरी नगी हुई थी.विकास ने झुक कर कामिनी की जाँघो को फैलाया & अपना चेहरा उसकी चूत मे दफ़्न कर दिया. कामिनी तो पागल ही हो गयी.विकास उसकी चूत को अपनी उंगलियो से फैला चाट रहा था.जब वो उसके दाने को अपनी उंगली या जीभ से छेड़ता तो कामिनी के जिस्म मे बिजली दौड़ जाती.कोई 5-7 मिनिट तक उसकी जीभ कामिनी की चूत को चाटती रही.फिर वो उठ खड़ा हुआ,अब वो और नही रोक सकता था अपनेआप को.उसने अपनी पॅंट & अंडरवेर को तुरंत उतार फेंका.कामिनी ने अड़खुली आँखो से पहली बार 1 मर्द के खड़े लंड को देखा. विकास का काली झांतो से गिरा 6 इंच का लंड प्रेकुं से गीला था & उसके नीचे 2 बड़े से अंडे लटक रहे थे जोकि इस वक़्त बिल्कुल टाइट थे.वो अपने हाथ मे लंड को थाम हिला रहा था.उसने अपनी महबोबा की जाँघो को फैलाया & उनके बीच अपने घुटनो पे बैठ गया.दोनो ही कुंवारे थे & दोनो के लिए ही ये चुदाई का पहला मौका था.विकास ने चूत पे लंड रख के ढका दिया तो वो फिसल गया.उसने 2-3 बार और कोशिश की पर नतीजा वही रहा.कामिनी को डर भी लग रहा था & साथ ही इंतेज़ार भी था की उसका प्रेमी उसके कुंवारेपन को भेद कर उसकी जवानी को खिला दे. विकास को लग रहा था कि वो कामिनी के चूत के बाहर ही छूट जाएगा.फिर उसने पैंतरा बदला & 1 हाथ से उसकी चूत की फांके फैलाए & दूसरे हाथ से अपने लंड को पकड़ उसकी चूत के मुँह पे रख कर अंदर ठेला.इस बार उसे कामयाबी हुई & लंड का सूपड़ा अंदर घुस गया.उसने लंड से हाथ हटाया & बेचैनी से 2-3धक्के लगाए तो लंड और अंदर चला गया.

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 06:01 AM
Post: #9
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
"आउच..!".कामिनी को चुभन सी महसूस हुई & विकास को लगा जैसे कुच्छ उसके लंड को अंदर जाने से रोक रहा था.वो अपने घुटनो को सीधा कर अपनी कोहनियो पे अपने बदन का वजन रख,कामिनी के उपर झुक गया & 1 बहुत ज़ोर का धक्का दिया. "ओई...मेन्न्न्न...!..",कामिनी की चीख निकल गयी,उसके कुंवारेपन की झिल्ली को विकास के लंड ने फाड़ दिया था.कामिनी के चेहरे पे दर्द की लकीरे खींच गयी तो विकास उसके उपर लेट गया & उसे चूमने लगा.बड़ी मुश्किल से उसने अपनी कमर को हिलने से रोका.वो उसके कानो मे प्यार भरे बोल बोलते हुए उसे हौले-2 चूम कर सायंत करने लगा.थोड़ी देर बाद कामिनी का दर्द कम हुआ तो उसने विकास की पीठ पे हाथ फेरना शुरू कर दिया.विकास ने उसके होठ छ्चोड़ नीचे मुँह ले जाकर उसकी चूचियो को मुँह मे भर लिया & ज़ोर-2 से धक्के लगाने लगा.कामिनी को भी अब मज़ा आ रहा था,अपने प्रेमी के सर को उसने अपनी चूचियो पे भींच दिया & अपने घुटने मोड़ कर नीचे से कमर हिलाकर उसके धक्को से लय मिला कर चुदाई कराने लगी. विकासके लंड की रगड़ उसे जन्नत की सर करा रही थी.उसकी चूत मे जैसे 1 तनाव सा बन रहा था & उसने अपनी टांगे मोड़ कर अपने प्रेमी की कमर को लपेट लिया था.उसके नाख़ून उसकी पीठ मे धँस गये & उसके बदन मे जैसे मज़े का ज्वालामुखी फुट गया.आहे भरते हुए अपने होठ उसके होंठो से चिपका कर सोफे से उठा वो उस से चिपक सी गयी-वो ज़िंदगी मे पहली बार 1 लंड से झाड़ रही थी. विकास के सब्र का बाँध भी अब टूट गया & उसका बदन झटके खाने लगा & मुँह से आहे निकलता हुआ उसने अपने अंदो मे उबाल रहे लावे को अपनी प्रेमिका की चूत मे खाली कर दिया

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
10-03-2010, 06:02 AM
Post: #10
RE: गहरी चाल - हिन्दी सेक्स कहानी
उस रात कामिनी अपने पेयिंग गेस्ट अयमोडेशन पे नही गयी,बल्कि विकास के साथ उसके फ्लॅट पे गयी जिसे वो 3 और दोस्तो के साथ शेर करता था.वो तीनो होली के मौके पे अपने-2 घर गये हुए थे,सो फ्लॅट पूरा खाली था.वैसी होली कामिनी ने कभी खेली थी & आगे ना फिर कभी खेली.बाहर लोग 1 दूसरे को अबीर-गुलाल से रंग रहे थे & फ्लॅट के अंदर दोनो प्रेमी 1 दूसरे के रंग मे रंग रहे थे. इसके कुच्छ 3 महीने बाद दोनो ने शादी कर ली & उसके कुच्छ ही दीनो के बाद 1 रोज़ शाम को काम ख़त्म होने के बाद चंद्रा साहब ने दोनो के अपने कॅबिन मे बुलाया & ये सलाह दी कि अब दोनो अपनी-2 प्रॅक्टीस शुरू कर दे. "मगर सर,इतनी जल्दी?" "हां,बेटा.मैं समझ रहा हू,तुम दोनो को लग रहा है कि तुम अभी तैय्यार नही हो पर मेरी बात मानो,तुम दोनो अब अपनी प्रॅक्टीस के लिए रेडी हो.बस जैसे यहा 1 टीम की तरह काम करते थे,वैसे ही आगे भी करना.बेस्ट ऑफ लक!" दोनो ने चंद्रा साहब की बात मान ली.शुरू मे तो काफ़ी परेशानी हुई,पर धीरे-2 दोनो को केसस मिलने लगे.पहले की ही तरह दोनो अपने-2 केसस को 1 दूसरे से डिसकस करते थे.इसका नतीजा ये हुआ कि दोनो का केस जीतने का रेकॉर्ड बाकी वकिलो से कही ज़्यादा अच्छा हो गया & 2 साल होते-2 दोनो के पास केसस की भरमार हो गयी. अब दोनो अपने पेशे मे इतने माहिर हो चुके थे कि पहले की तरह 1 दूसरे से अपने-2 केसस के बारे मे सलाह-मशविरे की ज़रूरत भी उन्हे नही पड़ती थी.कामयाबी के साथ-2 दौलत & ऐशो-आराम ने भी उनकी ज़िंदगी मे कदम रखा पर उनके पास 1 चीज़ की कमी हो गयी-वो थी वक़्त.वही वकालत के पेशे मे भी दोनो थोड़ा अलग राहो पे चल रहे थे,जहा कामिनी को प्राइवेट केसस ज़्यादा मिलते थे वही विकास को सरकारी केसस यानी कि वो काई मुक़ादंमो मे सरकारी वकील की हैसियत से खड़ा होता था. आज से कोई 4 महीने पहले की बात है,कामिनी ने फिर 1 जीत हासिल की थी & आज उसका दिल किया ये खुशी पहले की तरह अपने हमसफर की बाहो मे उसके साथ चुदाई करके मनाने का.उसने विकास को खबर देने के लिए अपना मोबाइल उठाया,पर फिर सोचा की क्यू ना दफ़्तर जाकर उसे सर्प्राइज़ दे तो वो कोर्ट से सीधा अपने ऑफीस के लिए रवाना हो गयी.दोनो ने 1 ही इमारत को 2 हिस्सो मे बाँट कर अपने-2 ऑफीस बनाए थे. उस इमारत मे घुस वो तेज़ कदमो से विकास के कॅबिन की ओर बढ़ने लगी.शाम के 8 बज रहे थे & इस वक़्त ऑफीस बिल्कुल खाली था

Hollywood Nude Actresses
Disclaimer : www.indiansexstories.mobi is not in any way responsible for the content I post, for any questions contact me.
Find all posts by this user
Quote this message in a reply
Post Reply 


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
  झंडाराम और ठंडाराम - सेक्स का गेम खेला अपनी पत्नियों के साथ Le Lee 5 5,950 03-20-2018 04:41 PM
Last Post: sanpiseth40
  सेक्स-चैट Le Lee 5 4,711 07-18-2017 04:10 AM
Last Post: Le Lee
  [Indian] कहानी रीडर sexguru 3 11,896 07-04-2015 09:32 PM
Last Post: sexguru
  फ़ोन सेक्स - मोबाइल फ़ोन सेक्स Sex-Stories 190 172,450 08-04-2013 09:36 AM
Last Post: Sex-Stories
  दो वेश्या के साथ देसी सेक्स Sex-Stories 0 14,602 06-20-2013 10:22 AM
Last Post: Sex-Stories
  सेक्स और संभोग Sex-Stories 0 12,910 05-16-2013 09:11 AM
Last Post: Sex-Stories
  ममता कालिया की कहानी Sex-Stories 0 10,375 04-24-2013 11:04 PM
Last Post: Sex-Stories
  जानते है उन्हें क्या चाहिए - सेक्स Sex-Stories 23 19,776 04-24-2013 03:18 PM
Last Post: Sex-Stories
  सयानी बुआ और मन्नू भंडारी की कहानी Sex-Stories 3 12,395 04-24-2013 03:02 PM
Last Post: Sex-Stories
  सुहागरात की कहानी : तान्या की जुबानी Sex-Stories 4 27,784 02-22-2013 01:15 PM
Last Post: Sex-Stories