कॉलेज गर्ल की चूत चुदाई
कॉलेज गर्ल की चूत चुदाई की न्यारी लीला


मेरा नाम राज है, मैं 28 साल का एक जवान लड़का हूँ, मैं दिखने में ख़ूबसूरत भी हूँ.. लेकिन काम में व्यस्त रहने के कारण मैं कभी कोई गर्लफ्रेंड नहीं बना पाया। मेरे पास इतना टाइम नहीं होता कि मैं किसी को गर्लफ्रेंड बना कर उसे टाइम दे सकूँ।
आप सब लोग तो जानते ही हैं कि आज कल लड़कियों को टाइम देने वाला लड़का ही पसंद आता है।

आज से 6 महीने पहले मैंने एक कॉलगर्ल को चोदा था.. मेरी यह कहानी उसी से शुरू होती है। लेकिन उस कॉलगर्ल को चोदने से मेरी सन्तुष्टि नहीं हुई थी। मैं एक ऐसी घरेलू किस्म की लड़की की तलाश में था.. जो मुझे संतुष्ट कर सके।

आखिर एक दिन आ ही गया जब मुझे दोबारा किसी लड़की को चोदने का मौका मिला।

एक दिन मेरे दोस्त और मेरा प्रोग्राम बना कि कल कोई एक कॉलगर्ल बुलाते हैं और फिर उसकी चुदाई करेंगे।

मेरे काम में बिजी होने के कारण मैं तो नहीं जा सका। मेरे दोस्त ने लड़की बुलाई और उसकी चुदाई की। अगले सप्ताह मैं फ्री था.. तो मैंने अपने दोस्त को कह दिया कि अबकी बार मैं फ्री हूँ.. तू किसी लड़की का जुगाड़ करवा दे।

उसने कॉल किया और किसी कॉलेज की लड़की से बात करके चुदाई की बात पक्की कर ली।

अगले दिन मैं उसके बताए हुए ठिकाने पर पहुँच गया। एक होटल में मेरा कमरा बुक था.. सो मैं उस कमरे में आ गया। थोड़ी देर बाद वहाँ पर एक सुन्दर सी लड़की आई और उसने कमरे में आकर दरवाज़ा बंद कर दिया।

वो मुझसे कहने लगी- इस तरह होटल कमरे में मुझे बहुत डर लगता है। कहीं कोई हमें ये सब करते हुए देख ना ले।
मैंने उससे कहा- कुछ नहीं होगा.. टेंशन मत लो।
उसने पास रखा हुआ गिलास उठाया और पानी पिया।

अब वो अपने कपड़े उतारने लगी। कपड़ों में ही क्या मस्त आईटम लग रही थी साली.. और अब तो नंगी होकर तो वो और भी मस्त गदराया हुआ माल निकली… क्या बताऊँ एकदम सोनाक्षी लग रही थी, उसकी 36 की चूचियां.. 28 की कमर और 34 की उठी हुई गांड थी।
सच में बड़ा ही मस्त माल थी।

उसका कामुक फिगर देखते ही मेरा लंड खड़ा होने लगा। उसने अपने गोरे बदन पर काली सलवार और काली कमीज पहनी हुई थी। उसने अपनी कमीज उतार कर एक साइड में रख दी और जैसे ही सलवार उतारी.. मैं उसको देखता ही रह गया।

आप समझ गए होंगे कि एक लौंडिया को नंगी होते देखने में कैसा लगता है। वो भी उस टाइम जब उसी लड़की के साथ जब कोई लड़का अपने मन की मुराद पूरी करने जा रहा हो।

फिर वो कपड़े उतारने के बाद वहीं मेरे साथ पलंग पर लेट गई। अब मैंने भी उठ कर अपने कपड़े उतारे और उसके बगल में लेट गया।
क्या बताऊँ दोस्तो.. क्या लग रही थी वो.. जैसे आसमान से उतरी हुई कोई अप्सरा हो।

मैंने अभी अपना अंडरवियर पहना हुआ था और उसने अभी अपनी ब्रा और पैंटी पहन रखी थी। उसके चूचे उसकी ब्रा से बाहर निकलने को आतुर थे।
मैंने उसको अपने पास आने का इशारा किया और वो मेरे करीब आकर लेट गई।

मैंने उसके होंठों पर किस करना शुरू किया और उसने भी मेरा साथ देना शुरू किया।
क्या पल था वो दोस्तो.. जो मैं उसके मदभरे होंठों का रस पी रहा था।

फिर मैंने उसके मम्मों को दबाना शुरू किया.. तो उसको हल्का-हल्का दर्द होने लगा- प्लीज जरा धीरे दबाओ.. दर्द होता है।
कुछ पल मम्मों का मजा लेने के बाद मैंने उसको पेट के बल लिटा कर उसकी कमर पर चूमना चालू कर दिया। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे पता नहीं वो कितने दिन से प्यासी हो। उसके हाव भाव से लग रहा था कि वो आज दिल खोल कर अपनी प्यास बुझाना चाहती हो।

मैंने धीरे से उसकी ब्रा का हुक खोल कर उसकी ब्रा को उसके जिस्म से अलग कर दिया। फिर उसको सीधा लिटा कर उसका एक चूचा मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया।
अब तो उसकी चुदास भड़क गई और वो बिन पानी की मछली की तरह तड़पने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज़ें उसके मुँह से निकलने लगीं।

मेरा लंड टाइट हो कर पूरा खड़ा हो चुका था, मैं धीरे-धीरे नीचे की तरफ किस करता हुआ जाने लगा, मैंने उसकी जांघों को किस किया और फिर उसकी पैंटी भी उतार कर एक तरफ रख दी।

क्या मस्त नज़ारा था दोस्तो.. एकदम मस्त क्लीन चूत थी.. एक भी बाल उसकी चूत पर नहीं था।

मैंने उसकी चूत को अपने हाथ से खोला और चूत की दोनों फांकों को अलग किया, एक उंगली उसकी चूत में डाली.. तो उसके मुँह से ‘आह..’ की आवाज़ निकल गई।
मुझसे भी अब बर्दाश्त कर पाना मुश्किल हो रहा था, मैंने अपना अंडरवियर निकाला और एक साइड में रख दिया, फिर उसकी चूत को देखा तो उसकी चूत गीली हो चुकी थी।

मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर रख कर धक्का मार दिया.. तो उसने ‘आह..’ की आवाज़ के साथ मेरा लंड अपनी चूत में ले लिया।
मैंने अब धक्के लगाने शुरू कर दिए और वो हर धक्के के साथ मेरा साथ देने लगी। मेरे हर धक्के के साथ उसकी आवाज़ उस कमरे में गूँज रही थी।

कुछ मिनट तक यूं ही धक्के लगाने के बाद मैंने उसको अपने ऊपर आने को कहा तो वो मेरे ऊपर आकर मुझे चोदने लगी, वो इतनी मस्ती से चुदाई कर रही थी जैसे कि वो मुझे ही चोदने आई हो।

थोड़ी देर तक धक्के देते-देते वो झड़ गई और निढाल होकर मेरे ऊपर लेट गई। अब मैंने उसको अपने नीचे लिया और फिर से धक्के लगाने के तैयार हो गया। उसकी चूत से उसका रस निकल रहा था.. तो मैंने उसको एक कपड़े से साफ़ किया और फिर अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया।

धीरे धीरे वो फिर से गर्म होने लगी। अब मैंने उसको फिर से पोजीशन बदलने को कहा.. तो पूछने लगी- बताओ कैसे हो जाऊँ?
मैंने उसको कुतिया बनने के लिए कहा, वो तुरन्त डॉगी स्टाइल में हो गई।

मैंने उसकी चूत में अपना लंड पीछे से पेल दिया और तेज़-तेज़ धक्के लगाने शुरू कर दिए। फिर से एक बार वो एकदम से अकड़ उठी और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया।

अब मुझसे कहने लगी- थोड़ा आराम कर लेने दो.. मैं बहुत थक गई हूँ.. मेरा 2 बार हो चुका है।
मैंने कहा- मेरा अभी तक नहीं हुआ।
उसने कहा- मैं तो थक गई हूँ।
मैंने कहा- थोड़ी देर और करने दे.. मेरा भी हो जाने दे।

वो सीधी हो कर लेट गई, अब मैंने उसके ऊपर आकर उसकी चुदाई चालू कर दी। हम दोनों को सेक्स करते हुए काफी देर हो चुकी थी। मगर मेरा अभी तक नहीं हुआ था।
मैं खुद पर हैरान था कि मेरा अभी तक पानी क्यों नहीं निकला।

कुछ मिनट और चोदा तो वो फिर गरम होने लगी.. मगर मैं था कि उसको चोदे ही जा रहा था। फिर कुछ मिनट बाद उसकी चूत ने फिर पानी छोड़ दिया। अभी तक मैं एक बार भी नहीं झड़ा था और वो 3 बार झड़ चुकी थी।

आप सभी लोग सोच रहे होंगे कि मैं बेकार की बात कर रहा हूँ.. मगर यह मेरी सच्ची घटना है.. जिसने मेरी जिंदगी बदल दी।

उसने उठ कर पानी पिया और बोली- मैंने आज तक तुम जैसा लड़का नहीं देखा जो लगातार इतनी देर से मुझे चोद रहा है और अब भी तुम्हारा लंड वैसे ही खड़ा है।

उसके चेहरे पर ऐसे भाव थे जैसे पता नहीं कितने दिनों की उसकी प्यास आज ही बुझी हो।
वो कहने लगी- मुझे जल्दी जाना है प्लीज आप अब जल्दी कर लेना।
कुछ मिनट का रेस्ट करने के बाद उसने कहा- अब आ जाओ।

मैंने उसको बिस्तर से नीचे उतरने को कहा, तो वो पलंग पर हाथ रख कर खड़ी हो गई। मैंने उसके मम्मों को पकड़ कर कसके उसकी चूत में लंड पेल दिया, उसके मुँह से फिर से ‘आह..’ निकल गई।

अब मैंने उसको और तेज़ धक्के लगाने चालू कर दिए दस मिनट के धक्कों के बाद मैंने उसको पलंग पर लिटा दिया और उसकी गांड के नीचे 2 तकिये लगा दिए। इससे उसकी चूत ऊपर की तरफ निकल कर आ गई। मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अबकी बार फिर धक्कों की रफ़्तार और तेज़ हो गई।

‘आह आह आह..’ वो तेज़-तेज़ ‘आहें..’ भर रही थी और मैं धक्के पर धक्के लगाए जा रहा था। वो फिर से एक बार और झड़ गई लेकिन अबकी बार मेरा भी होने वाला था.. तो मैंने धक्के लगाने चालू रखे कुछ ही धक्कों के बाद मेरा भी पानी उसकी चूत में ही निकल गया।

हमें चुदाई करते हुए काफी देर हो चुकी थी, वो बहुत ज्यादा थक चुकी थी लेकिन मैंने एक ही बार पानी छोड़ा था तो मेरा मन अभी नहीं भरा था।
अबकी बार मेरा मन उसकी गांड मारने का था। कुछ देर बाद मैंने उससे कहा- तू हाथ में मेरा लंड लेकर सहला दे।

वो कहने लगी- अभी फिर से करोगे क्या?
मैंने कहा- अभी मेरा मन नहीं भरा है, चल तू उल्टी होकर लेट जा, मैं तुझे और पैसे दूँगा।

वो मन मसोस कर औंधी हो गई, मैंने धीरे-धीरे अपना लंड पीछे से उसकी चूत पर रगड़ना चालू किया और मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।

अब मैंने लंड को धीरे से उसकी गांड में दबाना शुरू किया.. तो उसने आगे होकर गांड में से मेरा लंड निकाल दिया।
वो कहने लगी- मैं गांड में नहीं लूँगी।
मैंने नई तरकीब सोच कर उससे कहा- तो चल अब मुँह में ले ले।

उसने फिर से मना कर दिया, वो कहने लगी- अब तो मेरी चूत भी दर्द करने लगी है.. आपका पानी अबकी बार पता नहीं कितनी देर में निकलेगा?
मैंने उससे कहा- कोई नहीं.. बस थोड़ी देर और करने दे.. उसके बाद अपने घर चली जाना।

मैंने फिर उसकी कुछ मिनट तक अलग-अलग तरह से पोजीशन बदल-बदल कर उसकी धकापेल चुदाई की और उस दौरान उसकी चूत ने एक बार फिर से पानी निकाल दिया।

फिर वो रुआंसी होकर कहने लगी- अब मेरी चूत में जलन होने लगी है.. प्लीज निकाल लो।
मैंने उससे कहा- मुँह में लेगी.. तो ही निकालूँगा।
उसने कहा- ठीक है।

मैंने उसकी चूत से अपना लंड बाहर निकाल लिया और उसके मुँह में दे दिया।

क्या बताऊँ दोस्तों.. लंड चुसवाने का मज़ा ही अलग होता है। यह बात उनको ही पता है.. जिन्होंने अपने लंड को चुसवाया हो।

कुछ मिनट मुँह से चूसने के बाद ही मेरे लंड ने अपनी पिचकारी उसके मुँह में मार दी।

वो मुँह में मेरा माल लिए बाथरूम में चली गई और फिर फ्रेश होकर बाहर आ गई। उसने अपने कपड़े पहने.. पैसे लिए और घर चली गई।

जाने से पहले उसने मुझे एक बात कही- आज पहली बार आपने मुझको स्वर्ग दिखाया है। नहीं तो यार किसी लड़के के बस का ये नहीं है। आजकल के टाइम में कोई भी लौंडा मेरी जैसे किसी लड़की को पूरी तरह से संतुष्ट नहीं कर सकता है।
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

उसने जाते-जाते अपना फ़ोन नंबर दिया। उसके बाद उसने मुझे 5 दिन बाद कॉल करके कहा- एक और लड़की है.. जिसकी चुदाई आपको करनी है। इसके लिए मैं आपको पैसे भी दिलवाऊँगी।

मैंने उसको ‘हाँ’ बोल दिया और उसके बाद मेरी ज़िन्दगी ही बदल गई। मैं एक कॉलबॉय बन गया।
आगे मैंने कैसे और किस-किस को चोदा वो मैं आपको अपनी अगली कहानी में बताऊँगा
 


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
  कॉलेज गर्ल का बुर चोदन Le Lee 0 1,863 06-01-2017
Last Post: Le Lee
  कॉल गर्ल का पहला कॉल Fileserve 0 4,428 02-18-2011
Last Post: Fileserve
  दिल्ली वरजिन गर्ल की चुदाई-१ Fileserve 0 4,351 12-15-2010
Last Post: Fileserve
  दिल्ली वरजिन गर्ल की चुदाई-२ Fileserve 0 3,369 12-15-2010
Last Post: Fileserve
  मैरिड गर्ल फ़्रेन्ड Hotfile 0 2,980 11-09-2010
Last Post: Hotfile
  मेरी गर्ल-फ़्रेन्ड सिमरन Hotfile 0 2,782 11-08-2010
Last Post: Hotfile
  कॉलेज की दोस्त Rapidshare 0 2,553 09-22-2010
Last Post: Rapidshare