खोली में मदहोशी
बहु तुमने क्या साफ़ की?"

"धीरे बोलिए पिताजी, चुन्नू सुन लेगा. पूरी हजामत कर दी, एक बाल नहीं छोड़ा." ऐसा फुसफुसा कर सुनीता कमरे के कोने में खेलते हुए अपने बेटे चुन्नू को पढ़ाने लगी.

एक कमरे की खोली में रहते धावले परिवार के सदस्य किसी तरहं जीवन निर्वाह कर रहे थे. किशोर धावले दफ्तर में पियोन का काम करता था और रात को अक्सर शराब के नशे में आता था. उस रात भी वह नशे में धुत आया और खाना खा कर फर्श पर बिछे बिस्तर पर ढेर हो गया. किशोर के पिता साथ रखी खटाई पर लेट गए. सुनीता बत्ती बुझा पति और बच्चे के साथ सो गई.

खिड़की से आती बिजली के खम्बे की रौशनी कमरे को उजागर कर रही थी. सुनीता और उसके ससुर जगे हुए एक दुसरे को देख रहे थे. खटाई की ऊंचाई पर ससुर करवट लिए अपने पजामे से ढके गुप्तांग सहला रहे थे. फर्श पर पुत्र और पोते के साथ लेटी सुनीता से धीमी आवाज़ में पूछा, "अब तो दिखा दो बहु."

सुनीता ने आहिस्ता से अपना साड़ी व पेटीकोट उठाया और गोश्तदार जांघें फैला दी. पैंटी तो पहनी ही नहीं थी. बेशर्म बहु अपनी नंगी बुर ससुर को दिखाने लगी. खाट पर लेटे ससुर ने तुरंत अपना पजामा खोल दिया और अपने पांच- इंच खड़े हुए लिंग को हिलाने लगे. सुनीता ने अपनी चूत के सारे बाल ससुर के आदेश पर दोपहर में शेव कर दिए थे. फैली हुई मांसल जाँघों के बीच से झांकती सफा-चट योनी ससुर के बुढ़ापे को जवान कर रही थी. ससुर खाट से उठ कर फर्श पर आ गए.

"पिताजी थोड़ी देर और रुकिए, चुन्नू कहीं जग न जाए. ये तो खर्राटे मार कर सो रहे हैं पर चुन्नू की नींद अभी कच्ची है." सुनीता धीरे से बोली.

सुनीता चूत की फांकें खोल गीली सुराख़ प्रदर्शित कर रही थी. पायल उसके सुन्दर पैरों पर खनक रही थी. बुर दिखाती सुनीता ससुर के उठे लंड को निहारते हुए लम्बी-लम्बी सांसें ले रही थी. बहु के गुप्तांग पे ससुर का पूरा ध्यान केन्द्रित था.

"आइये पिता जी, आज मुझ पर उलटे चढिये." सुनीता ने साड़ी-पेटीकोट पेट के ऊपर खींच कर अपना निचला बदन पूर्णतया नग्न कर दिया. ससुर ने अपना पजामा उतार कर सुनीता के मुख पर अपना लौड़ा सिधाया और उस पर उलटे लेट गए. फिर उसकी मांसल जांघों के बीच अपना मुख धर दिया. 69 मुद्रा में सुनीता अपने ससुर की लुल्ली चूसने लगी और ससुर अपनी बहु की चूत लपक-लपक कर चाटने लगे. किशोर और चुन्नू साथ गहरी नींद में सो रहे थे.

"बहु झांटों के बिना युवा लड़की जैसी बुर लग रही है तुम्हारी." चाटना रोक कर ससुर मुड कर फुसफुसाए.

"आह...आह... आप ही के लिए गंजी करी है पिताजी. चुपचाप चाटिये, कहीं ये दोनों उठ न जाएँ ... आह... आह..." सुनीता ससुर के कठोर लौड़े की चुस्की लेते हुए मतवाली हो रही थी.

किशोर धावले खांसने लगा, "ए सुनीता पानी पिलाओ." खांसते खांसते लेटा हुआ किशोर उठ कर बैठ गया. अब तक ससुर तेज़ी से उठ खाट पर वापस लेट गय थे और अपने बेकपड़ा बदन को चादर से ढक लिया था.

"देखो तुम्हारी साड़ी घुटनों के ऊपर तक चढ़ी हुई है, बाबा देखेंगे तो क्या कहेंगे." किशोर पत्नी की उजागर निचली काया देख बोला. वह कुछ पल पहले हो रही रतिक्रिया से बेखबर था.

सुनीता सोने का नाटक करते हुए बोली, "सॉरी चुन्नू के बाबा, साड़ी सोते हुए उठ गई होगी, मैं आपके लिए पानी लाती हूँ."

"नहीं रुको सुनीता, देखो बाबा सो रहे हैं क्या?"

"हाँ, सो रहे हैं."

किशोर पत्नी की ओर आया और उसकी साड़ी पूरी ऊपर चढ़ा दी. "अरे तुमने पैंटी नहीं पहनी हुई!"

"भूल गई होंगी."

किशोर धावले ने पत्नी की टांगें फैलाईं और स्वयं झुक कर बुर के सम्मुख हो गय. "अरे तुमने यहाँ मेरा रेज़र चलाया, बहुत चिकनी लग रही हो."

किशोर सुनीता की मांसल रानों के बीच लेट कर पत्नी की चूत चाटने लगे, "बड़ी गीली हो, क्या बात है."

"अब गीली तो हूँगी ही, आप महीनों तक मेरे साथ कुछ नहीं करते तो रात को मेरा निजी भाग रिसता है. आप की जीभ बहुत अच्छी लग रही है." सुनीता ने ससुर की राल में लेप गीली बुर का कारण होशियारी से छिपा लिया. पति के सर को अपनी योनी में समाए हुए किशोर के बालों को पकड़ सुनीता उसके चेहरे को अपने बालहीन योनिमार्ग पर रगड़ रही थी.

खटिया पर लेटे ससुर छिप कर अपने बेटे और बहु की यौन क्रिया देख रहे थे. क्योंकि किशोर का चेहरा जाँघों के बीच के अँधेरे में लिप्त था, ससुर मौका देख सुनीता के उठे हुए पाजेब पहने पैरों को कोमलता से छू रहे थे. काम-क्रिया में मस्त हुई सुनीता ससुर से आँखें मिला मुस्करा रही थी. पुत्र से चूत चटवाती बहु को देख ससुर धीमे-धीमे हस्त मैथुन कर रहे थे

किशोर अनजान था की जो कामुक रस वह चपड़-चपड़ उत्सुकतापूर्वक ग्रहण कर रहा था वह उसके पिता का झूटन था. बस चुन्नू ही धावले परिवार की खोली का इकलौता सदस्य था जो वास्तव में सो रहा था.
"आई दादा के पेट के ऊपर क्यों बैठी हो?" नादान चुन्नू ने ससुर के ऊपर चढ़ी हुई अपनी माँ से जिज्ञासा पूर्वक पूछा. नाइटी पहनी सुनीता लेटे हुए ससुर की सवारी कर रही थी. चुदासी बहु ऊपर-नीचे, आगे-पीछे होते हुए ससुर का लंड निगल रही थी.

"चुन्नू मैंने कितनी बार तुम्हें कहा है, तुम टी.वी. पर कार्टून देखो और मुझे परेशान मत करो." भारी साँसें लेती सुनीता ने चुन्नू को फटकारा. नाइटी पहनी सुनीता अपने ससुर के ऊपर बैठ कर चुदवा रही थी. नाइटी ने खुद के बदन को ढका हुआ था और नीचे लेटे ससुर की इज्ज़त भी बरक़रार थी. नाइटी के अन्दर जो चल रहा था वह चुन्नू नहीं देख सकता था.

गुसलखाने से बहते पानी के बंद होने की आवाज़ आई. सम्भोग करती सुनीता तुरंत उठ खड़ी हुई और अपनी नाइटी गिरा दी. चूत के रसों में भीगा हुआ ससुर का खड़ा लंड स्पंदन करने लगा. ससुर भी झट से खड़े हो गए, लौड़ा संभाला और पायजामा बांधने लगे. गुसलखाने से किशोर धावले बाहर आया और सब साधारण पाया - सुनीता चाय बना रही थी, पिताजी अखबार पढ़ रहे थे और चुन्नू कार्टून देख रहा था. सुनीता और उसके ससुर ऐसे ही समय चुरा के कामुक खेल खेलते थे.

"आइये पिताजी, ये कपड़े सुखाने बाहर गए हैं." सुनीता शौचालय में गई और नाइटी चढ़ा कर नाली पर बैठ गई. सुनीता का सुडौल गोश्तदार बदन, मोटी-मोटी चिकनी जांघें, खरबूज जैसे भारी नितम्ब और बीच में बच्चे दानी के छेद को ससुर घूरने लगे. मादक योनी मुंडी हुई पंखुड़ियों से ढकी थी. सुनीता पेशाब करने लगी. ससुर मूतती बहु के सामने जा बैठे और अपना हात गरम बहती मूत्र धार में धोने लगे.

शौचघर के खुले दरवाज़े की दहलीज पर बैठे ससुर प्रसन्न थे. बहु के ताज़े प्रवाह में अपना हात गीला करते हुए बोले, "बहु तुम मूत्रत्याग करते हुए अत्यंत कामोत्तेजक दिखती हो, मन करता है तुम्हारी मूत की बौछार में स्नान कर लूँ."

"आइये न पिताजी, नीचे मुंह रखिये, मैं आपके मुख पर पेशाब करती हूँ." ससुर ने यह सुन शीघ्रता से अपने चेहरे को नाली और बहु की चूत के बीच में धर दिया.

मूत्र के कसैले स्वाद को चखते हुस ससुर का सर पूरा भीग गया था. सुनीता की फूली हुई चिकनी चूत से बहते पीले पेशाब की बॉस ससुर को और उत्तेजित कर रही थी. पवित्र बहु की मूत की बरसात में नहा कर ससुर तृप्त हो गए थे.

"पिताजी साफ़ कर लीजिये, ये आते ही होंगे." सुनीता उठ खड़ी हुई. पखाने की नाली पर विश्राम करते ससुर ने मग्गे में पानी लिया और अपना शीश धो लिया.

"बाबा आप सुबह तो नहाए थे अभी फिर क्यों?" किशोर धावले खोली में जब वापस आया तो पिता के गीले बाल देख हैरान हुआ.

"बेटे, बहुत पसीना आ रहा था तो सोचा नहा लूँ." सर पोंछते हुए किशोर के पिता ने सफ़ाई दी.

"पापा, पापा, आई भी दादा के साथ बाथरूम में थीं." चुन्नू ने भोलेपन अपनी पतिलंघन माँ का राज़ खोल दिया.

"पिताजी तौलिया भूल गए थे वही देने गई थी, ये चुन्नू तो कुछ भी बोल देता है." सुनीता ने बात संभाली और चुन्नू को डांटा.
इतवार को किशोर धावले की छुट्टी थी और वह परिवार के साथ टी.वी. देख रहा था. छुट्टी वाले दिन किशोर सुबह से ही शराब पीना शुरू कर देता था. दोपहर होते-होते किशोर इतने नशे में था की ज़मीन पर बिछे गद्दे बेहोश हो सो गया. चुन्नू बाहर अपने दोस्तों के साथ खेल रहा था. यह अवसर पाते ही ससुर सुनीता के साथ जा बैठे और चिपट कर चूमने लगे. सुनीता भी उत्सुकता से चुम्बन का उत्तर देने लगी. ससुर-बहु की जबानें लड़ने लगीं.

"बहु स्तनपान कराओ." ससुर सुनीता का वक्षस्थल निहारते हुए बोले. सुनीता ने हँसते हुए अपने ब्लाउज़ के हुक खोले और ब्रा चढ़ा के अपने दोनों मम्मे मुक्त कर दिए.

ससुर बहु की गोद में लेट गए और चूचुक के आस-पास अपनी जिव्हा घुमाने लगे. फिर निपल अपने मुंह में ले चूसने लगे. सुनीता के कड़े उठे हुए उत्तेजित स्तनाग्र को लप-लप चाटने लगे. मम्मे चूसते हुए कामोत्तेजित ससुर पायजामा खोल अपने लिंग की मुठ्ठ मारने लगे.

"मुझे दीजिये पिताजी, मैं सहला देती हूँ." बहु ने ससुर का पांच-इंच खड़ा लौड़ा अपने नियंत्रण में ले लिया. सुनीता की चूड़ियाँ हस्तमैथुन करते हुए छन-छन बज रही थीं. ससुर का मोटा कठोर लंड बहु की कोमल मुठ्ठी में लुका-छुपी खेल रहा था.

किशोर धावले बगल में बेहोश पड़ा था. सुनीता ने ससुर के लंड की मालिश की गति बढादी, कुछ जी देर में लौड़ा थरथराया और वीर्ये का फव्वारा निकाल दिया. थोडा स्खलित वीर्ये साथ में सोते किशोर के कपड़ों पर गिरा. सुनीता ने हात में चिपके द्रव्य को चाट लिया और ब्रा नीचे कर ब्लाउज के हुक बंद करने लगी. ससुर ने पायजामा चढ़ाया और अपनी खाट पर बैठ टी.वी. देखने लगे.
"बहु किशोर चला गया है, अब थोड़े सुविधापूर्ण लिबास में आ जाओ." ससुर ने सुनीता को सुझाव दिया. किशोर के दफ्तर जाते ही सुनीता अपनी साड़ी उतार देती थी और ससुर के सामने ब्लाउज़-पेटीकोट पहने रहती थी. चुन्नू को समझाया हुआ था की उसकी आई गरमी के कारण इन अंदरूनी वस्त्रों में घर का काम करती थी. आज भी उसने ऐसा ही किया.

ससुर ने विस्मित होकर धीरे से कहा, "बहु, आज तुमने जांघिया नहीं उतारा?"

"क्षमा कीजिये पिताजी, एक-दम भूल गई!" सुनीता चूड़ियाँ खनखनाते हुए पेटीकोट के अन्दर पहुँची और अपनी पैंटी उतार के अल्मारी में तह कर के रख दी. फिर शीशे के सामने जा कर होठों पर लिपस्टिक और माथे पर बिंदिया सजाई.

"अब आओ तुम्हार पैरों के नाखूनों पर नेल-पॉलिश लगा दूँ." ससुर ने लाल नेल-पॉलिश बहु को दिखाते हुए बुलाया.

सुसज्जित सुनीता शरारती मुस्कुराहट देते हुए ससुर के सामने कुर्सी रख कर बैठ गई. उसने टी.वी. देखते चुन्नू की ओर अपनी पीठ कर दी और फर्श पर बैठे ससुर की गोद में अपना पैर रख दिया.

"आई, दादा क्या कर रहे हैं?" उत्सुक चुन्नू ने मुड़ कर पूछा.

"दादा आई के पैर के नाखूनों में नेल-पॉलिश लगा रहे हैं." सुनीता ने अपने पुत्र को अनसुना किया और पेटीकोट चढ़ा लिया. ससुर के सामने अपने सुन्दर कमनीय पैरों को प्रत्यक्ष कर दिया. ससुर की नज़रें बहु के घुटनों के स्तर पर थीं.

"बेटी दूसरा पैर मेरे कंधे पर रख लो." ससुर ने बहु के गुप्तांगों का निरिक्षण करने की व्यवस्था की. सुनीता ने ऐसा ही किया और अपने पेटीकोट के अन्दर का बहुमूल्य रहस्य सुगम्य बनाया.

ससुर की आँखें आनंदित हो गईं. बहु की मोटी गोश्तदार नंगी रानें आखिरकार खुल गई थीं. बीच में बालहीन चूत का नज़ारा दिख रहा था. सुनीता बार-बार पीछे मुड़ के देख रही थी की चुन्नू कहीं बहु ससुर की काम-क्रिया न देख ले.

"बहु चिंता मत करो, चुन्नू टी.वी. देखने में व्यस्त है. मैं देख रहा हूँ उसको, जैसे ही वो इधर आएगा मैं तुम्हें सावधान कर दूंगा." ससुर ने फुसफुसाया. वे सुनीता के पैर के नाखूनों पर शिष्टता से लाल नेल-पॉलिश लगाने लगे और खुली हुई जाँघों के बीच का आकर्षक दृश्य टकटकी लगा के देखने लगे.

"पिताजी मुझे पता है की आपको मेरा योनिमुख निहारने में कितना हर्ष मिलता है. मैं इनके जाने की बेताबी से प्रतीक्षा करती हूँ ताकि आपको यह ख़ुशी दे सकूँ." सुनीता ससुर से काना-फूसी कर रही थी और टांग उठा कर अपनी शेव की हुई बुर को इस निःशुल्क कामुक प्रदर्शनी में प्रकाशित कर रही थी. ससुर बहु की रमणीय बालहीन चूत देखते हुए प्रेम से उसके पैरों की सेवा कर रहे थे. साथ-साथ वे सुनीता की अंदरूनी रानें मृदुलता से मल रहे थे, पर वह बहु की बुर को स्पर्श नहीं कर रहे थे. इस खेल से सुनीता की काम वासना उत्तेजित हो रही थी.

"बहु, चुन्नू आ रहा है, जल्दी से पेटीकोट नीचे कर लो." ससुर ने चेतावनी दी. सुनीता ने झट से पेटीकोट नीचे किया और ससुर बहु के पैर पर नेल-पॉलिश लगाने लगे.

"चुन्नू तुम्हें कितनी बार कहा है, तुम टी.वी. पर कार्टून देखो और मुझे परेशान मत करो." सुनीता ने चुन्नू को फटकारा. बेटा वापस गया और टी.वी. देखने लगा. सुनीता ने फिर पेटीकोट उठा अपनी जंघाएँ फैलाईं और ससुर के कंधे पर एक पांव रख कामोत्तेजक नग्नता उजागर करी.

पैर और रानें मलते हुए ससुर ने देखा की बहु की चूत भड़क कर गीली हो गई थी. सुनीता की वासना जागृत हो रही थी, वह गहरी सांसें ले आँखें मूंदे हुई थी. ससुर घड़ी में समय देखा और बोले, "बेटी, मैंने मकान मालिक मांजरेकर साहब को आज बुलाया है, वे आते ही होंगे."

"उन्हें क्यूँ बुलाया पिताजी." सुनीता बेचैन हो एकाएक खड़ी हो गई. तभी खटखटाहट हुई और ससुर दरवाज़ा खोलने बढे.

"अरे ठहरिये पिताजी, मैं साड़ी तो पहन लूँ." सुनीता पेटीकोट को ठीक-ठाक करती हुई अपनी साड़ी ढूँढने लगी. लेकिन ससुर ने तत्काल खोली का द्वार खोल दिया. क़ीमती सूट पहने हुए मकान मालिक मांजरेकर साहब अन्दर आये, ससुर ने उनके पांव छूकर स्वागत किया. सुनीता वहीँ खड़ी हो शर्म से अपने वक्षस्थल को छिपाने लगी. केवल ब्लाउज़ और पेटीकोट में बेपर्दा, उसके गाल लज्जा से लाल हो गय और वह झेंप रही थी.

"शरमाओ नहीं सुनीता रानी, मुझे तुमसे ही बात करनी है. चुन्नू बेटे मेरा ड्राईवर तुम्हें आइस-क्रीम खिलाने ले जाएगा. भाग कर जाओ, कार में वो तुम्हारा तुम्हारा वेट कर रहा है." मांजरेकर साहब गहरी आवाज़ में बोले, चुन्नू दौड़ के खोली छोड़ नीचे खड़ी कार में चला गया. मांजरेकर साहब ने अपना कोट उतारा और सुनीता को ऊपर से नीचे तक ताकने लगे.

ससुर ने खोली का दरवाज़ा बंद कर कुण्डी लगा दी, "बेटी घबराओ नहीं, मांजरेकर साहब तुम्हें भोगना चाहते हैं. किशोर की कमाई से हमारा गुज़ारा कहाँ चलता है, मांजरेकर साहब हमारा किराया माफ़ कर देंगे और खूब रूपये भी देंगे. किसी को कुछ पता नहीं चलेगा, तुमसे मिलने ये महीने में बस एक दो बार आया करेंगे."

"लेकिन पिताजी आप तो पहले मांजरेकर काका के ड्राइवर रह चुके हैं और आप ही ने मुझे बताया था की काका वेश्याओं के पास जाते हैं. माफ़ कीजिये मांजरेकर काका मैं ये सब नहीं कहना चाहती थी." भयभीत सुनीता परेशान हो रही थी.

ससुर ने बात संभाली, "बेटी इसलिय मैं इनके पास गया था और तुम्हारी यौन सुख देने की निपुणता की प्रशंसा की थी. मेरे और इनके बीच कुछ नहीं छिपा, इन्होने ही तो हमें यह खोली दी है. इन्हें मैंने बताया की तुम्हारी यौनरुची प्रबल है जो मेरा बेटा किशोर नहीं बुझा पाता तो तुम मेरे साथ काम-क्रीड़ा करती हो. मैंने मांजरेकर साहब को राय दी की अगर ये तुम्हें अपनी रखैल बना लें तो हमारी आमदनी भी बढ़ जाएगी और सबसे महत्वपूर्ण जो कामोन्माद ये तुम्हें दे सकते हैं वो कोई और नहीं दे सकता. तुम सुरक्षित हो, मैं हरदम तुम्हारे साथ रहूँगा. मांजरेकर साहब के साथ मैंने कई रातें रंडी-खानों में बिताई हैं तो हमारे बीच कोई शर्म नहीं है." ससुर ब्लाउज़-पेटीकोट पहनी बहु को प्रलोभन देते हुए फुसलाने लगे.

"ठीक है पिताजी, आप जैसा उचित समझें. लेकिन आप काका की क्या विशिष्टता बता रहे हैं?" सुनीता थोड़ी तनाव मुक्त हो गई थी. मन ही मन उसकी इच्छा जग रही थी.

"सुनीता रानी मैं बताता हूँ." मांजरेकर साहब ने पैंट की चेन खोली और अपना लिंग निकाल कर हिलाने लगे. कुछ ही पल में उनका शिश्न आठ-इंच बड़ा हो गया. मोटे लौड़े का सुपाड़ा चमकने लगा.

ससुर बहु के पास गए और हात पकड़ कर मांजरेकर साहब के करीब ले आये. फिर ससुर ने सुनीता की हथेली सख्त लंड से जोड़ दी. ब्लाउज़-पेटीकोट पहनी सुनीता लौड़े को घूरते हुए स्वाभाविक रूप से सहलाने लगी. ससुर प्रसन्न होकर बोले, "इतना बड़ा खम्बा तुमने पहले नहीं देखा होगा बहु. आओ घुटनों के बल बैठो और इसे चूस के साहब की सेवा करो."

चरित्रहीन सुनीता वासना के वशीभूत घुटनों पर झुक कर मांजरेकर साहब का गीला सुपाड़ा चाटने लगी. फिर मुंह खोल मोटा लंड चाव से सुड़कते हुए चूसने लगी.

"शाबाश सुनीता रानी, धावले सही कह रहा था तुम तो अनुभवी रंडियों से भी अधिक कुशल हो!" मांजरेकर साहब सुनीता के शिश्न-चूषण से आनंदित हो रहे थे.

ससुर ने चूसने में मसरूफ़ बहु के ब्लाउज़ के हुक खोले और ब्रा भी उतार फैंकी. फिर पेटीकोट के नाड़े को खोल घुटनों के बल बैठी सुनीता को पूर्णतयः नग्न कर दिया. सुनीता ने पैंटी तो पहले से ही उतार रखी थी. नंगी सुनीता मांजरेकर साहब से आँखें मिलाती हुई चुस्की लगाकर अपने मुंह से उनके लिंग को भिगो कर उत्तेजित कर रही थी. मांजरेकर साहब सुनीता के बालों को पकड़ कर अपने आठ-इंची मोटे लौड़े से उसका मुख-चोदन कर रहे थे. निर्लज्ज सुनीता की चूड़ियाँ शिश्न-चूषण के दौरान लौड़े को हाथ से हिलाने के कारण झनझना रही थीं.

"ठहरो बहु, अपनी गंजी बुर तो दिखाओ साहब को." ससुर ने सुनीता को निर्देश दिया.

बेकपड़ा सुनीता चूसना छोड़ कर उठ खड़ी हुई और ज़मीन पर बिछे गद्दे पर लेट गई. बेशर्म हो उसने अपनी टांगें उठाईं और पैरों को हवा में करके संभाल लिया. उसकी चाँदी की पाजेब पैरों की घुटिका से उतर घुटनों की ओर पिंडली पर स्थायी हो गई थी. लुभावनी सफाचट फूली हुई योनी प्रदर्शित कर मांजरेकर साहब को रिझाने लगी. मोटा लंड चूसने से उसकी लिपस्टिक लबों पर से कपोलों पर फैल गई थी. लम्बे बाल तितर-बितर हो उलझ गए थे.

"आइये साहब, देखिये इसकी गंजी बुर को. मुझे पता है की आपको शेव की हुई फुद्दियाँ पसंद हैं. मैंने ही इसकी बच्चादानी के बाल हटवाएं हैं."

शर्ट-पैंट पहने और अनावृत कड़ा लौड़ा हाथ में लिए मांजरेकर साहब नितम्बिनी सुनीता को प्रेम पूर्वक निहारने लगे. उसका सुडौल जिस्म, भारी कुल्हे, विलासमय स्तन अति आकर्षक दीख रहे थे. गोश्तदार चिकनी जंघाएँ गुप्तांग को अलंकृत कर रहीं थीं. पायल पैरों पर चढ़ी हुई चमक रही थी. घुटने पकड़ी हुई कोमल बाहों पर कांच की रंग-बिरंगी चूड़ियों का आभूषण लुभावना लग रहा था. चिकनी चूत के प्रवेश द्वार की पंखुड़ियों के बीच से झाँकता हुआ लाल चीरा कामोत्तेजना के रसों से गीला था. यह बहुमूल्य स्त्रीधन का खज़ाना लुटने के लिए आमंत्रण दे रहा था.

स्वयं की कामुक सुन्दरता में विलीन मांजरेकर साहब को चुदासी सुनीता ने पुकारा, "अब आइये मांजरेकर काका, यह दासी आपकी रखैल बनने के लिए उत्सुक है."

"शाबाश बहु, तुम से यही आशा थी. आइये साहब जी भर की चोदिये मेरी बहु को." ससुर गदगद हो कर बोले.

मांजरेकर साहब ने शर्ट और पैंट उतारी, फिर अंतर्वस्त्र उतारे तो सुनीता ने उनकी बलवान देह सराही. सुनीता को उनका हृष्ट-पुष्ट सफ़ेद बालों से भरा सीना देखा और मजबूत भुजाएँ जांचीं. अभी तक कठोर खड़ा हुआ आठ-इंची लंड फुंकार मार रहा था.

"धावले ज़रा अपनी राल से सुनीता डार्लिंग को घर्षणहीन करो, मैं इसकी तंग गली में सुगमता से प्रविष्ट होना चाहता हूँ. रानी तुम तब तक इसे और चूसो." मांजरेकर साहब लेटी हुई सुनीता के सिराहने पर जा बैठे. चुदासी औरत यजमान के सख्त लिंग को चुम्बन देने लगी. चूमते चूमते सुनीता उनके अण्डकोश चाटने लगी.

मालिक की आज्ञा का पालन करते हुए ससुर बहु की रानों के बीच बैठ उसकी बुर चाटने लगे. चपड़-चपड़ चाटते हुए ससुर ने पर्याप्त रूप से लंड चूसती सुनीता के योनिमार्ग को अपने थूक से लबा-लब लेप कर दिया. "साहब बहु की दरार चिकनी कर दी है, आप पधारिये. बहु नितम्ब के नीचे ये तकिये रख लो, साहब का मोटा शिश्न ग्रहण करने में आसानी होगी."

सुनीता ने उचक कर अपने चूतड़ तकियों से ऊँचे कर उठा दिए. मांजरेकर साहब सुनीता की उभरी हुई गीली चूत के पास आये और अपना आठ-इंची मोटे लौड़े को साध के प्यासी बुर में घुसाने लगे. और फिर धक्का मार पूरा लिंग चूत के अन्दर पेल दिया. सुनीता आँख बंद कर आनन्द से कराहने लगी. मांजरेकर साहब ने गति का इज़ाफा किया और सुनीता के मांसल कूल्हों पर चपत मारते हुए चोदने लगे. सुनीता आहें भरने लगी और हर धक्के का उचक-उचक कर जवाब देने लगी. मांजरेकर साहब ने सुनीता के घुटने उसके कानों के झुमकों के निकट टिका दिए थे, और फूली हुई चुदासी बुर को डट के चोद रहे थे.
"क्षमा कीजिये मांजरेकर साहब, बहु को शायद नज़ारा देख सदमा पहुँचा है इसलिए बाहर गई है. मैं उसे अभी वापस लेकर आता हूँ." ससुर मांजरेकर साहब के बँगले में अपनी बहु सुनीता को सजा-धजा कर ले आए थे. पर सुनीता ने जब देखा की मांजरेकर साहब लौंडेबाज़ी में मसरूफ़ हैं तो वो खफा हो निकल गई.

"धावले तुमने सुनीता डार्लिंग को बताया नहीं की हम यह शौक भी रखते हैं?" अपने नेपाली नौकर बादल की गाण्ड मारते हुए मांजरेकर साहब ने ससुर से पूछा.

"मैंने उचित नहीं समझा साहब. सोचा की आपको समलिंगी-मैथुन करता देख बहु जिज्ञासु हो जाएगी और आपकी योजना के अनुसार यहाँ चल रही काम-क्रिया में शामिल हो जाएगी." ससुर चिंतित हो समझाने लगे.

इतनी देर में सुनीता स्वयं ही कमरे में लौट आयी, "मांजरेकर काका, मैं अपने बचपने पर शर्मिंदा हूँ." साड़ी पहनी सुनीता सोफे पर गुदा-सहवास करवाते बादल के निकट जा बैठी. बादल आराम से लेटा अपने मालिक के आठ-इंची मोटे लौड़े को अपने युवा मलाशय में स्वीकार कर रहा था. रूपवान नेपाली नौकर की निर्बल लुल्ली चुदाई के साथ-साथ डोल रही थी. सुनीता अपने प्रेमी मांजरेकर काका के विशाल शिश्न को गोरे बादल की संकीर्ण पखाना-निर्गम नली में ओझल होता देख अचंभित और उत्तेजित हो रही थी. गाण्ड मरवाने का लुत्फ़ उठाता हुआ बादल सुनीता से नज़रें मिला मुस्कुरा रहा था और हर धक्के के साथ सिसकारी भर रहा था.

"सुनीता डार्लिंग, देखो हमारा बादल कितना सुन्दर लड़का है. यह समलिंगकामी है और केवल हमसे गुदा-सवारी कराता है. हमें इसके साथ सम्भोग करना बहुत पसंद है हालांकि तुम्हारे से अधिक नहीं." मांजरेकर साहब बादल का मल-द्वार प्रबलता से चोदते जा रहे थे.

"बहु, तनिक कपड़े उतारो. तुम और बादल मिल कर मांजरेकर साहब की सेवा करो. साहब अवश्य तुम दोनों को बराबर प्यार देंगे." ससुर बहु को प्रोत्साहन देने लगे.

"हाँ सुनीता रानी, तुम हमारे बादल के सलोने मुख-मंडल पर विराजो. इस गांडू को अपने रसों की मदिरा पिलाओ." आगे-पीछे हो मूसली घुसाते मांजरेकर साहब ने अपनी आकर्षक रखैल सुनीता को आदेश दिया.

कामोत्तेजित सुनीता ने तुरंत साड़ी के अन्दर पहुँच कर पैंटी निकाल दी. मांजरेकर साहब गुलाबी पैंटी लेकर सूंघने लगे. फिर सुनीता साड़ी-पेटीकोट कमर के ऊपर खींच कर सोफे पर चढ़ गई. चुद्ता समलिंगी बादल सूजी हुई गीली योनी को लालसा से देखने लगा. सुनीता ने अपने चूतड़ों को लेटे हुए बादल के चेहरे पर उकड़ूँ बन ठहरा दिया. बादल ने भारी कूल्हों के बीच छिपी चूत की उपरी त्वचा को खोल कर योनीमार्ग को बंधनमुक्त किया. रसीली बुर की महक बादल की नासिकाओं में बस गई और वह लपा-लप कुत्ते की तरंह चूत चाटने लगा.

"आह..आह... मांजरेकर काका इस लड़के की छोटी सी लुल्ली झटके खाती हुई कितनी प्यारी लग रही है!" नीचे लेटे समलिंगकामुक बादल की जीह्वा स्पर्श से मदहोश सुनीता की काम भावना प्रज्वलित हो गई थी.

मांजरेकर साहब ने बादल की लचीली टांगें हवा में उठा उसके गोरे नितम्ब समलैंगिक सहवास के योग्य व्यवस्थित किये हुए थे. तेल से चिकना किया हुआ मलाशय बहुधा अभ्यास के कारण घनिष्ठ लौड़ा आसानी से हज़म कर रहा था. बादल की ढीली नपुंसक लुल्ली उसकी गाण्ड में हो रहे सशक्त हमले का उत्तर देते हुए उसके स्वयं के पेट पर तमाचे मार रही थी. नेपाली बादल सुनीता की चूत का रस चखने के साथ-साथ अपने पिछवाड़े की खुजली भी शांत करा रहा था. मालिक के शिश्न को अपनी पखाना-निर्गम संवरणी से पकड़कर गरम नर-सुरंग में कैद किये हुए था. फच... फच... फच चपत जमाने की ध्वनी समलिंगी व्यभिचार की घोषणा कर रही थी.

"बहु मांजरेकर साहब को चुम्बन तो दो." दृश्य का मज़ा लते हुए ससुर ने बादल से चूत चटवाती सुनीता को सुझाव दिया. सुन्दर नेपाली नौकर बादल का चेहरा बहु के मांसल चूतड़ों के नीचे छिपा हुआ था. सुनीता आगे बढ़ कर अपने प्रेमी मांजरेकर काका के होठ चूमने लगी. दास की नर-गुदा सम्भोग करते मांजरेकर साहब अपनी रखैल की जीभ को चूसने लगे. बादल औरत और मर्द दोनों का आनंद उठा रहा था.

"सुनीता डार्लिंग, बादल के मुख को अपने गुप्तांग से दबाकर ज़ोंर से रगड़ो. यह स्वपीड़न-कामुक है, इसे पीड़ा सह कर कामोन्माद प्राप्त होता है." मांजरेकर साहब ने सुनीता का मार्गदर्शन किया. सुनीता ने अपना पूरा वज़न गांडू बादल का चेहरा दबोचने में लगा दिया. गुदा-मैथुन कराता बादल अपने सर के ऊपर सुनीता की चिकनी नशीली योनी की हुकूमत का मज़ा लेने लगा. सुनीता बादल की निर्बल लुल्ली हिलाने लगी, उसके लघु अंडकोष के नीचे मांजरेकर साहब का खम्बा पिस्टन की तरंह नर-योनी के अन्दर-बाहर हो रहा था. सुनीता प्रेमी की लौंडेबाज़ी में भाग ले कर संतुष्ट थी, उत्तेजित बुर देख-भाल स्त्रैण बादल कर रहा था.

"मांजरेकर काका, आप कहाँ पानी निकालेंगे?" सुनीता ने पूछा.

"बस निकलने वाला है सुनीता डार्लिंग, बादल को मुक्त करो यही मेरा पानी निगलेगा." सुनीता मांजरेकर साहब की बात मानते हुए अर्धनग्न अवस्था में सोफे पर खड़ी हो गई. कुछ ही पलों में साहब ने बादल की पखाना-निर्गम सुरंग से अपना लण्ड निकाला और समलिंगी नेपाली नौकर के पूरे खुले हुए मुंह में खाली कर दिया. सुरूप बादल पूरा वीर्ये बेसब्री से पी गया.

ससुर ताली बजाने लगे, "देखो बहु बादल का पुष्ठभाग कैसे कली से पुष्प बन गया है." सुनीता ने ससुर के कहने पर देखा की वाकई नेपाली गांडू का गुदा-द्वार सुर्ख लाल था और चुदाई से फैल गया था.
बेडरूम से छप-छप, फच-फच सुनाई देते मंद स्वर मैथुन का संकेत थे . किशोर ने जिज्ञासापूर्वक मांजरेकर साहब के शयनकक्ष की ओर कदम बढ़ाए . थोड़े से खुले हुए किवाड़ में झाँका तो देखा की मांजरेकर साहब चुदाई के जोश में खोए हुए थे . काम-क्रिया का परिश्रम करते हुए वर-वधु गंदे शब्द चिल्ला रहे थे . दम्पति का केवल निचला नग्न भाग किशोर धावले की दृष्टि में था . बिस्तर पर उलझे हुए जिस्मों का ऊपरी शेष भाग दरवाज़े से ताक- झाँक करता किशोर नहीं देख पा रहा था .

"ऐसे ही चुदवाया करो रानी , आज तो योनिमार्ग अतिशय गीला है ." मांजरेकर साहब अपनी रखैल सुनीता धावले की शुद्धता लूटते हुए पुकार रहे थे . वह इस हक़ीक़त से अनजान थे की उनकी प्रियतमा का कानूनी स्वामी कमरे के बाहर था .

शयनकक्ष के फ़र्श पर बिखरी हुई साड़ी किशोर धावले को जानी-पहचानी लग रही थी . कुर्सी पर ब्रा और पेटीकोट फेंका हुआ था . मांजरेकर साहब के नीचे चुदती किशोर की जोरू के पायल पहने मनमोहक पैर हर धक्के के समकालीन हिल रहे थे . इतनी देर में मांजरेकर साहब का नौकर बादल आ गया और किशोर धावले को कमरे में झांकता हुआ पाया . किशोर की बादल से नज़रें मिली तो वह झेंप गया और तुरंत बैठक में वापस आ गया .

"कैसे आना हुआ किशोर बेटे, माफ़ करना तुम अनचाहे हमारी यौन लीला के साक्षी बने . तुम तो जानते हो हम कितने रंगीले आदमी हैं ." बादल की हिदायत पर कुछ समय पश्चात् मांजरेकर साहब सुनीता को बेडरूम में छोड़ कर किशोर से मिलने आये और हँसते हुए दिल्लगी करने लगे .

"मालिक मैंने कुछ नहीं देखा . पिताजी ने आपके बगीचे की घास काटने को कहा था, वही रख-रखाव करने आया हूँ ." सम्भोग करती हुई पत्नी की बिखरी साड़ी पर ध्यान देने के बावजूद, बुद्धिहीन किशोर को कुछ संदेह नहीं हुआ .

गाउन पहने मांजरेकर साहब मूर्ख किशोर धावले की अनभिज्ञता से आश्वस्त हो गए . बगल के कमरे से किशोर की व्यभिचारिणी बीवी अपने पति और प्रेमी का वार्तालाप सुन रही थी . समागम से श्वासहीन, बेकपड़ा सुनीता धावले हाथ-पैर पसारे बिछौने पर ढेर थी . उसके सघन वक्षस्थल पर गाढ़ा श्वेत वीर्ये फैला हुआ था .

"धन्यवाद किशोर, तुम और तुम्हारे पिता हमारी कितनी सेवा करते हो . आज संध्या की फैंसी-ड्रेस पार्टी में क्या तुम बादल के साथ मदिरा सेवन में मदद कर सकते हो? हमारे थोड़े विशिष्ट अतिथि आयेंगे . सब लोग मुखौटा लगाए होंगे ताकि किसी को कोई पहचान न सके ." मांजरेकर साहब ने किशोर धावले को कार्य सौंपा .

"अवश्य मालिक, मैं अभी बागबानी करके जाता हूँ और साँझ को साफ़ कपड़े पहन कर काम करने आ जाऊँगा ." किशोर आश्वासन दे कर चला गया . मांजरेकर साहब वापस बेडरूम में किशोर की स्वच्छंद धर्मपत्नी और अपनी रखैल सुनीता धावले के पास गए .

"मांजरेकर काका यह आपने क्या कर दिया, इनके होते हुए मैं पार्टी में कैसे शामिल हो पाऊँगी ?" सुनीता ताज्जुब थी ."

"चिन्ता मत करो डार्लिंग, तुम तो स्कूली-छात्रा वाली वर्दी पहन रही हो और फिर मुखौटा भी पहने होगी . तुम्हारा बेवकूफ पति तुम्हें नहीं पहचान पायेगा ." मांजरेकर साहब ने अपनी सुन्दर प्रेयसी को साहस दिलाया .
"इस हथिनी जैसी चाल वाली छात्रा से हमारी भेंट तो कराओ मांजरेकर ." बनावटी फ़ौजी-वर्दी पहने नकाबपोश मंत्री जी ने अनुरोध किया . सुनीता श्वेत स्कूली-वर्दी की स्कर्ट पहने मटक-मटक कर पार्टी में आए कुलीन लोगों के साथ घुल-मिल रही थी . सब मेहमान मुखौटों के पीछे अपने चेहरे छिपाए हुए थे . सुनीता ने भी मुखमंडल मुखौटे से ढका हुआ था और हाथ में मदिरा का ग्लास लिए थी . ड्रिंक्स बांटता हुआ किशोर अपनी मास्क-पहनी गृहणी को अपर्याप्त एवं उकसाने वाले वस्त्र पहनी कोई वेश्या समझ रहा था . आख़िरकार ऐसी शिक्षालय वाली लघु स्कर्ट कोई रंडी ही सँभाल सकती थी . सुनीता की मोटी टांगें घुटनों से नीचे अनाश्रित थीं . उसने कन्याओं वाली दो चोटियाँ कर रखी थीं . पाँव में विद्यार्थियों वाले जूते और चोली के स्थान पर वर्दी की सफ़ेद कमीज़ पहनी थी . तंग पोशाक में से सुनीता का सुडौल शरीर फ़ूट-फ़ूट कर निकल रहा था .

"अवश्य मंत्री महोदय, यह हमारी सजनी सुनीता है . यह आपको हमारे बँगले का दौरा कराएगी ." मांजरेकर साहब ने सुनीता को देख आँख मारी और ध्यान दिया की उनकी बातें किशोर की श्रवणसीमा में न हों . दावत बाग़ में ज़ोरों से चल रही थी, उच्च्वर्गिये लोग विभिन्न प्रकार के वेषों में आये हुए थे .

प्रशिक्षित सुनीता ने मंत्री जी के साथ कोठी का निरीक्षण शयनकक्ष से आरम्भ किया . "मंत्री जी देखिये इस छात्रा के जूतों के फीते खुल गए हैं, तनिक बाँधने में मदद करेंगे ?" कामोत्तेजक ढंग से सुनीता ने बिस्तर पर आसीन मंत्री जी की जांघ पर पाँव रख दिया और उनका मुखौटा हटा दिया .

मंत्री जी उठी हुई टाँग से बेपर्दा सुनीता की गोश्तदार रानें निहारने लगे . फिर सिर झुका कर श्वेत-स्कर्ट की चुन्नटों के भीतर का दर्शन करने लगे . उत्तेजित हो पैरों को मलते हुए उन्हें चूमने लगे . हाथ पसार के सुनीता की लाल पैंटी उसके मांसल कूल्हों से उतारने लगे .

"मंत्री जी यह क्या अभद्र व्यवहार कर रहें हैं . आपकी छात्रा को लाज आ रही है ." सुनीता नटखट ढंग से मिथ्या विरोध करने लगी और स्वयं पैंटी का सरकाव सुगम कर दिया . मंत्री जी ने पैंटी उतार फेंकी और सुनीता की चिकनी बालहीन चूत स्कूली-स्कर्ट के अन्दर अनाभूषित कर दी . फिर खड़ी हुई सुनीता का पाँव अपने कंधे पर टिका दिया और उसकी मादक बुर उचक कर कुत्ते की तरंह सूंघने लगे . मंत्री जी का शीर्ष स्कर्ट के अन्दर संगुप्त था . उन्होंने सुनीता की लुभावनी योनी का मुखाभिगम आरम्भ कर दिया . भगोष्ठ की फांकें खोल अपनी ज़बान से लपड़-लपड़ चाटने लगे .

बेडरूम की खिड़की के बाहर बाग़ में से यह रति-क्रिया किशोर धावले देख रहा था . सुनीता का मुखौटा पहने होने के कारण वह अज्ञात था की मंत्री जी से जिह्वा-सम्भोग कराती औरत उसकी पतिव्रता जोरू थी . स्कूली वर्दी में सुनीता अति कामुक प्रतीत हो रही थी, किशोर अपना लण्ड पतलून के अन्दर सहला रहा था . अकस्मात् किशोर ने अपने गुप्तांग पर स्पर्श महसूस किया, उसने देखा की समलिंगी बादल मुस्कराता हुआ उसका लौड़ा पकड़ने के चेष्ठा कर रहा है . भड़के हुस किशोर को इसमें आपत्ति नहीं हुई और उसने नेपाली नौकर को अनुमति दे दी . बादल घुटनों पर बैठ किशोर की चेन खोलने लगा और फौरन शीष्ण-चूषण शुरू कर दिया . गांडू बादल का स्नेहमय गरम मुख किशोर की वासना उभाड़ने लगा . बादल कभी किशोर का सुपाड़ा चाटता तो कभी पूरे लिंग को ऊपर से नीचे तक चूमता . स्लर्प-स्लर्प ध्वनी करते हुए बादल आँखें मूँद लण्ड चुस्की लगाकर चूस रहा था .

अब तक कमरे के अन्दर का नज़ारा बदल गया था . सफ़ेद स्कर्ट पहनी सुनीता धावले बिस्तर पर लेटे मंत्री जी के लिंग पर सवार थी . वह उठक-बैठक कर चुद रही थी . सुनीता के भारी चूतड़ मंत्री जी के पिण्ड पर छप-छप तमाचे मार रहे थे . सुनीता सिस्कारियां ले रही थी और रति-क्रिया करते हुए बारम्बार मंत्री जी को झुक कर चुम्बन दे रही थी .
"चलो सुनीता-बाई अब कुतिया बन जाओ . तुम्हें मांजरेकर मेरी खातिर करने का कितना पैसा दे रहा है ?" मंत्री जी ने अपनी फौजी-वर्दी की पतलून उतार बिस्तर के किनारे मोर्चा ले लिया . विवाहित गृहणी सुनीता अपने को वेश्या बोला जाना पसंद कर रही थी .

"दस हजार रूपये मंत्री जी . आपने सही पहचाना, मैं कॉल-गर्ल हूँ . आप जैसे ग्राहकों की होटलों में सेवा करती हूँ . मेरा घरवाला शराबी है, मेरे ससुर ही मेरे दलाल हैं . मैं आपके लिए अवश्य कुत्ती बनूँगी ." अधनंगी सुनीता धावले स्कूली स्कर्ट-कमीज़ पहने निर्देशित मुद्रा लेने लगी . देह-व्यापार की ख़रीदी हुई वस्तु के रूप में वह काम-भोग के विविध अनुभवों की और इच्छुक हो गई थी .

"तुम वेश्यावृत्ति के कार्य में अपनी मोटी गाण्ड में डंडा तो लेती ही होगी . मुझे तुम जैसी रंडियों की बुण्ड में सख्त इंजेक्शन लगाने की रूचि है ." अपना सात-इंची लौड़ा लहराते हुए मंत्री जी अश्लील प्रश्न पूछने लगे . पके हुए फल समान भारी वक्षों की धनि सुनीता कच्ची बालिकाओं की स्कूली-वर्दी में अति सुन्दर लग रही थी . भोगी सुडौल गज-गामिनी बदन को भंग करने के उत्सुक मंत्री जी सुनीता के मैथुनिक सौंदर्य से मंत्रमुग्ध थे .

"नहीं मंत्री जी, मैंने सुना है इस अकथनीये कार्य में महिलाओं को पीड़ा होती है ." हाथ-पैरों के सहारे गद्दे पर घोड़ी की आकृति में कायान्तरित सुनीता प्रतिरोध करने लगी . श्वेत स्कर्ट के भीतर उसके चर्बीदार नितम्ब की रूपरेखा कामुक आमंत्रण दे रही थी . पग पर विद्यालय के जूते स्कूली-वर्दी की वेशभूषा के अनुरूप सुनीता ने अभी भी पहने हुए थे .

"अरे नहीं प्यारी , जैसे तुम्हारी योनी घुसपैठ की आदि हो गई है वैसे ही तुम्हारे कुँवारे पिछवाड़े को अभ्यास की ज़रुरत है . मैं तो हैरान हूँ की तुम जैसी स्वच्छंद-सम्भोग की अभिलाषी औरत की बुण्ड अभी तक अनन्वेषित है ! मैं वैसलीन का उपयोग कर सहजता से तुम्हारे गुदा-कौमार्य का उद्घाटन करूंगा, व्याकुल न हो ." कामोत्तेजित मंत्री जी ने कुतिया बनी सुनीता की चुन्नटों वाली स्कर्ट थोड़ी सी चढ़ाई और उसके गोलाकार मादक चूतड़ चूमने लगे . अभी-अभी व्यभिचार से शिथिल भीगी हुई सफाचट बुर को चाटने लगे . अविवेकी नारी के फूले हुए प्रताड़ित लाल जननांग पर मंत्री जी जीभ का पोंछा लगाने लगे . योनी-रस पीते हुए मंत्री जी ने सुनीता के कूल्हों को खंडित कर उसकी मल-निर्गम सुरंग को अपनी अंगुली से खोदना आरम्भ किया . वेसलीन से सनी अंगुली मलाशय की आंतरिक दीवार घर्षणहीन करने लगी .

खिड़की के बाहर लौड़ा चूसता समलैंगिक बादल भीतर की गतिविधियाँ देख प्रेरित हो रहा था . उसने किशोर धावले से गुज़ारिश की और मुड़ गया . कामोत्तेजीत किशोर ने पीछे से लड़के को अपनी बाहों में समेट लिया और उसके आसन पर अपना उजागर लिंग रगड़ने लगा . किशोर चिकने बादल की गर्दन को जगह-जगह काटने लगा . नेपाली गांडू किशोर के ठोस लिंग को पकड़ कर हलके-हलके मुठ मार रहा था . शादी-शुदा किशोर बादल की ढीली लुल्ली अपनी उँगलियों से महसूस करने लगा . शीशे का दरीचा बंद होने के कारण किशोर भीतर का दृश्य देख तो पा रहा था परन्तु वार्तालाप को सुन नहीं सकता था .

बेडरूम में मंत्री जी कुतिया बनी सुनीता धावले के पीछे स्थित अपने लण्ड पर वेसलीन लगा रहे थे . नितम्बिनी सुनीता का गुदा-द्वार श्वेत स्कूली-स्कर्ट के घूंघट से बेपर्दा हो लौड़े को लुभा रहा था . गुदगुदी स्थूल जंघाएँ खोल अपने कूल्हों को उत्थित कर सुनीता अब गाण्ड मरवाने का तजुर्बा प्राप्त करने की इच्छुक थी . वह प्रसन्न थी की तत्पश्चात अपने आशिक़ मांजरेकर काका को अपनी तंग पखाना-निकास नली में स्वीकार कर पाएगी . इस भेंट से उसके बलमा अवश्य हर्षित होंगे . इस कल्पना के मध्य में मंत्री जी अपनी काम वासना पूर्ण करते हुए सुपाड़े को सुनीता के नितम्ब में प्रविष्ट कर दिया . सुनीता दर्द से कराही और अपनी बेरोजगार बुर को मलने लगी . मंत्री जी ने पूरा भाला धकेल दिया और सुनीता के गोश्तदार चूतड़ों पर तमाचे मारते हुए उत्साहयुक्त चुदाई करने लगे . सुनीता सिसकारियाँ भरने लगी और पीड़ा से नयन मूंदे हुए अपने होठ काटने लगी . हमले के साथ-साथ सुनीता की दोनो छात्राओं वाली चोटियाँ झूल रहीं थीं . सफ़ेद स्कर्ट कमर पर चढ़ी हुई नग्न निचले जिस्म की और शोभा बढ़ा रही थी . विलासमय नितम्बों की चर्बी जोशपूर्ण झटकों से थरथरा रही थी .

बाहर समलिंगकामुक बादल ने अपनी निक्कर उतार दी थी . हाथों में थूक-थूक कर खुद के समलिंगी गुदा द्वार को गीला कर मैथुन के लिए गमनिय बना रहा था . किशोर बादल के लड़कपन को अपने खड़े हुए धड़कते खम्बे से भ्रष्ट करने के लिए तरस रहा था .

"आशा है सुनीता रानी आपको बखूबी संतुष्ट कर रही है मंत्री जी ?" मांजरेकर साहब शयनकक्ष में दाखिल हुए और यौन क्रिया करते हुए मंत्री जी से उनके हाल-चाल पूछे .

"तुम्हारी भाड़े की छिनाल बड़ी मजेदार है मांजरेकर . इसकी तंग अनुभवहीन गाण्ड लेने में बहुत आनन्द आ रहा है . देखो कितनी सरगर्मी से अपना लदा हुआ पिछवाड़ा बजवा रही है ." हाँफते हुए मंत्री जी सुनीता की चुदने की प्रतिभा की प्रशंसा करने लगे .

"आह... आह... मांजरेकर काका, आह... आह... मंत्री जी के शिक्षण से अब मेरी गुदा लाभदायक हो गई है . आह. .. यह कड़वा ज्ञान दुखदायी तो था पर अनूठा भी है . आह... आह... यदि मंत्री जी बुरा न माने तो आप भी परखिये . आह... आह... " धक्कों की वजह से आहें भरती सुनीता अपने महबूब मांजरेकर काका को मंत्री जी से अदला-बदली करने का सुझाव देने लगी .

खिडके के बाहर किशोर ने भी बादल के मलाशय में गोता लगा दिया था और फुर्तीले समलैंगिक सहवास में डूबा हुआ था . बादल ने अपनी राल से अपना गुदा द्वार तरल कर लिया था और अपनी भूखी गुफा में कठोर लौड़ा निगल रहा था . नपुंसक गांडू छोकरा लण्ड ग्रहण करने की लत शांत कर रहा था . दीवार के सहारे टेढ़ा खड़ा होकर अपना कामुक युवा मलाशय किशोर को भेंट किये हुए था .

मित्रता में मंत्री जी ने अपना स्थान मांजरेकर साहब को हस्तांतरण कर दिया और वह तुरंत सुनीता के चूतड़ों के मध्य की शोषित मणि लूटने लगे . मांजरेकर काका को सुख से अपने पिछवाड़े में स्वीकार कर, सुनीता मंत्री जी के लम्बवत्त लिंग को चूसने लगी .

"यह स्त्री तो वास्तव में परपुरुष-गामिनी कलाओं में निपुण है मांजरेकर, और ऊपर से इसका भड़कीला छात्रा वेष ... उत्तम, अति उत्तम !" मंत्री जी दो पुरुषों की सेवा करती शर्मीली पतिव्रता सुनीता का गुणगान करने लगे . कुछ पलों में मंत्री जी ने सुनीता के मुख में लिंग स्खलित कर दिया, सुनीता पूरे शुक्राणु पी गई . मांजरेकर साहब ने भी सुनीता की मस्त गाण्ड के अन्दर अपना वीर्ये निकाल फेंका . चरम-आनन्द प्राप्त कर सुनीता थक कर बिस्तर पर लेट गई, उसके कूल्हों के बीच से चिपचिपा श्वेत रिसाव निकास करने लगा और लबों के कोनों से भी चाश्नी जैसा बीज चूने लगा . अर्धनग्न सुनीता काम-क्रिया का रसास्वादन करने के उपरांत भी अपने सुडौल बदन पर स्कूली-वर्दी की कामोत्तेजक स्कर्ट-कमीज़ पहने हुई थी .

बाहर सुनीता का कानूनी नाथ ने पत्नी की रंगरलियों से बेखबर समलैंगिक समागम का कामोन्माद हासिल किया था . कामाकर्षक बादल के मलाशय में अपनी धातु त्याग कर किशोर तृप्त हो गया था .
"सुनीता, डाइनिंग टेबल पर पैर नीचे रख कर बैठते हैं ." किशोर धावले ने पत्नी को नई भोजन-टेबल पर खाने की रीति समझाई . सुनीता कुर्सी पर आलती-पालती मारे बैठी हुई थी . आकर्षक स्त्री ने साड़ी चढ़ाई हुई थी . मांजरेकर साहब मिसेज़ धावले के बगल में बैठे उसकी अनावृत जंघाएँ सहला रहे थे . यह कार्यक्रम टेबले के नीचे छुपा हुआ था . सामने बैठा किशोर धावले शराब के नशे में धुत्त था .

"सॉरी चुन्नू के बाबा, मेरे पैर में दर्द हो रहा था इसलिए कुर्सी पर रख लिया ." सुनीता ने पाँव नीचे कर दिए . मांजरेकर साहब ने अपने बँगले पर धावले दम्पति को रात के खाने पर बुलाया था . डाइनिंग टेबल पर साथ बैठे हुए तीनों खाना खा रहे थे .

"किशोर तुम व्हिस्की पियो, सुनीता को तंग मत करो ." मांजरेकर साहब ने शराब की बोतल आगे करी .

किशोर व्हिस्की पी कर मदहोश था . थोड़ी देर में किशोर ने टेबल पर सर रख कर आँखें मूँद लीं . मांजरेकर साहब और सुनीता ने किशोर को सहारा दे उठाया और सोफे पर लिटा दिया . किशोर को सोता देख मांजरेकर साहब ने अपनी रखैल को आग़ोश में लिया और चुम्बन दी . सुनीता सोफे पर पति के बगल में बैठ गई और मांजरेकर साहब की पतलून खोल उनके लण्ड के साथ खेलने लगी . उसने अपनी साड़ी का पल्लू गिरा दिया और प्रेमी का लौड़ा चूमने लगी . गीला सुपाड़ा चाटते हुए अंडकोष सहलाने लगी .

"यह क्या कर रही हो सुनीता !", किशोर जग गया और दृश्य देख भौंचक्का हो गया . समीप बैठी धर्मपत्नी पिता समान मांजरेकर साहब का शिश्न-चूषण कर रही थी .

"चुन्नू के बाबा, आप तो मेरे साथ कुछ करते नहीं हैं और फिर मांजरेकर काका का लिंग आपकी तुलना कितना विशाल है . आप चुपचाप देखिये, हमारी काम-क्रिया में बाधा मत डालिए ." पति को डांट कर सुनीता पुनः आशिक़ का आठ-इंची खम्बा चूसने लगी .

"किशोर तुम्हें तो पता होना चाहिए की हम तुम्हारी जोरू के साथ नियमित रूप से सम्भोग करते हैं . तुम्हारे पिता इसके बदले हमसे रूपये लेते हैं और तुम्हारा घर इन्ही पैसों से चलता है . डार्लिंग ने मंत्री जी के साथ भी रति-क्रिया कर उन्हें खुश किया है ." सुनीता के केशों में उँगलियाँ चलाते हुए मांजरेकर साहब में मुख-चोदन जारी रखा

"ठीक है मांजरेकर साहब, आप इस वेश्या को भोगिये . मैं चलता हूँ ." किशोर उठ कर प्रस्थान करने लगा .

"नहीं आप यहीं बैठिये, मैं मांजरेकर काका को आपका तुच्छ शिश्न दिखाना चाहती हूँ . अपनी पैंट खोलिए ." कुलटा सुनीता प्रेमी के मोटे लौड़े को हिलाते हुए पति किशोर को सता रही थी . अपमानित हो किशोर ने शर्मनाक कार्य किया और चेन खोल कर अपनी लुल्ली प्रदर्शित कर दी .

"देखिये मांजरेकर काका, आपके हथोड़े के सामने इनकी छड़ी कितनी छोटी और निर्बल है ." सुनीता ने पति किशोर की लुल्ली उठाई और हँसने लगी . शर्मिंदा हो किशोर ने अपना चेहरा हाथों से ढक लिया .

"चुन्नू के बाबा, आँखें खोलिए और अपनी पत्नी को योग्य मर्द के साथ अच्छे से सहवास करते हुए देखिये ." सुनीता ने किशोर के चेहरे से उसके हाथ हटाए और मुस्कुराते हुए मांजरेकर साहब का चमकता हुआ सुपाड़ा जिह्वा निकाल चाटने लगी . फिर लण्ड चूसते हुए पति को शरारती ढंग से मुड़-मुड़ कर देखने लगी . लज्जित किशोर जोरू को पराये पुरुष के साथ यौन-क्रिया करता देख कामोत्तेजित हो रहा था, वह अपने लिंग को सहलाने लगा .

"अच्छे से चूसो सुनीता, मांजरेकर साहब के तने को अपने कंठ तक ले कर खाओ . शाबाश, ऐसे ही ." हस्तमैथुन करता हुआ किशोर शिश्न-चूषण करती स्त्री को प्रोत्साहन देने लगा . पति के समर्थन से प्रसन्न सुनीता ने पलट कर किशोर को चुम्बन दी . किशोर ने पत्नी के लब और ज़बान चूमते हुए मांजरेकर साहब के लौड़े के स्वाद का अनुभव किया .

"आप भी चखिए न, मज़ा आएगा ." सुनीता ने किशोर धावले का मुख मांजरेकर साहब के कठोर लण्ड की ओर धकेल दिया . उत्तेजित किशोर ने स्वेच्छा से मोटा लिंग मुंह में ले लिया और चूसने लगा . सुनीता पति किशोर के बाल जकड़ कर उसके शीश को धक्के देने लगी . किशोर के मुंह में निष्ठुर लौड़ा अन्दर-बाहर होने लगा . सुनीता पति के साथ मिल कर मांजरेकर साहब का आठ-इंची स्तम्भ को चाटने-चूसने लगी .

"कैसा लगा मुखाभिगम करके किशोर? अब तुम सुनीता डार्लिंग को नग्न करो . हम तुम्हारी जोरू के साथ समागम करना चाहते हैं ." मांजरेकर साहब ने आदेश दिया . अपने थूक से लतपत लौड़े को किशोर ने छोड़ा .

किशोर धावले ने सुनीता की साड़ी उतार दी और उसका पेटीकोट गिरा दिया . फिर पत्नी के ब्लाउज़ के हुक खोल दिए और श्रीमती को सोफे पर लिटा दिया .

"चुन्नू के बाबा, मेरी ब्रा और पैंटी भी उतारिये . मांजरेकर काका के लिए मुझे पूरा निर्वस्त्र करिए और उन्हें मुझ पर सवार होने का निमंत्रण दीजिये ." सुनीता अपने स्वामी को अपमानित करते हुए निर्देश दिया . लाचार किशोर ने अपनी औरत के अंतर्वस्त्र भी उतार दिए और उसे पूर्णतया नंगी कर दिया .

"आइये मांजरेकर साहब, कृपया मेरी कामुक जोरू के साथ रति-संयोंग कीजिये ." किशोर ने नग्न लेटी सुनीता को पेश किया .

मांजरेकर साहब की दृष्टि सुनीता की सुडौल काया पर थी, चर्बीदार चिकनी जंघाएँ, कमनीय पायल पहने पाँव, लचीली कमर और बीच में शेव की हुई सफाचट बालहीन चूत . सुनीता भगोष्ठ की फांकें अपनी उँगलियों से खिला कर नम योनी अपने महबूब को भेंट करने लगी . खड़े हुए लौड़े ने शीघ्र ही गीली बुर में प्रवेश कर दिया . चरित्रहीन सुनीता उचक-उचक कर डट के चुदने लगी .

"आह... आह... आप तो शराब के नशे में रहते हैं, मेरी काम-वासना ऐसे बलवान पुरुष ही कर सकते हैं . अपनी बेकार डंडी देखिये, यह मांजरेकर काका के मूंसल से कहाँ मुक़ाबला कर सकती है . आह... आह... " चुदाई से कामोत्तेजित सुनीता किशोर को नीचा दिखाते रही .

"किशोर हमें सम्भोग करता देख तुम्हें कैसा लग रहा है ?" चोदते हुए मांजरेकर साहब प्रश्न करने लगे . सहवास में मग्न सुनीता उनके मजबूत सीने के सफ़ेद बालों को सहला रही थी .

"बहुत आनंद आ रहा है मांजरेकर साहब, आपका ज़ोरदार लिंग सुनीता की योनी के अन्दर-बाहर होता हुआ कामोत्तेजक लग रहा है . कृपया मेरी जोरू को ताकत लगा कर चोदिये ." किशोर अपने लुल्ले को सहलाता हुआ यौन-क्रिया का मज़ा ले रहा था . सुनीता सिस्कारियां मार रही थी .

मांजरेकर साहब भका-भक समागम कर रहे थे . पुख्ता मोटे लण्ड से चुदवाते हुए सुनीता के भारी नितम्ब थरथरा कर हिल रहे थे . दोनों प्रेमी गहरी साँसे ले रहे थे . कुछ ही पलों में मांजरेकर साहब सुनीता के तपते हुए चिकने योनिमार्ग में स्खलित हो गए .

"आइये चुन्नू के बाबा, मेरा योनिमुख साफ़ कीजिये ." सुनीता ने किशोर धावले को आज्ञा दी . किशोर तुरंत फूली हुई चिकनी चूत के निकट गया . वह फैली हुई रानों के बीच स्थापित हो, बुर से रिसता हुआ ताज़ा-ताज़ा गाढ़ा वीर्ये चाटने व निगलने लगा
"क्या हुआ सुनीता, कहाँ भाग रही हो ?" मंत्रीजी के कार्यालय से तेज़ी से निकलती हुई पत्नी को देख किशोर धावले उत्सुक हो गया .

"म...म...म... म म ." सुनीता मुंह बंद करे हुए मंत्रालय के महिला शौचालय में घुस गई . किशोर शौचघर के बाहर प्रतीक्षा करने लगा . थोड़ी देर में सुनीता निकली और पति को डांटने लगी .

"आप भी कैसे प्रश्न पूछते हैं ! आपको पता है की मंत्रिजो और श्रीमान सिंघानिया के बीच आज ख़ास समझोता हुआ है . इतने बड़े उद्योगपति का आदर-सत्कार करने के लिए ही मुझे बुलवाया था ." सुनीता क्रोधित होकर अपने नाथ को समझाने लगी .

"लेकिन प्रिय तुम प्रसाधन कक्ष इतनी जल्दी क्यों जा रही थीं, और मुझे उत्तर भी नहीं दिया ?" किशोर परेशान था .

"चुन्नू के बाबा आप भी कितने नासमझ हैं . मेरे मुख में श्रीमान सिंघानिया का वीर्ये था, वही थूकने गई थी . बीज से भरे हुए मुख से मैं कैसे बोल सकती थी ! अब चलिए, हमें मंत्रीजी के साथ उनके फार्महाउस जाना है ." सुनीता ने विवरण दिया .

मंत्रीजी की गाड़ी हाइवे पर चल रही थी . ड्राइवर और किशोर धावले आगे बैठे थे, सुनीता मंत्रीजी के साथ पीछे .

"ड्राइवर ए.सी. चलाओ, गर्मी लग रही है . सुनीता तुमने बहुत अच्छे से सिंघानिया की ख़ातिर की, हमारा सौदा पक्का हो गया . इसमें तुम्हारा बहुत बड़ा हाथ है, नहीं मुँह है !" मंत्रीजी ठहाके मार कर हंसने लगे .

"श्रीमान सिंघानिया पर अधिक मेहनत नहीं करनी पड़ी . वह तो जल्दी ही स्खलित हो गए . उन्होंने कल मुझे होटल में बुलाया है ." सुनीता ने ड्राइवर की और इशारा करते हुए मंत्रीजी से धीरे से बोला .

"तुम हमारे निकट बैठो सुनीता, ड्राइवर से कोई शर्म नहीं अपना ही आदमी है . किशोर तुम्हारी पत्नी यथार्थ श्रेष्ठ अभिनेत्री है ." मंत्रीजी ने सुनीता के गल पर चुम्बन दी और उसका पल्लू गिरा दिया . फिर ब्लाउज़ के हुक खोल दिए, उनके हाथ सुनीता की ब्रा के अन्दर चूचियों से खेलने लगे . विवाहित रंडी के निपल एकदम सख्त हो गए थे . किशोर घूम-घूम कर पीछे की सीट पर चल रहे तमाशे को देख रहा था . ड्राइवर भी गाड़ी के शीशे में पीछे देखे जा रहा था .

"सुनीता अंगिया भी उतार दो, मंत्रीजी सुगमता से आनंद ले पाएँगे . सफ़र बहुत लम्बा है ." किशोर जोरू को सुझाव देते हुए अपने गुप्तांग मल रहा था .

सुनीता ने अपनी ब्रा उतार दी और अधनंगी हो गई . गुलाबी रंग की खड़ी हुई चूचियाँ ऐसी लग रही थीं जैसे नर्म गुदगुदे खरबूजों पर मीठी किशमिश . सांवले परिवेश के घेरे में दोनों निपल उभर कर उजागर थे . मंत्रीजी चूचुकों को अपनी दो उँगलियों के बीच में लेकर धीरे-धीरे मसल रहे थे, और प्यार से उनको खींच रहे थे . सुनीता चिकोटी काटने पर सिसकारियाँ भर रही थी, उसकी आँखें एकदम नशीली हो चुकी थीं . सुनीता ने मंत्रीजी का सिर को पकड़ कर अपने स्तनों पर झुका दिया . मंत्रीजी ने अपने होंठ चुचियों से भर लिये वह धीरे-धीरे उसकी चुचियों को चूसने लगे . उत्तेजित हो उन्होंने अपने दांत भी चुचियों पर गड़ा दिये जिससे सुनीता के मुँह से हलकी सी चीख निकल गई . चलती गाडी में सुनीता मंत्रीजी के बालों को पकड़ कर अपने वक्षस्थल पर और दबा रही थी .

"साहब क्या गाड़ी किनारे लगा दूँ ?" ड्राइवर इस कामुक खेल को शीशे में देख कर बोला .

"बिलकुल नहीं, अगर हम रुके तो पहुँचते हुए अँधेरा हो जाएगा . तुम अपने को अलग महसूस मत करो . गाड़ी चलाते रहो, किशोर तुम्हारा अंग-मर्दन करेगा . क्यों किशोर, मांजरेकर ने बताया की तुमने उत्साहपूर्वक चुसाव किया था ." मंत्रीजी अर्धनग्न औरत के मम्मे टटोलते हुए शरारत करने लगे .

"अवश्य मंत्रीजी, मेरे पति किसी और काम के तो हैं नहीं . चुन्नू के बाबा चलिए ड्राइवर जी के तनाव का समाधान कीजिये . और हाँ, सावधानी से कहीं इनका सड़क से ध्यान भंग न हो ." अपने नाथ की तौहीन करते हुए सुनीता ने निर्देश दिया .

"ठीक है प्रिय, तुम जैसा कहो . तुम भी पूरी तरह निर्वस्त्र हो जाओ और मंत्रीजी को अपनी आकर्षक देह पेश करो ." किशोर गाड़ी चालक की पतलून पर हाथ फेरने लगा . ड्राइवर किशोर को देख मुस्कुराया और पीछे के शीशे में हो रही काम-क्रिया देखते रहा . किशोर ने चालक की पैंट की चेन धीरे से खोली और अंडरवियर में क़ैद उसके लण्ड को सहलाने लगा . किशोर अपनी पैंट खोल अपनी लुल्ली को निकाल कर हिलाने लगा .

पीछे की सीट पर सुनीता ने अपनी साड़ी पूरी उतार दी . ब्लाउज़ व ब्रा तो पहले से कार में अलग पड़े हुए थे . पेटीकोट पहनी सुनीता ने फिर मंत्रीजी के होठों को अपने होठों में भर लिया और अपनी जीभ को उनके मुंह में डाल कर घुमाने लगी . दोनो एक दुसरे को प्रेम से चुमने लगे .


"तेरी जोरू तो बड़ी मस्त है किशोर, तुझसे मर्दों की सेवा करवाती है और तुझे इसमें मज़ा भी आता है . तेरा क्या खड़ा नहीं होता ?" ड्राइवर की नज़र किशोर के लुल्ले पर पड़ी तो उसने सवाल किया . किशोर ने ड्राइवर के जांघिये में से उसका फुंकार मारता लण्ड निकाल कर रोशन कर दिया . फनफनाते स्तम्भ को किशोर अपने दोनों हाथों से दूहने लगा . गाड़ी चलाते हुए चालक ने अपनी टांगें फैला दी . किशोर ने ड्राइवर के अंडकोष हल्के-हल्के मसले और वज़नदार लौड़े की मुट्ठी मारने लगा .

"ड्राइवर जी आपके दैत्य के सामने मेरा लुल्ला तो निम्न है . देखो सुनीता कितना मोटा है !" भौंचक्के किशोर ने चिल्ला कर अपनी पत्नी को बताया . ड्राइवर का काला खम्बा अत्यंत मोटा था, किशोर अनावृत कठोर लिंग का हस्तमैथुन करने लगा . सुनीता ने आगे झुक कर सामने की सीट का दृश्य स्वयं देखा .

"आप इसका सम्मानपूर्वक रसज्ञान कीजिये . आप अपनी स्त्री को तो संतुष्ट कर नहीं सकते, कम से कम इस कड़े शिश्न को तो कामोन्माद दीजिये . चलिए, ड्राइवर जी की गोद में अपना सर झुकाइये ." सुनीता ने किशोर धावले को धकेला . आज्ञाकारी किशोर ड्राइवर के चमकीले नम सुपाड़े को अपनी ज़बान निकाल कर चाटने लगा . सुनीता ने वापस पिछली सीट पर टेक लगा कर मंत्रीजी को आँख मारी . बेचारे किशोर को शिश्न-चूषण करता देख मंत्रीजी हंसने लगे .

किशोर ने गप से लण्ड के सुपाड़े को अपने होठों के बीच दबोच लिया . होठों को आगे पीछे करते हुए लौड़े को चूसने लगा . वाहन चलाता ड्राइवर किशोर के सर को पकड़ कर हौले-हौले सहलाने लगा .


Read More Related Stories
Thread:Views:
  नेहा की चूत खोली-2 4,060
  नेहा की चूत खोली-1 4,190
 
Return to Top indiansexstories