आशा की चूत
मेरी आशा की चूत से मेरे लौड़े का मिलन


दोस्तो, मेरा नाम सनी राय है, मैं धामपुर से हूँ। मैं दिखने में सीधा सा लड़का हूँ। मेरी हाइट 5.6’ है.. मेरा लण्ड भी ठीक-ठाक है।

मैं 3 साल से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ।
मैं अपने लण्ड को लेकर हमेशा सोचता रहता था कि मैं कैसे किसी लड़की को खुश कर सकता हूँ.. क्योंकि मूवी में जो भी दिखाते हैं.. उनका पता नहीं कैसे इतना बड़ा होता है। मैं इस बात को लेकर बहुत परेशान रहता था।

तभी अचानक कुछ ऐसा हुआ कि मेरी सारी परेशानी दूर हो गई।
बात कुछ दिनों पहले की है.. मैं अपनी कॉलेज की फ्रेंड के साथ बात करता रहता था। हम दोनों साथ में कॉलेज आते-जाते रहते थे। मेरी उस फ्रेण्ड की एक सहेली थी.. जिसका नाम आशा है.. उससे मेरी मुलाकात कॉलेज में हुई थी। वो देखने में एकदम मस्त माल थी.. उसका साइज 32-30-32 का होगा।

मैंने अपनी फ्रेण्ड से कहा- अपनी दोस्त आशा से मेरी सैटिंग करवा दो।
उसने कहा- उसका एक ब्वॉय-फ्रेण्ड है।
मैंने कहा- एक बार पता तो कर..
उसने कहा- चल मैं पता करती हूँ।
मैंने कहा- ठीक है।

दो दिन बाद उसका फोन आया- आशा पहले एक बार तुझसे मिलना चाहती है।
मैंने कहा- चल मिलवा दे।

अगले दिन मेरी फ्रेण्ड और आशा मेरे पास आए, हम सब कॉलेज में मिले।
मेरी फ्रेण्ड मुझे और आशा को अकेला छोड़ कर चली गई।

आशा ने मुझसे कहा- आप मुझसे कुछ कहना चाहते हो?
मैंने कहा- मुझे आप पहली बार में ही पसन्द आ गई हो, आपका कोई और ब्वॉयफ्रेण्ड है?
उसने कहा- है नहीं.. था..

मैं बहुत खुश हुआ।

कुछ देर यूं ही बातें होती रहीं.. फिर हमने एक-दूसरे का नम्बर लिया और वापस चले गए।

इसके बाद हमारा सारा टाइम फोन पर बात करके निकलने लगा।

धीरे-धीरे हम सेक्सी बातें करने लगे।

एक दिन उसने मुझसे पूछा- आपका लण्ड कितना लम्बा और मोटा है़?
मैंने कहा- 6 इंच का..
उसने कहा- कुछ छोटा नहीं है?
मैंने कहा- पहले एक बार लेकर तो देखो.. फिर बताना कि छोटा है या मोटा।

आशा बहुत जोर से हँसने लगी।

फिर हमने दो दिन बाद एक होटल पर मिलने का प्रोगाम तय किया।
हम निर्धारित टाइम पर होटल पर मिले.. कमरे में जाते ही हम एक-दूसरे से चिपक गए।

क्या कहूँ.. ऐसा लगा पता नहीं कितने टाइम से प्यासे आदमी को पानी मिल गया हो।

मैंने आशा के होंठों को अपने होंठों से चिपका लिया। मैं इतनी जोर से किस करने लगा कि वो सहन ना कर सकी।

वो मुझसे दूर होकर कहने लगी- सनी इतनी जोर से मत करो यार.. मुझे दर्द हो रहा है।
मैंने कहा- तुमको मजा नहीं आया?
उसने कहा- मजा तो आया.. पर दर्द होता है।
मैंने कहा- दर्द में ही तो मजा है।

मैं आशा को फिर से किस करने लगा और उसके मम्मों को इतनी जोर से दबाने लगा कि उसके मुँह से ‘आह.. आहह..’ की आवाज निकलने लगी।

मुझे आशा ने ऐसे पकड़ लिया कि हम दोनों एक-दूसरे में समाने को हों। मैंने आशा को बिस्तर पर लिटा लिया और उसका टॉप उतार दिया और आशा की ब्रा में मुँह घुसेड़ कर उसके चूचे चूसने लगा।

आशा बस ‘आह.. आहह.. आहहहहह..’ कर रही थी और कह रही थी- सनी धीरे-धीरे..
पर मैं उसे मसलता ही रहा।

मैंने आशा की जींस खोली और देखा कि वो बिना पैन्टी के थी।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
उसकी चिकनी चूत को देख कर मैं तो पागल हो गया और उसकी चूत को हाथ से खोलकर चाटने लगा। आशा मछली की तरह तड़प रही थी।

मैंने आशा की ब्रा का हुक खोल कर उसके निप्पल चूसने लगा.. आशा की तड़प बहुत जोर से बढ़ने लगी।
मैं उसके निप्पल ऐेसे चूस रहा था कि जैसे कभी पहले ना चूसे हो।
मैंने चूस-चूस कर उसके मम्मों को लाल कर दिया।

फिर आशा मेरा लण्ड मुँह में लेकर चूसने लगी.. वो भी मेरी तरह बहुत जोर-जोर से चूस रही थी.. जैसे आज लौड़े को खा ही जाएगी।
मेरे मुँह से ‘आहाहह..’ के अलावा कुछ नहीं निकल रहा था।
मैं फिर से आशा की चूत चाटने में लग गया।

आशा कहने लगी- सनी.. बस अब मत तड़पाओ.. अन्दर डाल दो।

मैं भी तैयार था.. मैं जल्दी ही आशा की टांगों के बीच में आ गया और उसकी चूत के छेद में अपना लण्ड टिका दिया, उसके होंठों को अपने होंठों की गिरफ्त में ले लिया।

अब मैंने धीरे से दबाब डाला और मेरा लण्ड उसकी चूत में घुसता चला गया। वो छूटने की बहुत कोशिश कर रही थी.. पर अपने आप को छुड़ा नहीं पाई।

उसकी आँखों से आंसू आ रहे थे।

मैं उसके मम्मों को दबाने लगा। जब उसे थोड़ा आराम आया.. तब मैंने एक जोरदार धक्का मारा। मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में घुस गया। वो और जोर से मचलने लगी.. पर मैं धक्के मारता रहा। आशा केवल ‘आहा.. आहाहहह..’ कर रही थी।

मैं जोर से धक्के मारता रहा.. फिर मैंने आशा को एक टेबल पर खड़ा किया और पीछे से उसे चोदने लगा। ऐसे में आशा को और ज्यादा मजा और दर्द दोनों हो रहा था।

इसी बीच आशा दो बार झड़ चुकी थी।

मुझे भी मजा आ रहा था। कुछ देर बाद मेरा भी निकलने वाला था.. पर मैं इतने जोश में था कि मैंने सारा माल आशा की चूत में छोड़ दिया।
हम दोनों शान्त होकर बिस्तर पर लेट गए।

उस पूरे दिन और रात को मिलाकर हमने 3 बार सेक्स किया और अपनी सारी कामनाएँ पूरी की।

अगले दिन मैंने आशा से पूछा- मेरा लण्ड छोटा या मोटा?
उसने कहा- जैसा भी था मस्त था।

अब जब भी हमें मौका मिलता है.. हम घर पर ही चुदाई करते हैं।

 
Return to Top indiansexstories